comScore

बीएसएनएल की इमारतें लीज पर, अधिकांश कर्मचारी भी वीआरएस लेने के मूड में

बीएसएनएल की इमारतें लीज पर, अधिकांश कर्मचारी भी वीआरएस लेने के मूड में

डिजिटल डेस्क, नागपुर। भारत संचार निगम लिमिटेड (बीएसएनएल) अगले साल से अपने आॅफिस व प्राइम लोकेशन की इमारतों को लीज या किराए से देने पर गंभीरता से विचार कर रहा है। नागपुर में बीएसएनएल के ऑफिस कई प्राइम लोकेशन पर हैं और इन्हें भी किराए से देने पर विचार हो रहा है। बीएसएनएल द्वारा लाई गई स्वेच्छिक सेवानिवृत्ति (वीआरएस) पॉलिसी को जिस तरह जबरदस्त प्रतिसाद मिल रहा है, उसे देखते हुए 31 जनवरी तक बीएसएनएल आधे से ज्यादा खाली हो जाएगा।

नागपुर जिले में बीएसएनएल के कुल 30 एक्सचेेंज हैं, जिसमें शहर के 14 और ग्रामीण के 16 एक्सचेंज शामिल हैं। इसके अलावा जीरो माइल स्थित मुख्यालय व सीटीओ कंपाउंड की भव्य इमारतें भी हैं। समय के साथ बीएसएनएल का स्टाॅफ कम होते जा रहा है। वीआरएस पालिसी के बाद आैर तेजी से स्टाफ कम हो रहा है। जिले में लगभग 1000 अधिकारी-कर्मचारी हैं, जिसमें से 550 कर्मचारी अभी तक वीआरएस के लिए आनलाइन आवेदन कर चुके हैं। 3 दिसंबर तक वीआरएस के लिए आवेदन किए जा सकते हैं। 50 साल की आयु पूर्ण कर चुके कर्मचारी वीआरएस के लिए आवेदन कर सकते हैं। बीएसएनएल की ओर से इन्हें 1 फरवरी से कार्यमुक्त कर दिया जाएगा। 1 फरवरी से जिले में बीएसएनएल के मुश्किल से 400 कर्मचारी रहने की उम्मीद है।

किराए पर दीं दो इमारतें 
बीएसएनएल इसके पूर्व शहर में अपनी दो इमारतें लीज पर दे चुका है। सीए रोड स्थित इतवारी टेलीफोन एक्सचेंज का एक माला व कस्तूरचंद पार्क स्थित संचार लक्ष्मी इमारत को लीज पर दिया गया है। इतवारी टेलीफोन एक्सचेंज में अभी भी काफी जगह व कार्यालय है, जो भविष्य में लीज पर दी जा सकती है।

कार्पोरेट आफिस लेगा निर्णय 
बीएसएनएल की इमारतों व कार्यालयों को लीज या किराए पर देने का अंतिम निर्णय कारपोरेट आफिस से ही होगा। इमारतों व कार्यालयों को लीज पर देकर राजस्व प्राप्त करने का उद्देश्य है। बीएसएनएल के पास जिले में जितनी इमारतें व कार्यालय हैं, उस हिसाब से स्टाॅफ काफी कम हो गया है। बीएसएनएल के कामकाज व स्टाॅफ को देखते हुए वर्तमान इमारतें व कार्यालय काफी ज्यादा हैं। संचार क्रांति के बाद निजी सेलुलर कंपनियां जिस तेजी से मार्केट में आईं, उससे बीएसएनएल का एकछत्र राज भी प्रभावित हुआ है।

कंपनी की पाॅलिसी 
बीएसएनएल कर्मचारी 3 दिसंबर तक वीआरएस के लिए आनलाइन आवेदन कर सकते हैं। जिले में 50 फीसदी से ज्यादा कर्मचारी आवेदन कर चुके हैं। जिले में बीएसएनएल की कई इमारतें व कार्यालय हैं। काम के हिसाब से जगह ज्यादा है। बची हुई जगह, इमारतें  या कार्यालय लीज पर देना कंपनी की पालिसी का हिस्सा है। जगह व कार्यालय किराए से देकर कंपनी को राजस्व प्राप्त होगा। लीज पर अंतिम मुहर कार्पोरेट ऑफिस ही लगाएगा। 
- समीर खरे, जनसंपर्क अधिकारी, बीएसएनएल नागपुर
 

कमेंट करें
rVIDH