दैनिक भास्कर हिंदी: छिंदवाड़ा: कोरोना से 18 मरीजों की मौत, अब तक का सबसे बड़ा आंकड़ा, 86 नए संक्रमित मिले

March 31st, 2021



डिजिटल डेस्क छिंदवाड़ा। जिले में कोरोना महामारी अब अपना विकराल रूप दिखा रही है। कोरोना संक्रमण और मौतों की विस्फोटक स्थिति सामने आ रही है। बुधवार को जिला अस्पताल की कोविड यूनिट में भर्ती मरीजों में से 18 की इलाज के दौरान मौत हो गई। जबकि सिम्स लैब से जारी रिपोर्ट में 40 नए कोरोना संक्रमित मिले हैं। वहीं दूसरी ओर सोमवार को 9 मरीज और मंगलवार को 6 मरीजों की इलाज के दौरान मौत हुई है। इस तरह बीते तीन दिनों में जिले में 33 मरीजों की मौत हुई है। वहीं 86 नए संक्रमित मिले हैं। वहीं पिछले तीन दिनों में ठीक होकर अस्पताल से लौटने वालों का आंकड़ा 83 है।
स्वास्थ्य अधिकारियों के अनुसार इन तीन दिनों में मृत मरीजों में बुजुर्गों के साथ युवा भी शामिल हंै। बुधवार को एक दिन में 18 मौतें कोरोनाकाल की अब तक की सर्वाधिक मौतें हैं। वहीं शहरी क्षेत्र के साथ ग्रामीण इलाकों से सर्वाधिक कोरोना संक्रमित मिल रहे हंै।
बुरे हालात... एक बार में दो से तीन शव ले गए मोक्षधाम-
जिला अस्पताल के कोविड शवगृह के बाहर मातम पसरा हुआ था। यहां मृतकों के परिजनों का रो-रो कर बुरा हाल था। मृतकों की संख्या भी इतनी अधिक थी कि नगरनिगम अमले के सामने यह हालात बने कि एक शव वाहन में ही दो से तीन शवों को अंतिम संस्कार के लिए ले जाना पड़ा।
सरकारी आंकड़ा... कोरोना से चार मौतें-
शहर के मोक्षधाम में बुधवार को कोरोना प्रोटोकॉल के तहत एक के बाद एक 17 मृतकों का अंतिम संस्कार किया गया। जबकि सरकारी आंकड़ों के मुताबिक बुधवार को कोरोना से सिर्फ एक की मौत हुई है। वहीं सोमवार से बुधवार तक यानी तीन दिनों में सिर्फ चार लोगों की मौत होना बताया जा रहा है। शेष अन्य मृतक संदिग्ध थे जिनका कोरोना प्रोटोकॉल के तहत अंतिम संस्कार किया गया।
सर्दी-खांसी और बुखार में न बरतें लापरवाही-
इधर जिला प्रशासन ने मंगलवार को प्रेसवार्ता के माध्यम से लोगों से अपील की है कि सर्दी-खांसी और बुखार होने पर व्यक्ति स्वयं घर में इलाज न करें। इसी तरह की लापरवाही कोरोना की इस दूसरी लहर में घातक साबित हो रही है। जिला पंचायत सीईओ गजेन्द्र ङ्क्षसह नागेश ने बताया कि कोविड के मरीजों को इलाज दे रहे चिकित्सकों के अनुसार संक्रमित देरी से अस्पताल पहुंच रहे है। इस वजह से हालात उनके काबू में नहीं आ रहे है। जिला प्रशासन ने सामान्य सर्दी-खांसी और बुखार से पीडि़त मरीजों से भी अपील की है कि वे चिकित्सकों से ही इलाज कराएं।  
सोमवार को मौत की स्थिति
- गुढ़ीअम्बाड़ा निवासी 35 वर्षीय युवक।
- लिंगा निवासी 76 वर्षीय बुजुर्ग।
- सिवनी के बरघाट निवासी एक मृतक।
- लिंगा निवासी 60 वर्षीय बुजुर्ग।
- लिंगा निवासी 85 वर्षीय महिला।
- गोरलीखापा निवासी 65 वर्षीय बुजुर्ग।
- उमरेठ के पाठा निवासी 28 वर्षीय युवक।
- अमरवाड़ा के पोनार बाजार निवासी 72 वर्षीय बुजुर्ग।
- रामाकोना निवासी 52 वर्षीय अधेड़।
मंगलवार को मौत की स्थिति-
- चौरई निवासी 72 वर्षीय बुजुर्ग।
- बिछुआ निवासी 50 वर्षीय शख्स।
- परासिया रोड निवासी 68 वर्षीय बुजुर्ग।
- जुन्नारदेव बाम्हनवाड़ा निवासी 36 वर्षीय युवक।
- पुलिस लाइन निवासी 75 वर्षीय बुजुुर्ग।
- थावरीकलां निवासी 70 वर्षीय बुजुर्ग।
बुधवार को मौत की स्थिति-
- सौंसर के मोहगांवहवेली निवासी 75 वर्षीय बुजुर्ग।
- चांद के ग्राम धमनिया निवासी 73 वर्षीय महिला।
- सौंसर निवासी 35 वर्षीय युवक।
- छोटीबाजार निवासी 63 वर्षीय बुजुर्ग।
- सौंसर के ग्राम बेरडी निवासी 65 वर्षीय बुजुर्ग।
- चौरई के ग्राम गुरैया निवासी 62 वर्षीय महिला।
- दमुआ निवासी 65 वर्षीय बुजुर्ग।
- बिछुआ निवासी 44 वर्षीय युवक।
- ईशानगर निवासी 61 वर्षीय बुजुर्ग।
- उमरानाला निवासी 55 वर्षीय महिला।
- मोहन नगर निवासी 85 वर्षीय महिला।
- बड़कुही निवासी 65 वर्षीय महिला।
- श्रीवास्तव कॉलोनी निवासी 61 वर्षीय बुजुर्ग।
- गणेश कॉलोनी निवासी 85 वर्षीय महिला।
- पुराना पावर हाउस निवासी 65 वर्षीय बुजुर्ग।
- गुलाबरा निवासी 82 वर्षीय बुजुर्ग।
- सौंसर निवासी 71 वर्षीय बुजुर्ग।
- एक मृतक का कब्रिस्तान में अंतिम संस्कार किया गया।

 

खबरें और भी हैं...