दैनिक भास्कर हिंदी: बिजली की आंख मिचौली से परेशान हैं छिंदवाड़ा के लोग, मुख्यमंत्री का है जिला

June 6th, 2019

डिजिटल डेस्क, छिंदवाड़ा। भरी गर्मी में सामने आ रहे बिजली फाल्ट लोगों को भारी पड़ रहे हैं। छुटपुट फाल्ट से बिजली गुल होने की समस्या शहर में लगभग हर दिन सामने आ रही है, जिसका सोशल मीडिया पर खूब हल्ला मच रहा है। बिजली कंपनी के अधिकारी तापमान के साथ ही लोड बढऩे से फाल्ट बता रहा है। प्रदेश सरकार को हिदायत देने की नौबत आ रही है। ऐसे में दैनिक भास्कर ने बिजली को लेकर बनी स्थिति की तह में जाने की कोशिश की तो पता चला कि बिजली कंपनी मेंटेनेंस ही नहीं कर पाई है। मेंटेनेंस नहीं कर पाने की उसकी मजबूरी भी बड़ी मानी जता रही है। 

दरअसल बिजली कंपनी साल में दो बार मेंटेनेंस करती है। पहला सितंबर माह में दीपावली से पहले पोस्ट मानसून और दूसरा मार्च-अप्रैल में प्री मानसून मेंटेनेंस होता है। बिजली कंपनी से जुड़े सूत्रों के मुताबिक विधानसभा चुनाव के कारण कंपनी पोस्ट मानसून मेंटनेंस नहीं कर पाई। प्री मानसून मेंटेनेंस के दौर में लोकसभा के चुनाव आ गए। ऐसे में मेंटेनेंस लेट हो गया। 30 मई से बिजली कंपनी ने प्री मानसून मेंटेनेंस शुरू किया है। 

बीते वर्ष की तुलना में हर दिन 10 लाख यूनिट अधिक खपत
छिंदवाड़ा में पिछली गर्मी यानी मई-जून में 30 लाख यूनिट प्रतिदिन बिजली की खपत थी। इस बार भीषण गर्मी लोगों को कूलर, पंखे व एसी से हटने नहीं दे रही है, जिससे बिजली की खपत 8 से 10 लाख यूनिट बढ़ गई है। वर्तमान में करीब 42 लाख यूनिट बिजली हर दिन खर्च हो रही है। 

जंपर- केबल जल रहे, बिजली गुल से लोग परेशान
शहर में किसी न किसी इलाके में बिजली गुल की समस्या हर दिन सामने आ रही है। विवेकानंद कॉलोनी, प्रियदर्शिनी कॉलोनी और बसंत कॉलोनी क्षेत्र में जंपर व केबल जलने की घटनाओं से बड़े क्षेत्र में घंटों बिजली गुल की नौबत बनी थी। बुधवार को बड़वन और खजरी क्षेत्र में कई बार ट्रिपिंग की स्थिति बनी। 

नए काम भी अटके -150 ट्रांसफार्मर लगाए जाने शेष
चुनाव के चलते बिजली व्यवस्था से जुड़े निर्माण कार्य भी प्रभावित हुए। मानसून अगले एक पखवाड़े में दस्तक दे सकता है। बिजली कंपनी से जुड़े सूत्रों के मुताबिक जिले में लगभग 150 ट्रांसफार्मर लगाए जाने हैं। जो पहले इसलिए नहीं लगाए जा सके कि परमिट लेकर सप्लाई बंद करनी पड़ती। 

एसई का कहना
जिले में बिजली सप्लाई की स्थिति बेहतर है। पिछले साल की तुलना में खपत ज्यादा है। गर्मी अधिक होने की वजह से फाल्ट आ रहे हैं, जिन्हें तुरंत सुधार लिया जा रहा है। बड़े फाल्ट जैसी स्थिति नहीं है। मेंटेनेंस के लिए ग्राउंड पेट्रोलिंग पहले ही करा ली गई थी। इससे जब भी मौका मिला मेंटेनेंस का कार्य किया गया है। अभी प्री मानसून मेंटेनेंस किया जा रहा है। 
- वायके सिंघई, एसई, विद्युत वितरण कंपनी