comScore

दिल्ली में डटे शहर कांग्रेस पदाधिकारी, राहुल गांधी को दिया नागपुर आने का न्यौता

July 26th, 2018 17:21 IST
दिल्ली में डटे शहर कांग्रेस पदाधिकारी, राहुल गांधी को दिया नागपुर आने का न्यौता

डिजिटल डेस्क, नागपुर। संगठन कार्य की जानकारी वरिष्ठों को देने के नाम पर शहर कांग्रेस के पदाधिकारी दिल्ली में डटे हुए हैं। शहर अध्यक्ष विकास ठाकरे के नेतृत्व में कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं से मिल रहे हैं। गुरुवार को ठाकरे ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से भी मुलाकात की। शहर कांग्रेस की ओर से कहा गया है कि राहुल गांधी को नागपुर में आकर कार्यकर्ताओं को संबोधित करने का न्यौता दिया गया है। हालांकि पार्टी से ही जुड़े जानकार सूत्र का कहना है कि शहर कांग्रेस के पदाधिकारियों के इस दिल्ली दौरे का उद्देश्य अलग है। लोकसभा व विधानसभा चुनाव की तैयारी को देखते हुए राज्य में विभाग व जिला स्तर पर संगठनात्मक फेरबदल के आसार हैं। कुछ नेताओं को दी गई जिम्मेदारियों में भी फेरबदल करने की तैयारी चल रही है। लिहाजा शहर कांग्रेस की ओर से मुत्तेमवार गुट के कार्यकर्ता चुनावी रणनीति के तहत कुछ विषयों पर पार्टी शीर्ष को कन्वेंस करने की तैयारी में हैं।

गौरतलब है कि शहर कांग्रेस में गुटबाजी लंबे समय से चल रही है। पूर्व केंद्रीय मंत्री विलास मुत्तेमवार के समर्थक गुट में शहर अध्यक्ष व उनके सहयोगियों का नाम गिनाया जाता है। इस गुट में कांग्रेस के प्रदेश सचिव उमाकांत अग्निहोत्री, शहर महासचिव अभिजीत वंजारी, पूर्व नगरसेवक प्रशांत धवड़, नगरसेवक नितीन ग्वालवंशी, विवेक निकाेसे व अन्य शामिल हैं। सभी पदाधिकारी दो दिन से दिल्ली में हैं। बुधवार को उन्होंने दिल्ली के अखिल भारतीय कांग्रेस कार्यालय में महाराष्ट्र कांग्रेस के सह प्रभारियों से मुलाकात की थी। गुरुवार को कांग्रेस के कोषाध्यक्ष मोतीलाल बोरा, महासचिव अशोक गहलोत से मुलाकात की। दोपहर में राहुल गांधी से शहर अध्यक्ष विकास ठाकरे ने अकेले मुलाकात की। 

क्या कहा है शहर कांग्रेस ने 
शहर कांग्रेस की ओर से कहा गया है कि राहुल गांधी को नागपुर में पार्टी कार्यकर्ताओं को संबाेधित करने के लिए आने का न्यौता दिया गया है। उन्हें बताया गया है कि नागपुर में कांग्रेस ने 1945 बूथ पर कार्यकारिणी का गठन किया है। 20 हजार बूथ कार्यकर्ताताओं को प्रशिक्षित करने के लिए शिविर का आयोजन किया जा रहा है। राहुल गांधी से निवेदन किया गया है कि संघ मुख्यालय होने के कारण नागपुर में आकर कांग्रेस अध्यक्ष कार्यकर्ताओं को ताकत दें। 
 
राहुल गांधी से  शिकायत
जानकार सूत्र के माने तो शहर कांग्रेस के मुत्तेमवार गुट के पदाधिकारी अन्य नेताओं की शिकायत लेकर दिल्ली पहुंचे हैं। शहर संगठन की जानकारी प्रदेश अध्यक्ष या प्रदेश की स्क्रूटनी कमेटी को दी जाती है। राष्ट्रीय अध्यक्ष जिला स्तर पर संगठन कार्य की समीक्षा नहीं करता है। राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष व महासचिव भी किसी जिला विशेष पर संगठन कार्य नहीं देखते हैं। लिहाजा दिल्ली में शीर्ष नेताओं से मुलाकात का उद्देश्य निश्चित ही अलग रहेगा।

राहुल गांधी ने हाल ही में कांग्रेस की कार्य समिति की घोषणा की है। उसमें विलास मुत्तेमवार को स्थान नहीं मिल पाया है। अन्य गुट के नेता नितीन राऊत को एससी सेल के अध्यक्ष के नाते कार्य समिति में स्थान दिया गया है। अविनाश पांडे व मुकुल वासनिक पहले ही स्थान पा चुके हैं। लिहाजा मुत्तेमवार गुट को झटका लगा है।

प्रदेश में प्रत्येक जिले में कांग्रेस के संगठन चुनाव की प्रक्रिया पूरी हुई है। लेकिन नागपुर की प्रक्रिया रोक दी गई है। लिहाजा यहां शहर अध्यक्ष को अपना नेता मानने , नहीं मानने के प्रश्न को लेकर गुट बना है। शहर कांग्रेस के कार्यों में सहायता के बजाय अन्य गुट के कार्यकर्ता अलग से शक्ति प्रदर्शन करने लगते हैं। मार्च 2017 में विकास ठाकरे के ही नेतृत्व में कार्यकर्ताओं ने दिल्ली में राहुल गांधी से शहर कांग्रेस की स्थिति पर चर्चा व कुछ नेताओं की शिकायत की थी। तब राहुल गांधी कांग्रेस के उपाध्यक्ष थे।

शहर कांग्रेस के अन्य गुट के कार्यकर्ताओं व नेताओं ने तो प्रदेश अध्यक्ष व प्रदेश प्रभारी को ही पद से हटाने की मांग कर दी थी। कांग्रेस के अध्यक्ष बनने के बाद राहुल गांधी ने महाराष्ट्र कांग्रेस में संगठनात्मक फेरबदल के कार्य को गति दी। प्रदेश प्रभारी मोहन प्रकाश को हटा दिया गया। लोकसभा चुनाव में शहर कांग्रेस का नेतृत्व करने की तैयारी कर रहा मुत्तेमवार गुट अन्य नेताओं के गुट की सक्रियता से परेशान है। लिहाजा वे शीर्ष नेताओं की परेशानी दूर करने का निवेदन करने दिल्ली पहुंचे हैं। 

कमेंट करें
T8Drf