दैनिक भास्कर हिंदी: बढ़ते कोरोना संक्रमण और मौतों के आंकड़ों पर कांग्रेस ने चिंता जताई

September 12th, 2020

कलेक्टर से मिले पांच विधायक और कांग्रेस नेता, कहा- कोरोना संक्रमितों की देखरेख में कोताही बरती जा रही
डिजिटल डेस्क छिंदवाड़ा
। जिले में बढ़ते कोरोना संक्रमण और कोरोना मरीजों की मौतों  के आंकड़ों पर कांग्रेस ने चिंता जाहिर की है। शुक्रवार को पांच विधायकों सहित प्रमुख पदाधिकारी कलेक्टर से मिले। कांग्रेस प्रतिनिधिमंडल ने शासन व प्रशासन से जिला चिकित्सालय में उपलब्ध व्यवस्थाओं को अपर्याप्त मानते हुए कलेक्टर से मांग की कि स्वास्थ्य सुविधाओं में इजाफा किया जाना चाहिए। आइसोलेशन वार्ड सहित वेंटीलेटर व उत्तम भोजन व्यवस्था के साथ हर मरीज की प्र्याप्त देखरेख की जानी चाहिए। जबकि इसके विपरीत कोरोना संक्रमितों की देखरेख में कोताही बरती जा रही है। प्रतिनिधिमंडल में जिला कांग्रेस अध्यक्ष गंगाप्रसाद तिवारी, विधायक सोहन वाल्मिक, सुनील उइके, सुजीत चौधरी, विजय चौरे व नीलेश उइके, कार्यवाहक अध्यक्ष विश्वनाथ ओकटे व गोविंद राय शामिल थे।  कलेक्टर से भेंटकर वस्तुस्थिति की जानकारी चाही साथ ही वर्तमान में उपलब्ध चिकित्सा संसाधनों के साथ ही साथ बरती जाने वाली सावधानियों पर भी विस्तृत चर्चा की।
हर विधानसभा में 15-20 बैड का कोविड वार्ड बनाने सुझाव दिया:
कांग्रेस प्रतिनिधिमंडल ने कलेक्टर से चर्चा में कहा कि जिले की हर एक विधानसभा में सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों में कोरोना से संक्रमित मरीजों के लिए 15 से 20 बैड का अलग से एक वार्ड सर्वसुविधायुक्त बनाया जाए। जिससे जिला अस्पताल में मरीजों का भार कम हो सके और मरीजों को उचित उपचार एवं व्यवस्था मिल सके।
क्वारेंटाइन सेंटर की अव्यवस्थाओं से अवगत कराया
कांग्रेस विधायक व नेताओं ने प्रत्येक विधानसभा क्षेत्रों में बनाए गए क्वारेंटाइन सेंटर में बरती जा रही अनियमिता व अव्यवस्थाओं पर भी चर्चा की। कहा कि सेंटरों में आश्रित लोगों को पर्याप्त भोजन प्राप्त नहीं हो रहा है एवं साफसफाई का भी अभाव है जिससे उन्हें परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।  यह भी कहा कि होम क्वारेंटाइन है या सेंटर में रखे गए लोगों के सेंपल लेने में बढ़ोत्तरी की जाए।
किडनी रोग से पीडि़त संक्रमितों का अलग उपचार हो
परासिया विधायक सोहन वाल्मिक ने ऐसे संक्रमित जो किडनी रोग से पीडि़त हैं उनके डायलिसिस की अलग व्यवस्था किए जाने की बात कही। कलेक्टर ने व्यवस्था बनाए जाने का आश्वासन भी दिया। गौरतलब है कि अस्पताल की डायलिसिस यूनिट पर आश्रित किडनी मरीजों ने कोरोना संक्रमितों का डायलिसिस अलग किए जाने की मांग रखी थी। उन्होंने संक्रमण बढऩे की आशंका जताई थी।
 

खबरें और भी हैं...