दैनिक भास्कर हिंदी: कोरोना अपडेट: तीन कोरोना संदिग्ध महिलाओं की मौत, सौंसर के देवी में दहशत

March 22nd, 2021



डिजिटल डेस्क छिंदवाड़ा। जिले में कोरोना संक्रमण भयावह रूप ले रहा है। खासकर महाराष्ट्र की सीमा से लगे गांव और छिंदवाड़ा शहर की स्थिति लगातार चिंताजनक होती जा रही है। सोमवार को सौंसर के देवी गांव की दो महिलाओं सहित तीन कोरोना संदिग्ध महिलाओं ने जिला अस्पताल में दम तोड़ दिया। वहीं जिले में 23 नए संक्रमित मरीज मिले हैं। जिला अस्पताल के कोविड वार्ड में कोराना संदिग्ध के रूप में इलाज करा रही सौंसर के देवी गांव की एक 35 वर्षीय महिला और एक 45 वर्षीय महिला ने सोमवार को दम तोड़ दिया है। इसके अलावा मोहखेड़ क्षेत्र के खैरवाड़ा की कोरोना संदिग्ध एक 55 वर्षीय महिला की मौत हो गई। तीनों मरीजों का अंतिम संस्कार कोरोना प्रोटोकॉल के तहत कराया गया है। वहीं सोमवार को आरटीपीसीआर लैब से जारी जांच रिपोर्ट में 23 नए संक्रमित मरीज शहर के विभिन्न क्षेत्रों और जिले के कई ग्राम व नगरों में मिले हैँ। इन मरीजों के उपचार की व्यवस्था स्वास्थ्य महकमा कर रहा है।
इन क्षेत्रों में मिले नए संक्रमित -
सोमवार को आईटीपीसीआर लैब से जारी रिपोर्ट में 23 की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। इनमें तामिया क्षेत्र के 4, रामाकोना से 1, पटेल कॉलोनी से 1, जुंगावानी से 1, परासिया से 1, सुभाष कॉलोनी से 2, देवी से 2, चौरई से 1, रेलवे कॉलोनी छिंदवाड़ा से 1, पहाड़े कॉलोनी से 1, अमरवाड़ा से 1, सिंगोड़ी बांकानागपुर से 1, शंकर नगर संचार कॉलोनी से 1, सौंसर से 2, फे्रंसड कॉलोनी से 1, जुन्नारदेव से 1, एवं लिंगा से 1 मरीज संक्रमित मिला है।
सौंसर के देवी में दहशत, नही बढ़ा पा रहे टैस्ट
सौंसर के देवी में एक साथ सैकड़ों लोग बीमार हैं। सोमवार को जिन दो कोरोना संदिग्ध महिलाओं की मौत हुई है, वे भी सौंसर के देवी की रहने वाली थी। इन महिलाओं की मौत के बाद गांव में और दहशत का माहौल बन गया है। हालांकि सोमवार को भी यहां से दो पॉजिटिव मरीज मिले हैं। गांव में कई लोग अब भी बीमार हैं और उनकी जांच भी नही हो पा रही है।
संक्रमित के अंतिम संस्कार में शामिल हुए 200 लोग, टीम पहुंची
बुधवारी बाजार के कोरोना संक्रमित के अंतिम संस्कार में शामिल हुए क्षेत्र के लगभग 200 लोगों की जांच करने सोमवार को भी स्वास्थ्य विभाग की टीम पहुंची, लेकिन किसी का भी सैंपल नही ले पाई है। यह कोरोना संक्रमित 18 मार्च को बीमार होने पर जिला अस्पताल में भर्ती हुआ था। लक्षण मिलने पर उसका स्वाव सैंपल लिया गया। लेकिन रात में ही मरीज वार्ड से भागकर अपने घर चला गया। 19 मार्च को उसकी मौत घर में ही हो गई और अंतिम संस्कार में लगभग 200 लोग शामिल हुए थे। 19 मार्च को आरटीपीसीआर लैब से जारी रिपोर्ट में मृतक पॉजिटिव आने पर प्रशासन ने मृतक के घर को कंटेनमेंट क्षेत्र घोषित किया लेकिन अब तक उसके परिवार या अंतिम संस्कार में शामिल लोगों के सैंपल नही लिए गए हैं।

खबरें और भी हैं...