दैनिक भास्कर हिंदी: Crime : कहीं कारोबारी से धोखाधड़ी, तो कहीं प्रॉपर्टी डीलर से हफ्ता, डकैती की योजना बना रहे 5 गिरफ्तार

February 14th, 2021

डिजिटल डेस्क, नागपुर। लकड़गंज क्षेत्र के एक दाल मिल कारोबारी की बेटी  को वर्धा के मेडिकल कॉलेज में प्रवेश दिलाने के नाम पर दो आरोपियों ने 5 लाख रुपए का चूना लगा दिया। पुलिस ने दाल मिल कारोबारी प्रताप कंजवानी (45) की शिकायत पर आरोपी रवि लखन परियाल (35), निर्मल बेकरी रोड, भामटीपुरा, वर्धा और अमोल मस्के (40), अर्पण अपार्टमेंट, नालवाड़ी वर्धा निवासी पर धारा 406, 420, 468, 471, 34 के तहत मामला दर्ज किया है। पुलिस के अनुसार प्रताप कंजवानी ने बताया कि, उनकी बेटी को मेडिकल में प्रवेश दिलाने के लिए 6 जुलाई 2019 को शाम करीब 5 से 6 बजे के दरमियान उनके साले ने आरोपी रवि परियाल का मोबाइल नंबर दिया। आरोपी ने प्रताप को फोन कर छापरू नगर चौक मंे गार्डन के सामने मिलने बुलाया। जब प्रताप वहां पहुंचे तब आरोपी बेटी का मेडिकल में प्रवेश कराने के लिए 15 लाख रुपए खर्च बताया। बाद में प्रताप ने रवि को फोन किया और प्रवेश दिलाने की बात कही। आरोपी ने वर्धा स्थित बैंक आॅफ महाराष्ट्र के खाते में प्रताप से 5 लाख रुपए जमा कराए, लेकिन 5 लाख रुपए लेने के बाद भी आरोपी ने दाखिला नहीं कराया और पैसे भी वापस नहीं किए। आरोपी रवि और अमोल मस्के ने फर्जी स्टैंप पेपर पर पैसे वापस किए बताकर प्रताप के साथ धोखाधड़ी की। 

अपराधी ने प्रॉपर्टी डीलर से मांगा 50 लाख का हफ्ता

वहीं शहर के एक प्रॉपर्टी डीलर और उसके परिवार को जान से मारने की धमकी देने वाले आरोपी , उसके भाई और कुछ साथियों के खिलाफ प्रताप नगर थाने में हफ्ता वसूली और धमकाने का मामला दर्ज किया गया है।  मामला अपराधी राकेश डेकाटे, उसका भाई मुकेश और अन्य दो साथियों पर दर्ज किया गया है। राकेश डेकाटे पर एक दर्जन से अधिक आपराधिक मामले दर्ज हैं। इसके पहले राकेश को धंतोली पुलिस ने एक हफ्ता वसूली व धोखाधड़ी के मामले में गिरफ्तार किया है। राकेश को जल्द ही प्रताप नगर पुलिस अपनी गिरफ्त में लेकर उससे पूछताछ करेगी।15 जनवरी 2021 तक उसने राकेश डेकाटे को 10 लाख के बदले में ब्याज सहित करीब 14.91 लाख रुपए वापस किए। बावजूद राकेश उससे ब्याज के पैसे की मांग करने लगा। अगवा कर सुनसान स्थान पर ले गया।15 जनवरी 2021 को राकेश ने उसे स्नेह नगर, छत्रपति चौक, पेट्रोल पंप के पास मिलने बुलाया। जब संधु वहां पहुंचा तो उसे राकेश जबरन अपने वाहन सुनसान जगह पर ले गया। वहां राकेश का भाई  मुकेश व उसके दो साथी पहले से मौजूद थे। वहां इन लोगों ने संधु से 100 रुपए के स्टैंप पेपर व  टी.टी.ओ फाॅर्म पर जबरन हस्ताक्षर करवा लिए। संधु का आरोप है कि, हस्ताक्षर करने से इनकार करने पर आरोपियों ने उसके साथ मारपीट की।

दुष्कर्म पीड़िता को प्रकरण  वापस लेने के लिए धमकाया, मुख्यमंत्री से की शिकायत

दुष्कर्म पीड़िता ने दंपति पर गंभीर आरोप लगाए हैं। मामला वाड़ी और नंदनवन थाने से जुड़ा है। इस मामले में पीड़िता ने मुख्यमंत्री से की शिकायत के बाद दंपति के खिलाफ वाड़ी थाने में असंज्ञेय प्रकरण दर्ज कर प्रतिबंधात्मक कार्रवाई की गई है। 38 वर्षीय पीड़िता वाड़ी थाना क्षेत्र निवासी है। वह दो बच्चों की मां है।  पीड़िता का आरोप है कि, प्रेम जाल में फांसकर जितेंद्र राधेश्याम तिवारी (35), पवनसुत नगर निवासी ने उसका याैन व आर्थिक शोषण किया। उसे एक बच्चा हुआ। उसके बाद जितेंद्र ने मनीषा नामक महिला से शादी कर ली। वाड़ी थाने में जितेंद्र के खिलाफ दुष्कर्म का प्रकरण दर्ज है। यह मामला अदालत में विचाराधीन है। पीड़िता और उसके मासूम को देख लेने की धमकी :आरोप है कि, प्रकरण वापस लेने के लिए जितेंद्र और मनीषा ने पीड़िता को धमकाते हुए उसके मासूम बच्चे सहित देख लेने की धमकी दी है। इस मामले में इसके पूर्व पीड़िता ने पुलिस पर भी मामले को लेकर लापरवाही करने का आरोप लगाते हुए इसकी मुख्यमंत्री से शिकायत की थी। मुख्यमंत्री कार्यालय से पुलिस को निर्देश मिलने के बाद अब नंदनवन के बाद वाड़ी थाने में भी जितेंद्र और मनीषा के खिलाफ असंज्ञेय प्रकरण दर्ज िकया गया है। प्रकरण को लेकर दोनों पक्षों में आरोप-प्रत्यारोप का दौर जारी है। 

अरोली में खुलेआम अवैध धंधे जारी

मौदा तहसील अंतर्गत अरोली पुलिस स्टेशन में खुलेआम रेत चोरी, मटका, शराब की तस्करी, जुआ, गांजा की बिक्री जारी है। अरोली पुलिस इस पर रोक लगाने में नाकाम साबित हो रही है। नीमखेड़ा स्थित बाजार चौक में खुलेआम मटका लगाया जाता है। इसकी शिकायत करने वाले राष्ट्रवादी कांग्रेस के पदाधिकारी को ही पुलिस द्वारा धमकाने का आरोप है। शिकायत करने वालों को ही अपराध में फंसाने की धमकी दी जाती है। राष्ट्रवादी कांग्रेस के पदाधिकारी ने इसकी शिकायत सीधे गृहमंत्री अनिल देशमुख से की थी। इसके बाद हलचल मची और स्थानीय निरीक्षक का तबादला हुआ, लेकिन वे थाना छोड़ने के लिए तैयार नहीं होने का आरोप है। ग्रामीणों ने कहा कि, यदि गृहमंत्री के आदेश के बावजूद कोई कार्रवाई नहीं हो रही है तो किससे न्याय मांगने जाए।

उत्पात मचा रहा युवक गिरफ्तार

जूना पुलिस स्टेशन अंतर्गत बुधवार की रात 10.40 बजे के करीब देसी शराब की दुकान के समीप एक युवक द्वारा हथियार लेकर उत्पात मचाने का मामला सामने आया है। बुधवार की रात 10.40 बजे के करीब पुलिस को देसी शराब की दुकान के पास एक युवक द्वारा हाथ में हथियार लेकर उत्पात मचाने की जानकारी मिली। पुलिस कर्मचारी राजेश पाली, गयाप्रसाद वर्मा, अंकुश गजभिये, प्रशांत सलाम आदि कर्मचारियों ने गोयल टाकीज चौक पहंुचे। जहां उन्हें दो व्यक्ति घूमते हुए दिखाई दिए। पुलिस ने उनसे कड़ी पूछताछ कर तलाशी लेने पर भूषण नगर रनाला निवासी प्रतीक उर्फ सोनू युवराज सहारे (28) युवक के पास लोहे का कोयता पाया गया। 

25 पुराने आरोपियों पर कार्रवाई

पिछले एक महीने से 20 साल पुराने आरोपियों की तलाश कर उन पर नजर रखी जा रही थी। 8 फरवरी से इन पुराने आरोपियों को पुलिस स्टेशन में हाजिर किया जा रहा है। इन आरोपियों पर धारा 151/1, 110 के तहत कार्रवाई कर इन्हें एसीपी के समक्ष पेश किया गया। जिस पर मंगलवार और बुधवार को कुछ आरोपियों को जेल रवाना किया गया। इसमें मंगलवार को नए थाने के 12 तथा पुराने थाने के 4 और बुधवार को नए थाने के 4 आरोपियों को पेश किया गया है। प्राप्त जानकारी के अनुसार पिछले 20 साल के आरोपियों में से कुछ मर गए और कुछ कामठी से बाहर जाकर बस चुके हैं। जो पुलिस के हाथ लगे हैं। ऐसे नए थाने के 12 तथा पुराने थाने के 4 आरोपियों पर धारा 110 के तहत कार्रवाई कर इनमें से 4 आरोपियों को जेल रवाना किया गया। यह कार्रवाई आगे भी जारी रहने की जानकारी मिली है। नए थाने के पुलिस कर्मचारी दिलीप कुंभरे, मंगेश गिरी, आशीष भुरकुंडे, श्रीकांत भीष्णुरकर ने मंगलवार को 12 पुराने हत्या के मामले के आरोपियों को पकड़कर धारा 151/1, 110 के तहत कार्रवाई की तथा इन्हें एसीपी के समक्ष पेश किया। जिसमें 4 आरोपियों को जेल भेजा गया तथा आठ लोगों को जमानत पर छोड़ा गया। बुधवार को 9 लोगों पर कार्रवाई की गई। इन सभी को जरीपटका विभाग के एसीपी कार्यालय में पेश किया गया। जिन्हें हिदायत देते हुए जमानत दी गई। पुराने थाने के पुलिस कर्मचारी तंगराजन पिल्ले, पंकज मारसिंगे, सलामे ने मंगलवार को 4 आरोपियों को पकड़कर कामठी एसीपी कार्यालय में पेश किया। इन सभी आरोपियों पर हत्या के मामले दर्ज थे। जिसमें से कुछ जमानत पर छूटे हैं तो कुछ बरी हो चुके हैं।

111 लोगों काे गुम हुए मोबाइल दोबारा मिले, गृहमंत्री ने ट्वीट कर कार्रवाई को सराहा  

इसके अलावा साइबर पुलिस थाने ने पिछले दो साल में 111 लोगों के मोबाइल फोन खोज निकाले, जो गुम हो गए थे। इन मोबाइल की कीमत करीब 32 लाख रुपए बताई जा रही है। शनिवार को सिविल लाइंस स्थित पुलिस जिमखाना परिसर में वरिष्ठ अधिकारियों की मौजूदगी में 111 लोगों को जब उनके गुम हुए मोबाइल दोबारा मिले, तो हर किसी के चेहरे पर खुशी छा गई। गृहमंत्री अनिल देशमुख ने ट्वीट कर साइबर पुलिस की इस कार्रवाई की सराहना की है। पुलिस आयुक्त अमितेश कुमार के मार्गदर्शन में  अपर पुलिस आयुक्त (अपराध) सुनील फुलारी व  उपायुक्त (आर्थिक) विवेक मसाड़ के हाथों मोबाइल मालिकों को मोबाइल सुपुर्द किए गए। गुम हुए मोबाइल फोन का पता लगाने में साइबर पुलिस थाने के वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक अशोक बागुल, नायब सिपाही सूर्यकांत चांभारे, सिपाही दीपक चव्हाण, सिपाही कुणाल हटवार ने अहम भूमिका निभाई। 

सर्राफा दुकान का कारीगर 4 लाख के गहने लेकर फरार

सर्राफा दुकानदार का कारीगर  4 लाख रुपए के गहने लेकर फरार हो गया। दुकानदार ने उसे गहने पॉलिश करने दिए थे। आरोपी रामू बशीर खान (26), नाजिरपुरा, वीरभूमि, वेस्ट बंगाल  निवासी है। गहनों की कीमत करीब 4 लाख रुपए है। लकड़गंज पुलिस ने सर्राफा दुकानदार गणेश जाना (48) की शिकायत पर आरोपी रामू बशीर खान के खिलाफ धारा 408 के तहत मामला दर्ज किया है। पुलिस के अनुसार इतवारी, निकालस मंदिर के सामने  गणेश जाना का मकान है। मकान में सोने-चांदी की दुकान है।  शिकायत में उन्होंने पुलिस को बताया कि, रामू दुकान के ऊपर बने कमरे में रहता था। 11 फरवरी को रात करीब 9 बजे उन्होंने दुकान बंद की। दुकान बंद करने के बाद रामू को उन्होंने करीब 4 लाख रुपए के सोने के गहने पॉलिश करने के लिए दिए। रामू यह गहने लेकर फरार हो गया। पुलिस ने आरोपी के खिलाफ मामला दर्ज किया है। 

कार में डकैती की योजना बना रहे 5 गिरफ्तार

कार में बैठकर डकैती डालने की योजना बना रहे अपराधियों के एक गिरोह को जुनी कामठी पुलिस ने शुक्रवार-शनिवार की दरमियानी रात करीब 1 बजे  खैरी गांव से वारेगांव जाने वाले मार्ग पर धरदबोचा। पुलिस ने 5 आरोपियों को गिरफ्तार किया है। सभी आरोपियों पर पहले भी आपराधिक मामले दर्ज हैं। शनिवार को न्यायालय ने उन्हें तीन दिन की पुलिस रिमांड पर भेजने का आदेश दिया है।पुलिस के अनुसार सहायक पुलिस उप-निरीक्षक संघराजन पिल्ले को गश्त के दौरान गुप्त सूचना मिलने पर उन्होंने खैरी गांव से वारेगांव जाने वाली सड़क पर किनारे खड़ी कार की घेराबंदी कर आरोपियों को दबोचा। आरोपियों में आकाश उर्फ  चिपड्या मामा प्रमोद बागड़े (32), जयभीम चौक, कलमना रोड,  विनोद वाघ (29),  रामगढ़, सचिन कुमरे (26),  कन्हान,  शाहिद अली गुलाम अली (28), बी.बी. काॅलोनी, कामठी और  नीरज उर्फ  लक्की राजू पिल्ले (30), शास्त्री नगर, कामठी निवासी शामिल है। आरोपी कार में डकैती डालने की योजना बना रहे थे। आरोपियों से सेंट्रो कार क्र.एम.एच.-31-ए.एच-0199, दो मोबाइल, मिर्ची पाउडर, तलवार, चाकू, राॅड सहित करीब 1 लाख 10 हजार 800 रुपए का माल पुलिस ने जब्त किया है। आरोपियों के खिलाफ धारा 399, सहधारा 4,25 , 135 के तहत मामला दर्ज किया है।


 

 

खबरें और भी हैं...