comScore

क्राइम : पत्थर से हत्या कर युवक की लाश कुएं में फेंकी, झांसा देकर मां-बेटे ने 5 लाख ठगे

क्राइम : पत्थर से हत्या कर युवक की लाश कुएं में फेंकी, झांसा देकर मां-बेटे ने 5 लाख ठगे

डिजिटल डेस्क, नागपुर। सावनेर के नांदोरी ग्राम के युवक ने अपने ही दोस्त की पत्थर से हत्या कर लाश कुएं में फेंक दी। घटना केलवद थाना अंतर्गत नांदोरी ग्राम में शनिवार को दोपहर 12 बजे की है। मृतक राजेन्द्र मुरलीधर जोशी (30) नांदोरी निवासी है। हत्या में गांव के ही एक युवक का नाम सामने आ रहा है। आरोपी फरार है। आरोपी व राजेन्द्र दोनों दोस्त थे। दोनों में किसी बात पर अनबन हुई थी। इसी बात को लेकर आरोपी ने राजेन्द्र की पत्थर मारकर हत्या कर दी और लाश गांव से 1 किमी की दूर डोलस नामक किसान के खेत के कुएं में फेंक दी थी। आरोपी ने हत्या को इसी खेत में अंजाम दिया। सूचना मिलते ही पीआई सुरेश मट्टामी घटनास्थल पर पहुंचे। पंचनामा कर शव पोस्टमार्टम के लिए सावनेर के अस्पताल भेजा है। अज्ञात आरोपी के खिलाफ धारा 302 के तहत मामला दर्ज किया गया है।

भाजयुमो पदाधिकारी सहित 3 और गिरफ्तार

वहीं प्रॉपर्टी डीलर व भाजयुमो के शहर उपाध्यक्ष राज डोरले हत्याकांड में कोतवाली पुलिस ने शुक्रवार को भारतीय जनता युवा मोर्चा का शहर उपाध्यक्ष आशीष रमेश वारजुरकर (35), भूतेश्वर नगर, रूपेश जीवन मेश्राम (21) और आकाश अशोक मेश्राम (28), शिवाजी नगर निवासी को गिरफ्तार किया। इस मामले में मुकेश नारनवरे और अंकित चतुरकर पहले ही कोतवाली थाने में समर्पण कर चुके हैं। अब मामले में आरोपियों की संख्या बढ़कर 5 हो गई है। क्षेत्र में राज डोरले का राजनीतिक वर्चस्व व समर्थकों की बढ़ती तादाद आशीष को खटकने लगी थी। इसके चलते आशीष ने ही डोरले की हत्या की साजिश रची थी। हालांकि राज की हत्या के पूर्व रात को अाशीष ने कोतवाली थाने में पहुंचकर पुलिस प्रोटेक्शन देने की मांग की थी। पुलिस ने उसके घर के आस-पास तगड़ा बंदोबस्त भी लगाया था। शनिवार को आशीष वाजुरकर, रूपेश मेश्राम और आकाश मेश्राम तीनों को न्यायालय में पेश किया गया। न्यायालय ने आरोपियों को 3 दिन की पुलिस रिमांड में भेज दिया। वरिष्ठ थानेदार ज्ञानेश्वर भोसले ने आशीष की गिरफ्तारी के बाद राज डोरले की हत्या की असली वजह सामने आने की बात कही है। 

दो शाखा प्रमुख सहित आठ पर डकैती का मामला दर्ज

उधर हुड़केश्वर थाना क्षेत्र में एक दुकान में तोड़फोड़ व डकैती मामले में शिवसेना के दो शाखा प्रमुख सहित 8 आरोपियों का समावेश है। सूत्रों के अनुसार आरोपियों में प्रभाग 29 में शिवसेना के शाखा प्रमुख रूपेश बुराडे,अमित घाड़गे व शिवसैनिक अमन रामटेके शामिल हैं। इस मामले में यश ठाकुर नामक युवक को गिरफ्तार किया गया है। शेष सभी फरार हैं। इन  पर आरोप है कि, शुक्रवार को अपने कुछ साथियों के साथ म्हालगी नगर में जबरन दुकानें बंद कराने गए थे। इस बीच म्हालगी नगर में कुछ दुकानों में तोड़फोड़ की गई। एक फल दुकानदार से 6 हजार नकद छीने और फलों का ट्रे फेंककर करीब 15 हजार रुपए का नुकसान किया। चर्चा है कि, लूटपाट करने वाले उक्त आरोपियों ने धमकी देते हुए कहा था कि, किसी ने पुलिस से शिकायत की तो अंजाम ठीक नहीं होगा। सभी एक हत्याकांड के विरोध में परिसर की दुकानें बंद कराने गए थ। मौका पाकर लूटपाट शुरू कर दी। हुड़केश्वर पुलिस ने शिवसेना के शाखा प्रमुख बुराडे और अमित घाड़गे सहित 8 आरोपियों पर धारा 395, 336, 504, 506, 188  सहधारा 135 के तहत मामला दर्ज किया।

झांसा देकर मां-बेटे ने 5 लाख ठगे

शेयर मार्केट में निवेश करने पर निवेश की रकम दोगुना होने का झांसा लेकर मां-बेटे ने एक व्यक्ति से 5 लाख रुपए ठग लिए। शनिवार को आरोपी मां-बेटे के खिलाफ वाड़ी थाने में प्रकरण दर्ज किया गया। सुराबर्डी निवासी पीड़ित नंदकिशोर गाड़ीगोने (37) है। आरोपी व्यापारी जितेंद्र रहिले (30) और उसकी मां उर्मिला रहिले (50), सुराबर्डी निवासी हैं। मित्र सचिन राऊत के जरिए नंदकिशोर और जितेंद्र की मां-बेटे से पहचान हुई थी। जितेंद्र और उसकी मां ने नंदकिशोर को यह बताया था कि, शेयर मार्केट में निवेश करने पर तीन माह में रकम दोगुना  होती है। झांसे में आए नंदकिशोर ने 4 से 10 अक्टूबर-2019 के बीच में जितेंद्र ने बताए गए विविध बैंक खातों में 2 लाख रुपए जमा किए। शेष 3 लाख उर्मिला को दिए थे। यह रकम निवेश की आड़ में मां-बेटे ने डकार ली है। मामला थाने पहुंचने पर प्रकरण दर्ज किया गया है।

सोशल मीडिया पर गाली दी तो कर दी पिटाई

वहीं सोशल मीडिया पर गाली-गलौज करने पर दो मित्रों ने एक युवक की पिटाई कर दी। वाठोड़ा थाने में दोनों मित्रों के खिलाफ प्रकरण दर्ज किया गया है। साईंबाबा नगर निवासी जख्मी मनीष हेमराज घरड़े (26) है। आरोपी उसी बस्ती के शब्बीर खान और आदित्य गेड़ाम नामक युवक हैं। कुछ दिन पहले किसी बात को लेकर इनका सोशल मीडिया पर विवाद हुआ था। गाली-गलौज भी की गई थी। इस बात को लेकर शुक्रवार को रात दस बजे मौका पाकर शब्बीर और आदित्य ने मनीष पर हमला बोल दिया और उसकी पिटाई कर दी। प्रकरण दर्ज किया गया है। 

शराब दुकान में लगाई आग

उधर टेका स्थित एक शराब दुकान को आग के हवाले कर दिया गया। शराब सहित डेढ़ लाख का माल जल गया। प्रकरण विवादित जगह को लेकर होने की आशंका है। कपिल नगर थाने में प्रकरण दर्ज किया गया है। तुकड़ोजी नगर निवासी प्रणय भंडारकर (28) की टेका नाका परिसर में देसी शराब की दुकान है। शुक्रवार की रात आरोपी गुलाब अटराहे (60), आवले नगर निवासी ने दुकान को आग लगा दी। घटना में 1 लाख 60 हजार रुपए का नुकसान हुआ है। प्रकरण दर्ज िकया गया है।

मुंबई से फरार आरोपी गिरफ्तार, लष्करीबाग स्थित अपने घर में छिपा था

मुंबई से फरार एक आरोपी को पांचपावली पुलिस ने लष्करीबाग क्षेत्र में धरदबोचा। आरोपी का नाम शब्बीर इकबाल शेख (38), गवंडी, शिवाजी नगर, शॉप नं.-22, म्हाड़ा कालोनी,  शिवाजी नगर, वाशी नवी मुंबई निवासी है। आरोपी शब्बीर लॉकडाउन में लष्करीबाग स्थित अपने ही घर में मुंबई से नागपुर आकर छिपा हुआ था। शब्बीर करीब 5 साल पहले मुंबई काम की तलाश में गया था। वहां पर उसने आयशा नामक युवती से दूसरी शादी कर ली।  सूत्रों ने बताया कि, पांचपावली थाने के डीबी स्क्वॉड के अधिकारी एस. सुरोशे को इस आरोपी के बारे में पहले ही गुप्त जानकारी मिल चुकी थी। सुरोशे ने जब शिवाजी नगर थाने के अधिकारियों से इस आरोपी के बारे में पूछताछ की तो पता चला कि, वह अपनी पत्नी की हत्या का प्रयास करके नवी मुंबई से फरार हुआ है। पांचपावली थाने के वरिष्ठ थानेदार किशोर नगराले, द्वतीय  पुलिस निरीक्षक महेश ढवाण, सहायक पुलिस निरीक्षक एस सुरोशे,  हवलदार रामेश्वर कोहले,  पुलिस नायब अभय साखरे, शैलेंद्र चौधरी, सिपाही नितीन धकाते, सुमित बावनगडे ने कार्रवाई में सहयोग किया। 

तड़ीपार सहित दो गिरफ्तार

कोराड़ी क्षेत्र में एक तड़ीपार सहित दो आरोपियों को पुलिस ने शनिवार को गिरफ्तार किया है। तड़ीपार आरोपी का नाम रफीक राजिक शेख (30) कोराड़ी निवासी है। उसे दोबारा पकड़ा गया है। दो दिन पहले ही पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर न्यायालय में पेश किया था। उसे क्षेत्र में आने से प्रतिबंधित किया गया था, लेकिन वह बेखौफ घूम रहा था। दूसरी कार्रवाई फिरोज उर्फ लालू बादलेकर (28)   जयभीम नगर, कोराड़ी निवासी पर हुई। कोराड़ी रोड स्थित मजदूर चौक में पुराने पावर प्लांट की सुरक्षा दीवार के पास वह तलवार लेकर उत्पात मचा रहा था। कोराड़ी के वरिष्ठ थानेदार वजीर शेख, उपनिरीक्षक  ए आर. गंगाकाचुर व अन्य सहयोगियों ने कार्रवाई में सहयोग किया।

युवक ने लगाई फांसी

एक युवक ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। घटना का कारण अज्ञात है। युवक पब्जी गेम खेलता था। आशंका है कि, पब्जी गेम के चक्कर में उसने आत्महत्या की होगी। कपिल नगर थाने में आकस्मिक मृत्यु का प्रकरण दर्ज िकया गया है। नारी रोड स्थित रमाई नगर निवासी शुभम लालाजी यादव (25) था। शुभम के पिता का गैरेज है। वह पिता के काम में हाथ बंटाता था। शुक्रवार की रात शुभम ने पहली मंजिल पर स्थित कमरे में सीलिंग फैन को दुपट्टा बांधकर फांसी लगा ली। उसकी मौत हो गई। जांच जारी है। 

पिता की मृत्यु से आहत पुत्री ने की खुदकुशी

पिता की मृत्यु से आहत पुत्री ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। घटना धंतोली थानांतर्गत हुई। आकस्मिक मृत्यु का प्रकरण दर्ज किया गया है। मृतका धंतोली स्थित निर्मल अपार्टमेंट निवासी शिवानी प्रशांत टेकाड़े (19) थी। वह पुणे में अध्ययनरत थी। फिलहाल वह अपनी मां इंदिरा के साथ नागपुर में ही रह रही थी। शुक्रवार को दोपहर में मां बैंक गई थी। बैंक से निकलने के पूर्व इंदिरा ने फोन कर शिवानी को बताया कि, वह जल्द घर पहुंचेगी, लेकिन मां घर पहुंचने के पूर्व ही शिवानी ने सीलिंग फैन को रस्सी बांधकर फांसी लगा ली। उसकी मौत हो गई।  जनवरी माह में शिवानी के पिता का देहांत हुआ। तब से शिवानी तनाव में थी। घटनास्थल से पुलिस ने पत्र बरामद किया है। पत्र में घटना के लिए कोई जिम्मेदार नहीं होने का उल्लेख है।

कमेंट करें
x6jYX
NEXT STORY

राजस्थान में सियासी घमासान फिर तेज, मंत्रिमंडल विस्तार पर गहलोत-पायलट आमने सामने


डिजिटल डेस्क, जयपुर। पंजाब में जब से कांग्रेस हाईकमान ने मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह को दरकिनार कर कांग्रेस प्रदेश कमेटी का अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू को बनाया है, तब से राजस्थान में पायलट गुट का भी जोश हाई है। अब पायलट गुट के दबाव के कारण मंत्रिमंडल पर नए सिरे से चर्चा हो रही है। मंत्रिमंडल विस्तार या फेरबदल पर अशोक गहलोत और सचिन पायलट गुट के बीच तलवारें खिंच गईं हैं,  दोनों गुट आमने-सामने आ गये हैं। फिलहाल विस्तार की कोई तारीख तय नहीं है लेकिन यह माना जा रहा है कि अगले महीने इस पर कोई फैसला लिया जा सकता है। अभी गहलोत कैबिनेट में 9 पद खाली हैं। अगर कांग्रेस 'एक व्यक्ति एक पद' के फॉर्मूले को मानती है तो शिक्षा राज्य मंत्री और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष गोविंद डोटासरा को अपना पद छोड़ना होगा। वैसे गोविंद डोटासरा ने यह कहकर कि 'मैं दो-चार दिन का मेहमान हूं' अपने जाने के संकेत दे दिये हैं। एक पद विधानसभा उपाध्यक्ष का भी खाली है।   
 
आंकड़ों के हिसाब से गहलोत कैबिनेट में कुल 11 पद खाली हैं। लेकिन इन सभी पदों पर फिलहाल मंत्री नहीं बनाए जाएंगे। अंदेशा है कि विस्तार के बाद भी नाराजगी रह सकती है। उन हालातों का सामना करने के लिए फिलहाल कैबिनेट में दो या तीन पद खाली ही रखे जाएंगे। 
मत्रिमंडल विस्तार पर अगर पूरी तरह गहलोत हावी रहे तो 2 या 3 ही मंत्रियों की छुट्टी होगी। पर ये फैसला लेना भी गहलोत के लिए आसान नहीं होगा,  क्योंकि उन्हें उन लोगों के बीच फैसला लेना होगा जिन लोगों ने मुश्किल वक्त में उनका साथ दिया था। 
अगर विस्तार पर पायलट गुट का दबाव रहा तो फिर 6 से 7 मंत्री आउट होना तय माने जा रहे हैं। और, अगर आलाकमान ने प्रदर्शन को आधार माना तो कई मंत्रियों को जाना पड़ सकता है, लेकिन इसकी उम्मीद कम ही है। हालांकि, अजय माकन का 28-29 को जयपुर दौरा है। जिसमें वह जयपुर आकर हर विधायक से बात करेंगे। उसके बाद यह तय होगा कि कौन रहेगा और कौन जाएगा?   

इन मंत्रियों की कुर्सी पर खतरा


Whats-App-Image-2021-07-27-at-15-01-16

इनकी हो सकती मंत्रिमंडल में एंट्री- पायलट गुट के 3 और गहलोत गुट के 7 चहेरों को मंत्रिमंडल में जगह मिल सकती है। 

Whats-App-Image-2021-07-27-at-16-17-50

डोटासरा के बयान से उनके जाने के संकेत

प्रदेश में मंत्रिमंडल फेरबदल की चर्चाऐं जारी हैं उस बीच शिक्षा राज्य मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा का एक वीडियो तेजी से सोशल मीडिया पर छा गया है। इसमें उनको राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड के अध्यक्ष डीपी जारोली से कहते सुना जा सकता हैं- ‘मेरे पास एक घंटे फाइल नहीं रुकेगी, आप सोमवार को आ जाओ। एक मिनट में निकाल दूंगा, जितनी कहोगे। मैं दो-पांच दिन का ही मेहमान हूं। मुझसे जो कराना है करा लो।’ इसके बाद बोर्ड अध्यक्ष डीपी जारोली ने हाथ जोड़कर कहा कि मैं आता हूं सर। इस वायरल वीडियो के बाद से ये कयास तेज हो गए हैं कि मंत्रिमंडल से डोटासरा की रवानगी तय है। 
 

NEXT STORY

ओलंपिक में जिमनास्टिक खिलाड़ियों ने पहली बार पहने ऐसे कपड़े, जिसने देखा रह गए हैरान

ओलंपिक में जिमनास्टिक खिलाड़ियों ने पहली बार पहने ऐसे कपड़े, जिसने देखा रह गए हैरान

डिजिटल डेस्क, टोक्यो। टोक्यो ओलंपिक में पूरी दुनिया से आए हुए खिलाड़ी अपनी प्रतिभा दिखा रहे हैं। खेल में अपनी प्रतिभा दिखाने के अलावा जर्मन की महिला जिमनास्टिक्स ने फ्रीडम ऑफ चॉइस यानी अपने मन के कपड़े पहनने की आजादी को अपने खेल के जरिए प्रमोट करने का फैसला किया है, जिससे उनकी हर तरफ चर्चा हो रही है। 

Germany Women's Gymnastics Team Wear Unitards at Olympics | POPSUGAR Fitness

जर्मनी की महिला जिमनास्ट रविवार को हुए टोक्यो ओलंपिक मुकाबले में फुल बॉडी सूट पहने नजर आई। खिलाड़ियों ने बताया कि इस सूट को फ्रीडम ऑफ चॉइस यानी अपनी पसंद के कपड़े पहनने की आजादी को बढ़ावा देने साथ ही महिलाओं को प्रोत्साहित करने के लिए डिजाइन किया गया है जिसे पहनकर महिला खिलाड़ी आरामदायक महसूस कर सकें।

Germany's gymnasts wear body-covering unitards, rejecting 'sexualization' of sport - CNN 
 

जर्मनी की 4 जिमनास्ट जिनके नाम है पॉलीन शेफर-बेट्ज, सारा वॉस, एलिजाबेथ सेट्ज और किम बुई लाल और सफेद रंग के इस यूनिटार्ड सूट में नजर आई जो लियोटार्ड और लेगिंग्स को मिलाकर बनाया गया था। खिलाड़ी इसी को पहन कर मैदान में उतरीं थी। 

German gymnastics team, tired of 'sexualisation,' wears unitards | Deccan Herald
 

जर्मनी की टीम ने अपनी ट्रेनिंग में भी इसी तरह के कपड़े पहने हुए थे और अपने कई इंटरव्यूज में खिलाड़ियों ने कहा था कि इस साल फाइनल कॉम्पटीशन में भी वो फ्रीडम ऑफ चॉइस को प्रमोट करने के लिए इसी तरह के कपड़े पहनेंगी। खिलाड़ी सारा वॉस ने द जापान टाइम्स को बताया था यूनिटार्ड को फाइनल करने से पहले उन्होंने इस पर चर्चा भी की थी। सारा ने ये भी कहा कि जैसे जैसे एक महिला बड़ी होती जाती है, वैसे ही उसे अपने शरीर के साथ सहज होने में काफी मुश्किल होती हैं। हम ऐसा कुछ करना चाहते थे जिसमें हम अच्छे भी दिखे और सहज भी महसूस करें। चाहे वो कोई लॉन्ग यूनिटार्ड हो या फिर शॉर्ट। 

Germany Women's Gymnastics Team Wear Unitards at Olympics | POPSUGAR Fitness
 

सारा ने यह भी बताया कि उनकी टीम ने इससे पहले यूरोपीय चैंपियनशिप में भी इसी तरह का फुल बॉडी सूट पहना था और इसका उद्देश्य सेक्सुलाइजेशन को कम करना है। हम लोगों के लिए एक रोल मॉडल बनना चाहते थे जिससे वो हमे फॉलो कर सकें। जर्मन के खिलाड़ियों की लोग काफी प्रशंसा भी कर रहे हैं। 


ओलंपिक प्रतियोगिताओं में जिमनास्ट महिलाओं को फुल या हाफ बाजू के पारंपरिक लियोटार्ड ही पहनना होता है साथ ही अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में फुल कपड़े पहनने की अनुमति तो है लेकिन किसी भी महिला जिमनास्ट ने इस तरह के कपड़े नहीं पहने थे। यह पहली बार था जब जर्मन खिलाड़ी महिलाओं ने इस तरह के कपड़े पहने थे। 
बीते कुछ सालों में खेल प्रतियोगिताओं में महिलाओं के शारीरिक शोषण के बढ़ते मामलों को देख महिला खिलाड़ियो की चिंता बढ़ती जा रही है अब एथलीटों की सुरक्षा को देखते हुए नए सेफ्टी प्रोटोकॉल बनाए जा रहे हैं।