comScore

Crime : पत्नी ने ही बनाई थी पति की हत्या की योजना, ट्रांसपोर्टर को लूटने वाले तीन आरोपी गिरफ्तार

Crime : पत्नी ने ही बनाई थी पति की हत्या की योजना, ट्रांसपोर्टर को लूटने वाले तीन आरोपी गिरफ्तार

डिजिटल डेस्क, नागपुर। सावनेर में पत्नी ने हत्या की योजना बनाकर पति को मौत के घाट उतार दिया। मृतक का नाम जयदीप साहेबराव लोखंडे (38), सावनेर निवासी है। आरोपी चंदन नत्थूजी दियेवार (28), खेडकर ले-आउट, सावनेर निवासी को ग्रामीण अपराध शाखा ने रविवार को गिरफ्तार किया था। सोमवार को आरोपी पत्नी देवका उर्फ कविता जयदीप लोखंडे (35), सावनेर निवासी को गिरफ्तार कर लिया गया। दोनों आरोपियों को सावनेर न्यायालय में पेश कर 16 अक्टूबर तक रिमांड पर लिया गया है।आरोपी देवका को 16, 14, व 11 साल की तीन बेटियां हैं। पति जयदीप मिस्त्री का काम करता था, लेकिन वह शराब का आदी था। जयदीप दो माह से कुछ भी काम धंधा नहीं कर रहा था और शराब पीकर पत्नी के साथ मारपीट करता था। रोज-रोज की मारपीट से तंग आकर देवका ने पड़ोस में रहने वाले आरोपी चंदन दियेवार से कहा कि, पति को जान से खत्म करना है। कोई मारने वाला हो तो मुझसे मिला दो। चंदन ने उसके मित्र छिंदवाड़ा निवासी सुनील जयराम मालवीय (26) से देवका की मुलाकात करवा दी। 50 हजार रुपए में हत्या करने की बात तय हुई। तीसरा आरोपी सुनील मालवीय फरार है। पुलिस उसकी सरगर्मी से तलाश कर रही है। केलवद पुलिस ने देवका व चंदन दियेवार काे 16 अक्टूबर तक रिमांड पर लिया है। पीसीआर में गुत्थी सुलझने की संभावना है। पीआई सुरेश मट्टामी के मार्गदर्शन में पीएसआई अर्जुन राठोड़ मामले की जांच कर रहे हैं।

कुख्यात गांजा तस्कर इरशाद आठ माह बाद पकड़ा गया

उधर गांजा तस्करी में लिप्त आरोपी शेख इरशाद को गिट्टीखदान पुलिस ने गिरफ्तार किया है। इरशाद करीब 8 माह से फरार था। सोमवार को तड़के पुलिस ने आरोपी काे पीछा कर पकड़ा। पुलिस के अनुसार आरोपी शेख इरशाद उर्फ मोनू क्षेत्र के कुख्यात गांजा तस्कर अफसर अंडा  का बेटा है। करीब 8 माह पहले गिट्टीखदान पुलिस ने अफसर अंडा के आईबीएम रोड, गिट्टीखदान में छापा मारा था और अफसर अंडा को दबोचा था। उसका बेटा शेख इरशाद फरार होने में कामयाब हो गया था। करीब दो दिन पहले ही इरशाद शहर में आया था। गुप्त सूचना मिलते ही उपनिरीक्षक दत्ता पेंडकर ने सहयोगियों के साथ घेराबंदी कर इरशाद को  पकड़ा। इरशाद की मकोका के मामले में भी तलाश थी। प्रकरण की जांच क्राइम ब्रांच के सहायक पुलिस अायुक्त सुधीर नंदनवार कर रहे हैं। आरोपी के खिलाफ फरवरी 2020 में गिट्टीखदान थाने में मादक पदार्थ प्रतिबंधक के तहत मामला दर्ज किया गया है। 

फर्जी नियुक्ति पत्र थमाकर लाखों रुपए की ठगी

भाजपा तथा अन्य संगठनों से जुड़े एक पदाधिकारी का फर्जीवाड़ा उजागर हुआ है। मनपा और अन्य सरकारी विभागों में नौकरी लगाने का झांसा देकर कई लोगों से लाखों रुपए ऐंठ लिए हैं। रुपए वापस मांगने पर पीड़ितों को जान से मारने की धमकी दी जा रही है। प्रकरण गंभीर होने के बावजूद पांचपावली पुलिस ने आरोपियों पर कोई प्रकरण दर्ज नहीं किया है। पुलिसि के अनुसार भाजपा के अनुसूचित जाति मोर्चा के उत्तर विभाग का पदाधिकारी जगदीश रमेश करीहर ठक्करग्राम पांचपावली निवासी है। जगदीश नवजागृति समाज सेवी बहुउदेशीय संस्था और भारतीय सुदर्शन समाज महासंघ युवा मंच का प्रदेश सचिव भी है। उसने लोगों को झांसा दिया था कि नागपुर मनपा, जिला परिषद, गोदिया, भंड़ारा, साकोली आदि शहरों में सरकारी विभागों के अधिकारियों से उसकी जान पहचान है और वहां रिक्त पदों पर नौकरी लगवा सकता है। जगदीश का ताम-झाम देखकर कई लोग उसके झांसे में अा गए। लोगों को विश्वास में लेने के लिए उसने उनका फर्जी स्वास्थ्य प्रमाण-पत्र, पुलिस वेरिफिकेशन आदि ऑनलाइन करा दिया। उसके बाद किसी से एक लाख, तो किसी से दो लाख रुपए नौकरी दिलाने के नाम पर ले लिया। 

लकड़गंज क्षेत्र से सरिया सहित ट्रक चुराने का मामला

लकड़गंज इलाके से सरिया लदा ट्रक चुराकर भागे चोर को पुलिस ने अमरावती जिले के चांदूर बाजार में धरदबोचा। गिरफ्तार आरोपी का नाम संजय गोविंदराव ढोणे (52), झिंगाबाई टाकली निवासी है। आरोपी को न्यायालय ने 15 अक्टूबर तक पुलिस रिमांड पर भेज दिया है। आरोपी ने 9 अक्टूबर को स्मॉल फैक्टरी एरिया में एक समाज भवन के सामने से तब ट्रक चुराया था, जब ट्रक का चालक नहाने गया था। आरोपी ने ट्रक चुराने में अपने एक मित्र की मदद ली थी। ट्रक में करीब 20 टन सरिया लदा था। आरोपी को ट्रक धुले ले जाते समय पकड़ा चांदूर बाजार में एक ढाबे पर पकड़ा गया। पुलिस ने सरिया सहित जब्त किया। अपराध शाखा पुलिस की यूनिट 3 ने इस आरोपी को गिरफ्तार किया। पुलिस के अनुसार नेताजी नगर, नागपुर निवासी संतोष पांडे ने लकड़गंज थाने में 9 अक्टूबर को सुबह करीब 7.30 बजे अपना दस पहिया ट्रक क्र.-सी.जी.-04-जे.-5037 को स्माॅल फैक्टरी एरिया से चोरी होने की शिकायत दर्ज कराई थी। शिकायत के बाद यूनिट 3 के अधिकारी- कर्मचारी ट्रक चोर की खोजबीन में जुट गए। बोखरा, कोराडी रोड तक ट्रक का फुटेज कई जगह नजर आया। पुलिस ने आरोपी की पहचान कर ली। पुलिस ने आरोपी संजय ढोणे का आपराधिक रिकॉर्ड खंगाला ताे पता चला कि, उस पर 35 से अधिक मामले दर्ज हैं।  जानकारी के अनुसार आरोपी पहले ट्रक अपने घर लेकर गया था। पश्चात अमरावती रोड से जाने के बजाय काटोल-कलमेश्वर मार्ग से मोर्शी-परतवाड़ा होते हुए धुले, मालेगांव के लिए निकला था। पुलिस ने उसका पीछा करना शुरू किया और चांदूर बाजार में एक ढाबे पर रुकने के बाद पुलिस दल ने ट्रक के आस-पास जाल बिछाया। भोजन करने के बाद संजय जैसे ही ट्रक स्टार्ट करने पहुंचा, पुलिस ने उसे दबोच लिया। पुलिस निरीक्षक विनोद चौधरी, सहायक पुलिस निरीक्षक पंकज धाड़गे, हवलदार अनिल दुबे, दशरथ मिश्रा, श्याम अंगुथलेवार, सिपाही संदीप मावलकर, चालक विशाल रोकडे ने कार्रवाई में सहयोग किया।

गिरफ्तार आरोपियों को न्यायिक हिरासत में सेंट्रल जेल भेजा

गरीबों के लिए राशन दुकानों में भेजे जाने वाले चावल की कालाबाजारी के आरोप में पकड़े गए आरोपियों की सोमवार को पुलिस रिमांड समाप्त होने पर लकड़गंज पुलिस ने उन्हें न्यायालय में पेश किया। न्यायालय ने गिरफ्तार आरोपी चेतन मदान, श्रीकांत कक्कड़, उमेश साहू, मो. रियाज, अकरम खान, प्रदीप काजवे और विक्की जगदाले को न्यायिक हिरासत के तहत सेंट्रल जेल भेजने का आदेश दिया। सूत्रों के अनुसार लकड़गंज पुलिस का कहना है कि, इस प्रकरण में पुलिस को जो जानकारी चाहिए थी, वह पुलिस के हाथ लग चुकी है। उसके बारे में खुलासा नहीं किया जा सकता है। आरोपियों ने रिमांड के दौरान कई अहम् जानकारियां दी हैं। इस मामले में पुलिस कुछ ट्रांसपोर्टरों से पूछताछ कर चुकी है। केसरवानी, लोकेश, बनोदे, मुनियार, दुर्गेश, मामा उर्फ आसिफ, आसवानी, मेहर  ऐसे बड़े सौदागरों की इस मामले में क्या भूमिका रही, इस बारे में पुलिस कुछ भी बोलने को तैयार नहीं है। पुलिस का कहना है कि, मामले की जांच जारी रहेगी। प्रकरण से जुड़े लोगों के बारे में छानबीन होती रहेगी। जानकारियों का खुलासा करने का प्रकरण पर असर पड़ सकता है। जांच पूरी होते ही चार्जशीट न्यायालय में पेश की जाएगी। प्रकरण की जांच लकड़गंज के थानेदार नरेंद्र हिवरे के मार्गदर्शन में की जा रही है।

ट्रांसपोर्टर को लूटने वाले तीन आरोपी गिरफ्तार

हुडकेश्वर पुलिस ने ट्रांसपोर्टर को लूटने वाले तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया है। आरोपियों के नाम राॅबिन उर्फ अर्जुन जुगनू लोंढे रहाटेनगर टोली, रामेश्वरी रिंग रोड, तुषार रवींद्र मेश्राम प्लाॅट क्र 72 उल्हास नगर मानेवाड़ा चौक  और  मनोज गोपालराव फरांडे प्लॉट क्र. 103 दिनकर वसाहत जय गुरुदेव नगर निवासी है। पुलिस ने आरोपियों से लूटपाट का माल जब्त किया है। पुलिस सूत्रों के अनुसार  धामनी पिंपरी, सातारा निवासी आनंदा दत्तू नागरगोजे का ट्रांसपोर्ट का कारोबार है। गत 23 सितंबर को वह ट्रक लेकर जा रहे थे। लघुशंका के लिए वह हुडकेश्वर क्षेत्र में जबलपुर- हैदराबाद हाइवे पर सड़क किनारे रुके। इस दौरान दोपहिया वाहन से आए आरोपियों ने उन्हें लूट लिया। उनके साथ उनका चालक तैयप्पा विरकर भी था। इसकी शिकायत हुडकेश्वर थाने में की थी। आरोपियों ने आनंदा से भंडारा जाने का  पता पूछने के बहाने से रोककर करीब  54 हजार रुपए का माल लूटा था। मोबाइल फोन शुरू करने के बाद आरोपी पुलिस के रडार पर आ गए। पुलिस ने राॅबिन उर्फ अर्जुन जुगनू लोंढे को धरदबोचा। उसकी निशानदेही पर तुषार और मनोज को गिरफ्तार किया गया। आरोपियों से घटना में उपयोग की गई दोपहिया वाहन क्रमांक एम एच 49 एम 7689, दो चाकू और मोबाइल फोन जब्त किया गया। वरिष्ठ अधिकारियों के मार्गदर्शन में हुडकेश्वर के थानेदार राजकमल वाघमारे व सहयोगियों ने कार्रवाई की। 

आठ बुकी पुलिस हिरासत में

आठ बुकियों को हिरासत में लिए जाने की खबर है। सोमवार को देर रात इस मामले में पूछताछ जारी थी। सूत्रों के अनुसार शहर के कुछ क्रिकेट बुकियों को पकड़कर सीताबर्डी क्षेत्र के एक वरिष्ठ अधिकारी के कार्यालय में पूछताछ की जा रही थी। कहा जा रहा है कि इसमें शहर के कुछ जाने-माने क्रिकेट बुकियों को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया गया। देर रात तक यह पता नहीं चल पाया था कि आखिर पुलिस ने किन क्रिकेट बुकियों को पकड़कर लाया था। सूत्रों की मानें तो इन बुकियों को पुलिस आयुक्त अमितेश कुमार के आदेश पर हिरासत में लिया गया। कुछ अन्य बुकियों को पूछताछ के लिए बुलाया गया था। 

ढाबा संचालक के बेटे को नागपुर में छोड़ कर भागे अपहरणकर्ता

छत्तीसगढ़ स्थित राजनांदगांव के एक ढाबा संचालक के बेटे का चार आरोपियों ने अपहरण कर उसे नागपुर लाया। अपहृत युवक का नाम गुरुप्रीतसिंह बताया गया है। अपहरणकर्ता नागपुर में लाने के बाद गुरुप्रीतसिंह को छोड़कर भाग निकले। आरोपियों ने गुरुप्रीतसिंह को छोड़ने के बदले 50 लाख की फिरौती की मांग की थी। पकड़े जाने के डर से नागपुर आ गए। अपराध शाखा पुलिस को सुगबुगाहट लगने पर ढाबा संचालक के बेटे को छोड़कर आरोपी भाग निकले। आगे की जांच राजनांदगांव पुलिस करेगी।

पुलिसकर्मी के घर से 3.65 लाख रु. के आभूषण चोरी

जरीपटका थानांतर्गत पुलिस कर्मचारी  के घर में चोरी हो गई। किसी ने लाखों रुपए के आभूषणों पर हाथ साफ कर दिया। रविवार को प्रकरण दर्ज किया गया। आरोपियों का कोई सुराग नहीं मिला है। प्रीति सोसायटी निर्मल कालोनी निवासी अजय पवार पुलिस विभाग के साइबर सेल में कार्यरत है। वर्तमान में अजय किसी मामले की जांच-पड़ताल करने दिल्ली गया हुआ है। अजय की पत्नी विद्या बच्चो के साथ अपने मायके चंद्रपुर गई हुई थी। इस बीच रविवार की दरमियानी रात किसी ने ताला तोड़कर घर में प्रवेश किया और बेडरूम मंे रखी अलमारी से सोने-चांदी के आभूषण चुरा लिए। आभूषणोंं की कीमत 3 लाख 65 हजार रुपए आंकी गई है। घटना की सूचना मिलते ही थाने और अपराध शाखा की टीम श्वान और फिंगर प्रिंट विशेषज्ञ के साथ मौके पर पहुंची। आरोपियों की तलाश में फुटेज खंगाले जा रहे हैं। विद्या की शिकायत पर प्रकरण दर्ज किया गया है।

नींद में बताया एटीएम का कोड, खाते से 5 लाख पार

गलती से एटीएम का कोड बताना एक व्यक्ति को महंगा पड़ा है। उसके खाते से लाखों रुपए की रकम निकाल ली गई। सोमवार को नंदनवन थाने में प्रकरण दर्ज किया गया है। जानकारी के अनुसार, नंदनवन क्षेत्र निवासी व्यक्ति (59) को गत 27 अगस्त के दिन किसी अपरिचित ने फोन किया और कहा कि वह बैंक से बोल रहा है। उसने कहा कि आपके  मोबाइल में आने वाले मैसेज बंद हुए होंगे तो उन्हें चालू करने के लिए अपने बैंक खाते के आखिरी चार अंक बताने होंगे। पीड़ित उनींदी हालत में था। बैंक खाते के स्थान पर उसने अपने कैनरा बैंक के एटीएम का कोड बता दिया। इसके बाद उसके खाते से 4 लाख 97 हजार 500 रुपए किसी और खाते में ट्रांसफर हो गए। जांच-पड़ताल में धोखाधड़ी की पुष्टि होने के बाद सोमवार को प्रकरण दर्ज किया गया है। 

कमेंट करें
7srxj