comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

नक्सली सप्ताह : गतिविधियों पर होगी 32  ड्रोन कैमरे से निगरानी, विफल करने CRPF तैयार

July 27th, 2018 16:25 IST
नक्सली सप्ताह : गतिविधियों पर होगी 32  ड्रोन कैमरे से निगरानी, विफल करने CRPF तैयार

डिजिटल डेस्क, गड़चिरोली। नक्सली सप्ताह विफल करने के लिए अब CRPF ने कमर कस ली है। केंद्र सरकार ने हाल ही में CRPF के जवानों को और अधिक मजबूत करने के लिए कुल 32  ड्रोन कैमरे खरीद लिए हैं। इन कैमरों के माध्यम से अब जिले के नक्सल प्रभावित इलाकों में चल रही हर नक्सली गतिविधि पर CRPF के जवान नजर बनाए रखेंगे। 

सूत्रों के अनुसार शनिवार से शुरू होने जा रहे नक्सली सप्ताह को विफल करने की CRPF के वरिष्ठ अधिकारियों ने विशेष नीति तैयार कर ली है। इस नीति में 32  ड्रोन कैमरे महत्वपूर्ण भूमिका निभाएंगे। बता दें कि, केंद्र सरकार ने  जिले में नक्सलवाद को जड़ से उखाड़ कर फेंकने के लिए CRPF की कुल 5 बटालियन तैनात किए हैं।  इन बटालियन में तकरीबन 6  हजार जवान शामिल हैं। जिले के प्राणहिता पुलिस उपमुख्यालय में CRPF की 9 व 37 बटालियन, धानोरा में 113 बटालियन, देसाईगंज (वड़सा) में 191 और गड़चिरोली मुख्यालय में 192 बटालियन कार्यरत है। देसाईगंज की 191 बटालियन को एटापल्ली तहसील के सुरजागढ़ पहाड़ी में तैनात किया गया है। वहीं अन्य बटालियन के जवान सी-60 जवानों के साथ मिलाकर रोजाना नक्सली खोज मुहिम चला रहे हैं। केंद्र सरकार ने इन जवानों को आधुनिक हथियार उपलब्ध करवाए हैं।

28 जुलाई से नक्सली सप्ताह आरंभ होगा, जो 3 अगस्त तक चलेगा।  बता दें कि, नक्सली इस सप्ताह के दौरान विध्वसंक घटनाओं को अंजाम देते हैं। आगजनी समेत हत्या व विकास कार्यों को प्रभावित करने का कार्य नक्सलियों द्वारा किया जाता है। इस वर्ष CRPF की सारी बटालियन ने नक्सलियों के इन मनसूबों को नाकाम करने के लिए एक विशेष नीति तैयार कर ली है। कुल 32  ड्रोन कैमरों की सहायता से बटालियन के जवान नक्सलियों की हर गतिविधि पर नजर रखेंगे। बता दें कि, केंद्र सरकार ने इसके लिए 32  ड्रोन कैमरे हाल ही में खरीदे हैं। जिले में कार्यरत सभी बटालियन के मुख्यालय में इन कैमरों का प्रशिक्षण जवानों को दिया जा रहा है। 

सीमाएं सील, रेड अलर्ट जारी 
शनिवार से आरंभ होने जा रहे नक्सली सप्ताह के दौरान जिला पुलिस ने छत्तीसगढ़ राज्य की सीमाओं को सील करके सभी स्थानों पर रेड अलर्ट जारी कर दिया है। बता दें कि, नक्सली अपने मृत साथियों की याद में प्रतिवर्ष 28 जुलाई से 3 अगस्त के दौरान नक्सली सप्ताह मनाते हैं। इस वक्त वे नक्सली स्मारक बनाते हैं। लोगों में दहशत निर्माण करते हैं। इसी पाश्र्वभूमि पर सी-60 कमांडोज ने भी चौकसी  बढ़ा दी है। 

कमेंट करें
2LfcP
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।