comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

शहडोल में एसडीएम कार्यालय में पदस्थ कर्मचारी की बेटी कोरोना संक्रमित मिली

शहडोल में एसडीएम कार्यालय में पदस्थ कर्मचारी की बेटी कोरोना संक्रमित मिली

डिजिटल डेस्क शहडोल । शहडोल नगर में भी कोरोना ने दस्तक दे दी है। रिपोर्ट में एसडीएम सोहागपुर कार्यालय में कार्यरत कर्मचारी की 21 वर्षीय बेटी कोरोना संक्रमित मिली है। वह 19 मई को निजी वाहन में तीन अन्य लोगों के साथ मुंबई से शहडोल आई थी। जिले में पिछले दो दिनों के भीतर कोरोना के तीन नए केस सामने आ चुके हैं।
 रिपोर्ट आने के बाद युवती को मेडिकल कॉलेज में भर्ती करा दिया गया है। वहीं उसके माता-पिता और दो भाइयों के साथ ही मुंबई से साथ में आने वाले जिला चिकित्सालय में पदस्थ डॉक्टर के माता-पिता को भी मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया है। सभी के सैंपल सोमवार को जांच के लिए भेजे गए हैं। इधर वाहन के ड्राइवर को कल्याणपुर स्थित उसके घर में होम क्वारेंटाइन कर दिया गया है। उसका भी सैंपल लिया गया है। एसडीएम सोहागपुर और उनके कार्यालय का स्टाफ भी होम क्वारेंटाइन हो गया है। वहीं रिपोर्ट आने तक जिला चिकित्सालय के डॉक्टर को भी होम क्वारेंटाइन कर दिया गया है। जानकारी के अनुसार युवती को कमिश्नर कार्यालय के बगल में स्थित सिंचाई विभाग के रेस्ट हाउस में क्वारेंटाइन किया गया था, जबकि उसके साथ आए दंपत्ति अपने घर के एक कमरे में ही क्वारेंटाइन थे। दोनों के ज्यादा लोगों के संपर्क में आने की जानकारी नहीं है।
23 मई को पिता के साथ गई थी युवती
संक्रमित मिली युवती 19 मई से ही रेस्ट हाउस में रह रही है। इस दौरान उसका किसी से कोई संपर्क नहीं था, लेकिन पिता का आना-जाना बना हुआ था।  रोजाना रेस्ट हाउस में उसके पिता ही सुबह-शाम खाना लेकर जाते थे। 23 मई को पिता के साथ ही टू-व्हीलर में सैंपल देने के लिए जिला चिकित्सालय गई थी। खाने के बर्तन घर में उसकी मम्मी धुलती थीं। इसके चलते माता-पिता और उसके दो भाइयों को एहतियातन मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया है। वहीं रेस्ट हाउस को सैनेटाइज कर दिया गया है और रेस्टहाउस को कंटेनमेंट एरिया घोषित कर दिया गया है। उसको लॉक कर दिया गया है।
लगातार ड्यूटी कर रहे थे कर्मचारी
संक्रमित युवती के पिता एसडीएम सोहागपुर कार्यालय में पदस्थ हैं। वह शनिवार तक लगातार ड्यूटी पर थे। इस दौरान जहां कार्यालय के अन्य कर्मचारियों के साथ वे संपर्क में थे, वहीं प्रवासी श्रमिकों के लिए उपलब्ध कराई गई बसों की व्यवस्था का काम भी वही देखते थे। इसके चलते अन्य विभागों के कर्मचारियों के साथ भी उनका संपर्क बना हुआ था। कर्मचारी के सीधे संपर्क आए लोगों को क्वारेंटाइन कर दिया गया है, जबकि दूसरे और तीसरे संपर्क में आने वालों की सूची तैयार की जा रही है। कर्मचारी को मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराते हुए संैपल जांच के लिए भेजा गया है।

कमेंट करें
7I6hy