• Dainik Bhaskar Hindi
  • City
  • Delhi Health Minister Satyendar Jain said ask ICMR to change its guidelines to Increase Coronavirus Testing

दैनिक भास्कर हिंदी: Corona Test in Delhi: स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन बोले- टेस्टिंग बढ़ानी है तो ICMR से कहिये गाइडलाइंस बदले

June 13th, 2020

हाईलाइट

  • कोरोना टेस्टिंग की कमी होने के सवाल पर बोले सत्येंद्र जैन
  • हम ICMR की गाइडलाइन का उल्लंघन नहीं कर सकते हैं
  • अगर टेस्टिंग बढ़ाना है तो ICMR से कहिये गाइडलाइन्स बदले

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। राजधानी दिल्ली में कोरोना वायरस के मामले लगातार तेजी से बढ़ रहे हैं। 2137 नए केस के साथ दिल्ली में कुल 36 हजार 824 केस हो गए हैं। इसी बीच यह सवाल उठ रहा है कि राजधानी में कोरोना की टेस्टिंग कम हो रही है। इसके जवाब में दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन (Health Minister Satyendar Jain) का कहना है, अगर टेस्टिंग बढ़ाना है तो ICMR से कहिये वह अपनी गाइडलाइंस (ICMR Guidelines) बदल दे, क्योंकि हम उसकी गाइडलाइन का उल्लंघन नहीं कर सकते हैं। 

दिल्ली: श्रम मंत्रालय के 24 कर्मचारी कोरोना संक्रमित, दो दिन के लिए बिल्डिंग सील

ICMR की शर्तों को मानने के लिए हम बाध्य- सत्येंद्र जैन
दिल्ली में कोरोना टेस्टिंग की कमी होने के सवाल पर सत्येंद्र जैन ने शनिवार को कहा, ICMR की शर्तों के आधार पर ही टेस्ट हो सकते हैं। हम सभी शर्तों को मानने के लिए बाध्य हैं। केंद्र और ICMR से कहिए कि टेस्ट ओपन कर दीजिए ताकि जो टेस्ट करवाना चाहे वो करवा सके। हालांकि ओपन टेस्ट करने से यह भी समस्या होगी कि बीमार लोग कम टेस्ट करवा पाएंगे और हो सकता है एक दिन में 1 लाख लोग टेस्ट कराने पहुंच जाएं, ऐसे में आपका नंबर 1 महीने बाद ही आएगा।

Coronavirus in India: देश में मरीजों की संख्या 3 लाख के पार, 24 घंटे में 11,458 नए केस, 386 की मौत

खत्म की जाए ICMR गाइडलाइंस की बाध्यता- आप नेता
इसी मामले पर आप नेता संजय सिंह ने कहा है कि इस समय ज्यादा से ज्यादा टेस्टिंग बढ़ाने के लिए सबसे जरूरी है कि ICMR की गाइडलाइंस की बाध्यता को खत्म किया जाए। मैंने स्वास्थ्य मंत्री को पत्र लिखकर गाइडलाइंस बदलने की अपील की है। ताकि जिन भी लोगों को कोरोना होने की आशंका है वो सब अपना टेस्ट करवा सकें।

आप नेता ने कहा, केंद्र सरकार सभी लैब्स को लाइसेंस और सभी राज्यों को टेस्टिंग किट्स दे। जब तक लोगों को पता नहीं चलेगा कि वे संक्रमित हैं या नहीं वो इस बीमारी से बचने के लिए जरूरी चिकित्सीय उपचार नहीं लेंगे। इससे आने वाले समय में मृत्यु के आंकड़े बढ़ सकते हैं और स्थितियां भयावह हो सकती हैं।

 

खबरें और भी हैं...