नागपुर: देशमुख फिर से मंत्रिमंडल में दिखेंगे, राकांपा विधायक मिटकरी ने जताया विश्वास 

March 30th, 2022

डिजिटल डेस्क, नागपुर. राज्य के पूर्व गृहमंत्री अनिल देशमुख के घर और कार्यालय पर अनेक छापे मारकर भी ईडी, सीबीआई के हाथ कुछ नहीं लगा है। अब वह जेल के बाहर आएंगे और फिर एक बार मंत्रिमंडल में दिखाई देंगे। यह विश्वास राकांपा के प्रवक्ता व विधायक अमोल मिटकरी ने जताया। देशमुख के काटोल-नरखेड़ निर्वाचन क्षेत्र मेंे दौरे पर वह आए थे। इस दौरान पत्रकारों से बात कर रहे थे। मिटकरी ने कहा कि भाजपा का षड़यंत्र संपूर्ण जनता को पता है। चांदीवाल आयोग के सामने सचिन वाझे ने गिरगिट की तरह रंग बदला है। परमबीर सिंह जैसे भ्रष्ट व्यक्ति अनिल देशमुख को बदनाम करने का प्रयास कर रहे हैं। आयकर छापे मारे या फिर ईडी, उससे कुछ साध्य नहीं होने वाला है। शिवसेना नेता सांसद संजय राऊत ने भी देशमुख के इस्तीफे को गलती माना है। इससे साबित हो गया कि आघाड़ी के विरोध में भाजपा लगातार षड़यंत्र रच रही है। इसका उन्हें जल्द जवाब मिलेगा। 

शिवसेना का मत नहीं

शिवसेना विधायक तानाजी सावंत द्वारा निधि वितरण में उपमुख्यमंत्री अजित पवार पर भेदभाव का आरोप लगाने पर मिटकरी ने कहा कि एक विधायक ने कहा, इसलिए वह शिवसेना का मत नहीं हो सकता है। उनकी पार्टी के ही विधायक सुनील बांगर ने वित्तमंत्री अजित पवार को उन्हें 750 करोड़ रुपए की निधि देने की जानकारी दी। 

विधायिकी के लिए भागदौड़ 

राकांपा प्रवक्ता ने कहा कि सदाभाऊ खोद का विधायिका का कार्यकाल समाप्त हो गया है। खुद की ओर ध्यान आकर्षित करने के लिए वे कुछ भी बोलते रहते हैं। शरद पवार पर आरोप लगाने से प्रसिद्धि मिलती है। उसका संज्ञान लिया जाता है, यह सदाभाऊ का राजनीतिक फंडा है, लेकिन किसके बारे में बोल रहे हैं और क्या बोल रहे हैं, यह ध्यान में रखने की जरूरत है।