दैनिक भास्कर हिंदी: स्कूलों पर बिफरा शिक्षा विभाग, कहा- स्टूडेंट्स को शीघ्र दिए जाएं सिफारिश पत्र

July 2nd, 2018

डिजिटल डेस्क, नागपुर। राज्य उच्च व तकनीकी शिक्षा विभाग ने इस वर्ष विविध तकनीकी पाठ्यक्रमों के साथ-साथ पॉलिटेक्निक में प्रवेश के लिए भी जाति  वैधता प्रमाण-पत्र अनिवार्य किया है। मगर 10वीं कक्षा उत्तीर्ण करने के बाद पॉलिटेक्निक में प्रवेश के इच्छुक स्टूडेंट्स को प्रमाण-पत्र बनाने के लिए उनके स्कूलों द्वारा सिफारिशी पत्र देने से इनकार किया जा रहा है। बार-बार मिलने वाली शिकायतों पर सजग होकर समाज कल्याण विभाग और स्कूली शिक्षा विभाग स्टूडेंट्स की मदद के लिए आगे आया है।

हाल ही में शिक्षा विभाग ने नागपुर के विभिन्न स्कूलों को पत्र जारी किया है। इसमें स्कूलों के प्राचार्यों को जाति वैधता प्रमाण-पत्र की अनिवार्यता के बारे में बताया गया है। निर्देश दिए गए हैं कि स्टूडेंट्स ने अगर उनके स्कूल से टीसी निकाल ली हो, तो भी प्राचार्य उन्हें जाति वैधता प्रमाण-पत्र के लिए सिफारिशी पत्र दें। मुहर लगाकर हस्ताक्षर भी करें। शिक्षा उपसंचालक सतीश मेंढे के अनुसार प्राचार्यों को ऐसा सिफारिशी-पत्र केवल जाति वैधता प्रमाण-पत्र के लिए ही निकालना है, ताकि स्टूडेंट्स को पॉलिटेक्निक जैसे पाठ्यक्रमों में प्रवेश लेने में आसानी हो सके।

16 तक रजिस्ट्रेशन की अनुमति
नागपुर विभाग में जारी पॉलिटेक्निक प्रवेश प्रक्रिया को अब तक स्टूडेंट्स की ओर से कोई खास प्रतिसाद मिलता नजर नहीं आ रहा। नागपुर विभाग में पॉलिटेक्निक की 22 हजार के करीब सीटें हैं।  विभाग को महज 908 स्टूडेंट्स के रजिस्ट्रेशन मिले। स्टूडेंट्स को 16 जुलाई तक रजिस्ट्रेशन की अनुमति दी गई है।

यह हो रही थी समस्या 
जाति वैधता प्रमाण-पत्र की अनिवार्यता ने अब पॉलिटेक्निक में प्रवेश की राह मुश्किल कर रखी है। स्टूडेंट्स को पॉलिटेक्निक में पंजीयन के लिए इस वर्ष जाति वैधता प्रमाण-पत्र अनिवार्य किया गया है। इसके आभाव में उन्हें ओपन श्रेणी से प्रवेश लेना होगा। समाज कल्याण विभाग पॉलिटेक्निक में प्रवेश के इच्छुक स्टूडेंट्स को यह प्रमाण-पत्र तब ही देगा, जब उन्हें स्टूडेंट्स के स्कूल से सिफारिशी-पत्र मिलेगा। मगर इधर स्कूल स्टूडेंट्स को 10वीं की अंकसूची और टीसी दे चुके हैं और अब सिफारिशी-पत्र देने से इनकार कर रहे हैं। ऐसे में विद्यार्थी समाज कल्याण विभाग में इस तरह की शिकायतें लेकर पहुंच रहे थे।

पॉलिटेक्निक कॉलेजों ने भी इस समस्या को देखते हुए विभाग से मदद की गुहार लगाई थी। हाल ही में समाज कल्याण विभाग ने नागपुर शिक्षा उपसंचालक को स्कूलों को संबंधित निर्देश जारी करने की सूचना की थी।