comScore

महिला अधिकारी 30 हजार और पटवारी साढ़े तीन हजार रुपए रिश्वत लेते पकड़ाया

महिला अधिकारी 30 हजार और पटवारी साढ़े तीन हजार रुपए रिश्वत लेते पकड़ाया

डिजिटल डेस्क, छिंदवाड़ा। जबलपुर लोकायुक्त की दो टीमों ने जिला मुख्यालय में दो स्थानों पर दबिश देकर एक महिला अधिकारी को 30 हजार रुपए और एक पटवारी को 3500 रुपए रिश्वत लेते रंगे हाथों पकड़ा। पहली कार्रवाई उप संचालक उद्यानिकी विभाग के कार्यालय में हुई तो दूसरी कार्रवाई बरारीपुरा में पटवारी के निवास पर की गई। लोकायुक्त टीम ने महिला अधिकारी व पटवारी के खिलाफ मामला दर्ज किया। ये दोनों कार्रवाई लोकायुक्त एसपी अनिल विश्वकर्मा के नेतृत्व में की गई।बुधवार को दोपहर दो बजे उद्यानिकी कार्यालय में जबलपुर लोकायुक्त डीएसपी की टीम ने दिलीप झरबड़े की टीम ने ग्रामीण उद्यानिकी विस्तार अधिकारी परिस्ता धुर्वे को रंगे हाथ पकड़ा। जब तक यह मामला दर्ज हो पाता इसी बीच दूसरी टीम ने अपराह्न 4 बजे डीएसपी केके वर्मा के नेतृत्व में बरारीपुरा में एक पटवारी को उसके निवास पर रिश्वत लेते पकड़ लिया। एक दिन में दो स्थानों पर हुई कार्रवाई से प्रशासनिक गलियारे में दहशत का माहौल बन गया है। 

ट्रैक्टर अनुदान जारी करने के लिए 10 फीसदी रिश्वत 

उद्यानिकी विभाग के उपसंचालक कार्यालय से दो किसानों ने शासन की यंत्र अनुदान योजना से ट्रैक्टर खरीदे थे। योजना के तहत दोनों किसानों के खातों में मार्च माह में डेढ़-डेढ़ लाख रुपए अनुदान राशि जमा होनी थी। चुनाव प्रक्रिया के चलते किसानों को अनुदान राशि नहीं मिली तो उन्होंने ट्रैक्टर एजेंसी के संचालक पवन वर्मा से सहयोग मांगा। पवन वर्मा ने अनुदान राशि जारी करने के लिए उद्यानिकी विभाग में संपर्क किया तो यहां पदस्थ ग्रामीण उद्यानिकी विस्तार अधिकारी परिस्ता धुर्वे ने अनुदान राशि की 15 फीसदी रकम मांगी। ट्रैक्टर एजेंसी संचालक ने महिला अधिकारी से चर्चा कर अनुदान राशि जारी के लिए 10 फीसदी रकम पर सहमति बनाई। इसके बाद लोकायुक्त टीम से संपर्क कर मामले की जानकारी दी। बुधवार को दोपहर 2 बजे परिस्ता धुर्वे ने जैसे ही पवन वर्मा से 30 हजार रुपए की रकम ली। लोकायुक्त टीम ने परिस्ता धुर्वे को रंगे हाथ पकड़ लिया। टीम में शामिल महिला अधिकारियों ने परिस्ता से नगद रकम बरामद की और उसके हाथ पानी में डुबोए तो नोटों पर लगे पाउडर से पानी लाल हो गया। 

बही और नक्शा बनाने के लिए मांगी रकम

उमरेठ के किसान महेन्द्र सोनी ने ग्राम कोहर में चार एकड़ जमीन खरीदी थी। इस जमीन की बही बनाने, नक्शा और बिक्री पत्रक बनाने के एवज में पटवारी विजय कुमार राउत ने तीन हजार रुपए की रिश्वत मांगी थी। आज जब पटवारी ने किसान महेंद्र को तीन हजार रुपए रकम लेकर घर बुलाया तो लोकायुक्त टीम ने दबिश दे दी। महेंद्र सोनी ने बताया कि पटवारी की प्रताडऩा से तंग आकर उन्होंने लोकायुक्त जबलपुर को शिकायत की थी। टीम के साथ किसान ने पटवारी से दो तीन बार अपने काम को लेकर चर्चा की और रिश्वत की रकम कम करने कहा लेकिन पटवारी अपनी निर्धारित रकम पर अड़े रहे। बुधवार को पटवारी ने रुपए लेकर अपने घर बुलाया था। शहर के बरारीपुरा स्थित दास मोहल्ले में पटवारी के निवास पर पहुंचा। जैसे ही किसान ने पटवारी विजय राउत को रंगे हाथों दबोच लिया। रिश्वत की रकम पर लगे केमिकल से पटवारी के हाथ पानी में डुबोते ही लाल हो गए। लोकायुक्त टीम ने पटवारी के खिलाफ प्रकरण दर्ज कर लिया है।

रिश्वत की उधारी भी वसूली

आवेदक महेन्द्र सोनी ने बताया कि पटवारी विजय राउत से अन्य खेत के दस्तावेज बनवाए थे उस वक्त पटवारी विजय राउत ने 3000 रुपए की मांग की थी। आर्थिक तंगी के कारण वह पटवारी को 2500 रुपए दे पाया था। इस रिश्वत में 500 रुपए की उधार रकम भी पटवारी ने बुधवार को मांगी थी।   
 

कमेंट करें
UZ1VQ