दैनिक भास्कर हिंदी: बाढ़ : सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाए गए लाखों लोग, मदद के लिए शिर्डी देगा 10 करोड़, सिद्धिविनायक 10 लाख लीटर मिनरल वाटर

August 11th, 2019

डिजिटल डेस्क, मुंबई। बाढ़ में फंसे 4 लाख 24 हजार 333 लोगों को अब तक सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया जा चुका है। बाढ़ पीड़ितों की मदद के लिए नौसेना के 15 दस्ते नावों के साथ कोल्हापुर जिले के शिरोल पहुंचे हैं। राज्यभर में फिलहाल 69 तालुका और 761 गांव बाढ़ प्रभावित हैं। राज्य के आपदा नियंत्रण कक्ष ने शनिवार को यह जानकारी दी। फिलहाल स्थानीय प्रशासन के साथ सांगली, कोल्हापुर में राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन बल (एनडीआरएफ) के 23, नौसेना के 26, तटरक्षक दल के सांगली में 2, कोल्हापुर में 9, सेना के 8 दस्ते राज्य आपदा प्रबंधन बल के सांगली में 2 और कोल्हापुर में 1 दस्ता तैनात है। इसके अलावा विशाखापट्टनम से नौसेना के 15 दस्ते भी राहत और बचाव कार्य में मदद के लिए कोल्हापुर पहुंच गए हैं। कोल्हापुर से अब तक 2 लाख 33 हजार 150 जबकि सांगली से 1 लाख 44 हजार 987 नागरिकों को सुरक्षित स्थानों तक पहुंचाया गया है। कोल्हापुर में 74 और सांगली में 93 नावों के जरिए लोगों तक राहत पहुंचाई जा रही है। बाढ़ पीड़ितों के ठहरने के लिए कोल्हापुर जिले में 187 और सांगली जिले में 117 अस्थायी ठिकाने बनाए गए हैं जहां लोगों के लिए खाने पीने और दवाई की सुविधा उपलब्ध है। दोनों जिलों में बाढ़ में फंसे 43 हजार 922 जानवरों को भी सुरक्षित स्थानों पर ले जाया गया है।  

कहां-कहां बाढ़ से परेशान लोग

कोल्हापुर जिले के 249 गांवों में रहने वाले 48 हजार 588 परिवार वहीं सांगली जिले में 108 गांवों के 28 हजार 537 परिवार बाढ़ से प्रभावित हैं। राज्य सरकार बाढ़ प्रभावितों तक मदद पहुंचाने के लिए केंद्र सरकार के साथ भी लगातार संपर्क में है। आपदा नियंत्रण कक्ष सोशल मीडिया और हेल्पलाइन के जरिए मिल रही सूचनाओं को स्थानीय प्रशासन तक पहुंचाकर लोगों की मदद कर रहा है। कोल्हापुर, सांगली के साथ सातारा के 118, ठाणे के 25, पुणे के 108, नाशिक के 5, पालघर के 58, रत्नागिरी के 12, रायगढ के 60, सिंधुदुर्ग के 18 गांव बाढ़ प्रभावित हैं।

मुंबई भाजपा के विधायक और नगरसेवक बाढ़ पीड़ितों के लिए देंगे एक महीने का वेतन

राज्य के बाढ़ पीड़ितों की सहायता के लिए भारतीय जनता पार्टी के मुंबई के सभी विधायक और नगरसेवक अपना एक महीने का वेतन मुख्यमंत्री सहायता कोष में दान देंगे। मुंबई प्रदेश भाजपा अध्यक्ष व विधायक मंगल प्रभात लोढ़ा ने यह जानकारी दी। उन्होंने यह भी कहा कि भाजपा के सभी कार्यकर्ता व पदाधिकारी भी बाढ़ पीड़ितों की सहायता के लिए अपनी ओर से मुख्यमंत्री सहायता कोष में सहयोग देंगे। लोढ़ा ने मुंबई की जनता से भी बाढ़ पीड़ितों के लिए मुख्यमंत्री सहायता कोष में दान की अपील की है। पश्चिम महाराष्ट्र के कोल्हापुर व सांगली आदि जिलों में भयंकर बाढ़ से लाखों लोग बेघर हो गए हैं। लोढ़ा के मुताबिक सामान्य से 12 गुना ज्यादा बारिश होने की वजह से सैकड़ों गांव पूरी तरह पानी में डूब गए हैं। खेती नष्ट होने के साथ-साथ हजारों घर भी पूरी तरह से बर्बाद हो गए हैं।  ना तो लोगों के पास खाने को भोजन है और न ही पहनने को कपड़े हैं। लोढ़ा ने  कहा है कि यह मुंबई के लोगों का इतिहास रहा है कि देश में कहीं भी विपदा आई हो, यहां के लोग हमेशा मदद के लिए आगे आए हैं। उन्होंने कहा कि कोल्हापुर व सांगली जिलों में करीब ढाई लाख से ज्यादा लोगों को मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस की अगुवाई में  सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है। मुंबई के लोगों से भाजपा अध्यक्ष लोढ़ा ने बाढ़ प्रभावित लोगों की हरसंभव सहायता की अपील की है।

बाढ़ पीड़ितों की मदद के लिए शिर्डी संस्थान देगा 10 करोड़, सिद्धिविनायक मंदिर भेजेगा 10 लाख लीटर मिनरल वाटर

राज्य के विभिन्न इलाकों मे आई बाढ़ से पीड़ितों को राहत पहुंचाने के लिए लोग आए आ रहे हैं। इस बीच शिरडी के श्री साईबाबा संस्थान ट्रस्ट ने 10 करोड़ रूपये की आर्थिक सहायता की घोषणा की है। शिर्डी संस्थान के अध्यक्ष सुरेश हवारे ने शनिवार को कहा कि शिर्डी संस्थान ने बाढ़ प्रभावित लोगों के लिए मुख्यमंत्री राहत कोष में दस करोड़ रूपये की सहायता देने का निर्णय लिया है। मुंबई के सिद्ध विनायक मंदिर ट्रस्ट ने भी बाढ़ पीड़ितों की मदद का फैसला लिया है। मंदिर ट्रस्ट की तरफ से बाढ़ पीड़ितों को मिनरल वाटर भेजा जाएगा। 11 लाख लीटर शुद्ध पानी बोतल बाढ़ ग्रस्त इलाकों में भेजा जाएगा। 
 

खबरें और भी हैं...