comScore

फ्लाइंग क्लब : ढाई साल से बंद पड़ा, कर्मचारियों पर नौकरी नहीं छोड़ने का दवाब

फ्लाइंग क्लब : ढाई साल से बंद पड़ा, कर्मचारियों पर नौकरी नहीं छोड़ने का दवाब

डिजिटल डेस्क, नागपुर । नागपुर फ्लाइंग क्लब पिछले करीब ढाई साल से बंद पड़ा है। फ्लाईंग क्लब बंद होने के कारण वहां के टेक्निकल स्टॉफ सहित अन्य कर्मचारियों को काम करने का मौका ही नहीं मिल रहा है। इस वजह से कर्मचारियों को एक्सपोजर नहीं मिल पा रहा है। विशेष बात यह है कि कर्मचारियों के अनुभव में बंद फ्लाईंग क्लब का नाम जुड़ रहा है। प्रशासन भले ही बड़े-बड़े दावे कर रहा है लेकिन फ्लाईंग क्लब कब शुरू होने अभी तक किसी को मालूम नहीं है।  ऐसे में कर्मचारी नौकरी छोड़ने की स्थिति में हैं, लेकिन वरिष्ठ अधिकारियों द्वारा उन पर नहीं छोड़ने का दवाब बनाया जा रहा है। कर्मचारी यहां के कामकाज से बिलकुल भी संतुष्ट नहीं हैं।

सीएफआई की नियुक्ति विवाद में
जनहित याचिका पर सुनवाई के बाद फ्लाइंग क्लब का मामला एक बार फिर प्रकाश में आया है। इसके पहले यह मामला ठंडे बस्ते में पड़ा हुआ था। तत्कालीन मुख्य उड़ान निदेशक (चीफ फ्लाइंग इंस्ट्रक्टर) शिव जायस्वाल के छोड़ के जाने के बाद फ्लाइंग क्लब बंद हो गया। कुछ समय बाद दूसरे सीएफआई की नियुक्ति की गई, लेकिन वह भी अवैध साबित हुई, जिसके बाद से अब तक उस पद पर नियुक्ति नहीं हो सकी। फ्लाइंग क्लब के लगातार विवादों में आने के बाद कई कर्मचारियों ने नौकरी छोड़ने का तय कर िलया, लेकिन वरिष्ठ अधिकारियों के दवाब के कारण ऐसा नहीं कर सके।

कर्मचारियों का कहना- नहीं मिल रहा मौका
कर्मचारियों ने नाम नहीं छापने की शर्त पर बताया कि यहां काम करने का मौका नहीं मिल रहा है, इस से हम दूसरे फ्लाइंग क्लब में नौकरी के लिए आवेदन करना चाहते थे। इस पर कुछ अधिकारियों का कहना है कि यदि यहां से नौकरी छोड़कर जाओगे, तो वहां के अधिकारियों को बता देंगे और तुम्हें वहां नौकरी नहीं मिलेगी। इससे यहां की भी नौकरी चली जाएगी और वहां भी काम करने का मौका नहीं मिलेगा।
 

कमेंट करें
9gN8e