दैनिक भास्कर हिंदी: गैंगस्टर विजय मोहोड़ की हत्या के लिए दी गई थी लाखों रुपए की सुपारी

June 19th, 2019

डिजिटल डेस्क ,नागपुर। गैंगस्टर विजय मोहोड़ की हत्या के लिए लाखों रुपए की सुपारी दिए जाने की चर्चा है । हत्या प्रकरण में गिरफ्तार आरोपी अभय राऊत और सूरज कार्लेवार को अपराध शाखा पुलिस की यूनिट-4 ने अदालत के समक्ष पेश किया। अदालत ने दोनों को 5 दिन की पुलिस रिमांड पर भेजने का आदेश दिया है। 

यूनिट पर असफलता के आरोप 

शहर में अपराध शाखा पुलिस विभाग की 5 यूनिट कार्यरत है। इस यूनिट में शामिल अधिकारी- कर्मचारी को यही जिम्मेदारी दी गई है कि वह अपने- अपने क्षेत्र में चल रहे अवैध धंधे पर रोकथाम लगाएं और अपराधियों की धर-पकड़ करें, लेकिन हुडकेश्वर थानांतर्गत खरसोली में चल रहे कुख्यात अपराधी अभय राऊत के जुआ व सट्टा-अड्डा की भनक पाने में हुडकेश्वर थाने और यूनिट 4 के अधिकारी- कर्मचारी असफल रहे। 

कारण यह माना जा रहा था

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, विजय मोहोड की हत्या लाखों रुपए की सुपारी देकर कराई गई। उसकी जान नरसाला क्षेत्र में प्रिंसेस लॉन के पीछे में करीब डेढ़ एकड़ जमीन के चक्कर में जाने की बात कही जा रही है। यह जमीन किसी संपत मोहोड नामक किसान की थी। इस जमीन का सौदा पहले मोहन ठवकर और प्रभाकर मेश्राम ने संपत से किया था। कुछ दिन पहले संपत का निधन हो गया। करोड़ों की इस जमीन का सौदा करने के बाद मोहन और प्रभाकर संपत को पैसे नहीं दे रहे थे। 

3 करोड़ की है किसान की जमीन 

पुलिस सूत्रों के अनुसार, संपत मोहोड की डेढ़ एकड़ की इस  जमीन की कीमत करीब 3 करोड़ रुपए आंकी गई है। इस जमीन काे संपत से खरीदने का सौदा सबसे पहले मोहन ठवकर और प्रभाकर मेश्राम ने किया था। मोहन ठवकर और प्रभाकर मेश्राम साझेदारी में प्लॉटों के ले-आउट का धंधा करते हैं। दोनों ने संपत मोहोड के साथ इस डेढ़ एकड़ जमीन की खरीदी का एग्रीमेंट किया। 51 हजार रुपए टोकन के रूप में दिए। उसके बाद उस जमीन पर ले-आउट डालकर मोहन और प्रभाकर ने प्लॉटों की बिक्री शुरू कर दी। संपत मोहोड मोहन ठवकर और प्रभाकर मेश्राम के पास कई बार बकाया रकम मांगने गया, लेकिन उसे पैसे नहीं दिए गए। वृद्ध अवस्था के चलते उसकी मौत हो गई।