दैनिक भास्कर हिंदी: 22 हजार मजदूरों के हाथ में 4 हजार पौधों की जिम्मेदारी !

January 15th, 2018

डिजिटल डेस्क, गोंदिया(खातिया)। गोंदिया तहसील के खातिया से कामठा मार्ग के दोनों किनारों पर लगाए गए 4 हजार पौधों की सुरक्षा की जिममेदारी 22 हजार मजदूरों को सौंपी गई हैै।  ये मजदूर इस मार्ग के दोनों ओर हरीतिमा बनाए रखने के लिए जुटे हुए हैं। उल्लेखनीय है कि सरकार की पौधारोपण योजना अंतर्गत जिले में पौधारोपण का लक्ष्य दिया गया है। इसके तहत गोंदिया तहसील अंतर्गत ग्राम खातिया से कामठा तक के मुख्य मार्ग के दोनों किनारों पर 4 हजार पौधे लगाए जा चुके हैं जिस कारण भविष्य में इस मार्ग पर हरियाली ही हरियाली नजर आएगी।

सड़क के दोनों किनारे लगाए पौधे
सामाजिक वनीकरण विभाग की ओर से यह पौधे मार्ग के दोनों किनारों पर लगाए जा रहे हैं। वर्ष 2015-16 में 2 हजार पौधे व बिरसी से कामठा मार्ग पर 2 हजार पौधे लगाए गए हैं। 4 कि.मी. के इस मार्ग पर करीब 4 हजार पौधे लगाए गए हैं जो आगामी वर्षों में क्षेत्र के सौंदर्य में चार चांद लगाएंगे, ऐसा अनुमान जताया जा रहा है। खातिया-कामठा मार्ग पर लगाये गये यह पौधे धीरे-धीरे बड़े होने लगे हैं। इससे क्षेत्र की शोभा  बढऩे लगी है। बढ़ते प्रदूषण के कारण सूरज की तपिश बढ़ती जा रही है, पानी की कमी विकराल रूप धारण करने लगी है। प्रकृति का असंतुलन, वायू प्रदूषण, आक्सिजन की कमी जैसी समस्याएं दिन-ब-दिन गंभीर रूप धारण करती जा रही हैं। ऐसे में पर्यावरण का संतुलन बनाए रखने व अन्य कारणों से मुक्ति के लिए सरकार की ओर से सामाजिक वनीकरण विभाग की यह पहल धीरे-धीरे रंग लाती नजर आने लगी है। यदि इन पौधों का संवर्धन सही तरीके से हुआ तो वह दिन दूर नहीं, जब यह मार्ग हरियाली से पटा होगा। इस मार्ग पर 4 हजार पौधों को जीवन मिल चुका है जो अब धीरे-धीरे वृक्ष में तब्दील होने लगे हैं।  इन चार हजारों वृक्षों की सुरक्षा के लिए 22 मजदूर दिन-रात काम कर रहे हैं। इसी प्रकार इन मजदूरों को मजदूरी भी दी जा रही है। बता दें कि, इन वृक्षों में 19 प्रजाति के वृक्ष हंै जिनमें जामुन, आंवला, पलाश, आम, बखान, नीम, पीपल, बड़, गुलमोहर, कदंब, सप्तपर्णी, चंदन, करंजा, बेल आदि का समावेश है। अब यह वृक्ष मार्ग की शोभा बढ़ाने के साथ ही फल देने के लिए भी तैयार होनेे लगे हैं।