दैनिक भास्कर हिंदी: अब नाग नदी का होगा कायाकल्प, फ्रांस की ली जाएगी मदद 

November 25th, 2017

डिजिटल डेस्क, नागपुर| स्मार्ट सिटी बनने जा रहे उपराजधानी की मुख्य कड़ी समझे जाने वाले नागनदी का कायाकल्प करने अब फ्रांस की मदद ली जाएगी। फ्रांस सरकार की फ्रेंच डेवलपमेंट एजेंसी (एएफडी)द्वारा नाग नदी विकास प्रोजेक्ट की स्टडी की जाएगी और फिर प्रारूप तैयार करने में टेक्नीकली और फाइनेंशियल सपोर्ट करेगी। यह कंपनी नागपुर शहर को स्मार्ट सिटी बनाने में भी मदद करेगी। यह जानकारी इंडो-फ्रेंच अर्बन डेवलपमेंट एंड स्मार्ट सिटी वर्कशाप के समापन अवसर पर उपसंचालक ऐरवे ड्यूब्रई ने दी।  मनपा मुख्यालय स्थित छत्रपति शिवाजी महाराज नई प्रशासकीय सभागृह में वर्कशाप हुई। महापौर नंदा जिचकार की अध्यक्षता में आयोजित समापन कार्यक्रम में स्थायी समिति सभापति संदीप जाधव, सत्तापक्ष नेता संदीप जोशी, विरोधी पक्षनेता तानाजी वनवे, आयुक्त अश्विन मुद्गल, अतिरिक्त आयुक्त डॉ. आर.जेड. सिद्धिकी, स्मार्ट सिटी प्रकल्प के मुख्य कार्यकारी अभियंता डॉ. रामनाथ सोनवणे, उपायुक्त डॉ. रंजना लाडे आदि उपस्थित थे। 

नागनदी डेवलपमेंट की ली जानकारी

20 से 24 नवंबर तक आयोजित कार्यशाला में इंडो-फ्रेंच के कंस्लटेंट सिग्नेस पेसेजेस, सुएेज सेफेज और मे.पी.के. दास एंड एसोसिएट्स के प्रतिनिधि सहित स्मार्ट सिटी प्रकल्प अंतर्गत एरिया बेस्ड डेवलपमेंट के लिए नगररचना परियोजना तैयार करने वाली एचसीपी अहमदाबाद के प्रतिनिधि शामिल हुए। इन प्रतिनिधियों ने पांच दिन में एरिया बेस्ड डेवलपमेंट अंतर्गत चयनित पारडी, भरतवाड़ा, पुनापुर क्षेत्र और नागनदी को भेंट दी। एचसीपी और एसपीवी के प्रतिनिधियों ने प्रकल्प के बारे में जानकारी ली।  कार्यशाला के दौरान सिग्नेस पेसेजेस के प्रतिनिधि ने ग्रीन स्पेस डेवलपमेंट मेथोडोलॉजी संदर्भ में प्रस्तुतिकरण किया। प्रमुख अधिकारी मो. इसराइल ने नागनदी प्रदूषण नियंत्रण प्रकल्प बाबत प्रस्तुतिकरण दिया। समापन कार्यक्रम में नागनदी विकास और एरिया बेस्ड डेवलपमेंट कार्यक्रम की जानकारी दी गई। 

महत्वाकांक्षी प्रोजेक्ट को गति देने के प्रयास

इंडो-फ्रेंच कंपनी के तकनीकी और आर्थिक सहयोग से यह प्रोजेक्ट पूरा किया जाएगा। महापौर नंदा जिचकार ने कहा कि इंडो-फ्रेंच कंपनी के संयुक्त हिस्सेदारी से हो रहे विकास कार्यक्रम नागपुर शहर को स्मार्ट सिटी बनाने में मददगार साबित होंगे। आयुक्त अश्विन मुद्गल ने कहा कि यह महत्वकांक्षी प्रकल्प है। एएफडी का तकनीकी और आर्थिक सहयोग नागपुर के विकास को नई दिशा और गति देगा। कार्यशाला में डॉ. अरुण कुमार सिंह (एनवॉरॉनिक्स, नई दिल्ली), सिबिला जैक्सिक (सिग्नेस फ्रांस), रमेश स्वराणकर (सेफगार्ड स्पेशालिस्ट, एएफडी), क्लेमेंट फोरकी (उपमहासंचालक एस्पिलिया) आदि उपस्थित थे।