दैनिक भास्कर हिंदी: पुणे में शांतिपूर्ण माहौल में गणेश विसर्जन, तीन से चार घंटे पहले खत्म हुई शोभायात्रा

September 13th, 2019

डिजिटल डेस्क, पुणे। पूरे देश में प्रसिद्ध होने वाला पुणे की गणेश विसर्जन शोभायात्रा पिछले साल की तुलना में इस साल तीन से चार घंटे पहले ही खत्म हो गई। इस दौरान छुटपुट घटनाएं छोड़ किसी भी प्रकार की बड़ी हिंसक घटना नहीं हुई है । पांरपारिक वाद्य, पांरपारिक वेशभूषा  धारण किए हुए युवक, युवतियां, ढोल ताशा पथक, बैंड पथक शोभायात्रा मार्ग पर आकर्षक रंगोलियां, गणेश भक्तों की भीड़ और गणपति बाप्पा मोरया, पुढच्या वर्षी लवकर या की गूंज में हर साल की तरह सब्जी मंडी से सुबह साढ़े दस बजे विसर्जन शोभायात्रा की शुरूआत हुई। परंपरा के अनुसार पहले सम्मान के पांच गणपति कसबा गणपति, तांबड़ी जोगेश्वरी, गुरूजी तालीम, तुलशीबाग, केसरी वाड़ा इन पांच गणपति शोभायात्रा में शामिल हुए। शाम साढ़े छह बजे तक इन पांचों गणपतियों का विसर्जन किया गया। उसके बाद अन्य गणपति मंडल शोभायात्रा में शामिल हुए। श्रीमंत दगडूशेठ हलवाई गणपति शुक्रवार की सुबह 7 बजकर 54 मिनटों पर विसर्जित किया गया। इस साल मनमोहक असंख्य दीपों की विद्युतरोशनाई किए हुए विकटविनायक रथ में गणपति विराजमान थे। 

पुलिस की कड़ी शर्तों का परिणाम   

उल्लेखनीय है कि गुरूवार की सुबह साढ़े दस बजे शुरू हुई शोभायात्रा दूसरे दिन शुक्रवार की सुबह साढ़े दस बजे खत्म हुई। पिछले साल की तुलना में इस साल तीन से चार घंटे पहले शोभायात्रा  खत्म हुआ। इस साल शहर पुलिस ने गणेश मंडलों के लिए कड़ी शर्ते लागू की थी जिस कारण महज 128 मंडल ही शोभायात्रा में शामिल हुए। रात 12 के बाद पुलिस ने मंडलों के डीजे स्पिकर बंद करवाए गए। सुबह छह के बाद भी मंडलों को स्पिकर लगाने की मंजूरी नहीं दी। इसलिए कई मंडल शोभायात्रा में शामिल होने के बजाय वापस लौट गए। दूसरी बात कई मंडलों ने सांगली तथा कोल्हापुर के बाढ़ प्रभावितों को आर्थिक मदद की तो कईयों को उम्मीद से कम चंदा मिला। इन वजहों से भी मंडलों की संख्या कम हुई।  पुणे में विसर्जन शोभायात्रा के दौरान जगह-जगह व्यापक बंदोबस्त रहा।