एक्शन प्लान: गुरुग्राम में वायु प्रदूषण रोकने के लिए कार्य योजना शुरू, संबंधित विभागों को दी गई जिम्मेदारियां

October 2nd, 2021

हाईलाइट

  • जिम्मेदार अधिकारियों हर शाम भेजेंगे नोडल अधिकारी को रिपोर्ट

डिजिटल डेस्क, गुरुग्राम। गुरुग्राम में वायु प्रदूषण को नियंत्रित करने के लिए एक कार्य योजना शुरू की गई है। इसके लिए उपायुक्त यश गर्ग ने नगर निगम गुरुग्राम (एमसीजी), गुरुग्राम महानगर विकास प्राधिकरण (जीएमडीए), हरियाणा शहरी विकास प्राधिकरण (एचएसवीपी) और पुलिस विभाग समेत संबंधित विभागों की जिम्मेदारियां तय की हैं। इन विभागों के अधिकारी रोजाना अपने संबंधित क्षेत्रों में निगरानी रखेंगे और उल्लंघन करने वालों के खिलाफ कार्रवाई सुनिश्चित करेंगे। इसके अलावा सभी जिम्मेदार अधिकारियों को हर शाम की गई कार्रवाई की रिपोर्ट तैयार कर नोडल अधिकारी को भेजनी होगी।

इस योजना के तहत जिले में सभी निर्माणाधीन परियोजनाओं, लाल और नारंगी श्रेणी की कंपनियों को 15 दिनों के भीतर प्रदूषण को रोकने के लिए किए गए उपायों के बारे में राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (एचपीसीबी) को सूचित करना होगा। इसके अलावा, वायु प्रदूषण को कम करने के लिए उद्योगों को जनरेटर का उपयोग कम करने के लिए निर्बाध बिजली उपलब्ध कराने के लिए कहा गया है। इसी तरह जिले में भी हॉटस्पॉट चिन्हित किए गए हैं, जहां से सबसे ज्यादा प्रदूषण होता है। एमसीजी स्प्रिंकलर से सड़कों पर उड़ने वाली धूल पर पानी का छिड़काव करेगा। इसके साथ ही नगर निकाय और एचएसवीपी को होटलों में कचरा, प्लास्टिक और कपड़े, लकड़ी और कोयले को जलाने पर नजर रखने को कहा गया है। दोनों विभागों की टीमें पेट्रोलिंग कर इसे सुनिश्चित करेंगी। पुलिस को जिम्मेदारी दी गई है कि वह अवैध पार्किं ग और ट्रैफिक जाम न होने दें।

उद्योग विहार, सेक्टर-37, सेक्टर-18, बेगमपुर खतौला और आईएमटी मानेसर जैसे क्षेत्रों को हॉटस्पॉट में शामिल किया गया है। इसके अलावा वाहनों से होने वाले प्रदूषण की रोकथाम के लिए इफको चौक, एंबिएंस मॉल, राजीव चौक, सुभाष चौक, वाटिका चौक, हीरो होंडा चौक, कैप्टन उमंग भारद्वाज चौक, सेक्टर-10, सोहना चौक, खेरकीदौला टोल प्लाजा, बांधवाड़ी टोल प्लाजा, द्वारका एक्सप्रेसवे, हुडा सिटी सेंटर, हैमिल्टन कोर्ट डीएलएफ फेज -4, बस स्टैंड, पटौदी रोड, द्वारका एक्सप्रेसवे, रामपुरा फ्लाईओवर, बिलासपुर चौक कुछ ऐसे हॉटस्पॉट हैं जिनकी पहचान की गई है। गारबेज डंपिंग साइट्स को भी हॉटस्पॉट में शामिल किया गया है, जिसमें बांधवाड़ी और मानेसर जैसी जगहें भी शामिल हैं।

गर्ग ने कहा, योजना के तहत कृषि विभाग को किसानों पर अधिक ध्यान देने, पराली न जलाने के लिए जागरूक करने की जिम्मेदारी दी गई है। इसके साथ ही विभाग की टीम रोजाना पेट्रोलिंग भी करेगी।

(आईएएनएस)