दैनिक भास्कर हिंदी: हज यात्रा: विदर्भ स्तरीय हज प्रशिक्षण शिविर में किया मार्गदर्शन, बताए यात्रा सफल बनाने के टिप्स

July 14th, 2018

डिजिटल डेस्क, मुंबई। हज कमेटी ऑफ इंडिया और महाराष्ट्र राज्य हज कमेटी के मार्गदर्शन में विदर्भ स्तरीय हज प्रशिक्षण शिविर शनिवार को  भालदारपुरा स्थित हज हाउस में किया गया । शिविर में नागपुर इंबारकेशन सेंटर के मुख्य समन्वयक इब्राहिम भाईजान तथा महाराष्ट्र राज्य हज कमेटी के सीईओ इम्तियाज काजी ने प्रमुखता से उपस्थित रहकर मार्गदर्शन किया। कार्यक्रम की अध्यक्षता सेंट्रल तंजीम कमेटी के अध्यक्ष हाजी अ. कदीर ने की। शिविर में तंजीम कमेटी के उपाध्यक्ष शाहिद नसीम खान, सचिव हाजी मो. कलाम, सदस्य इकबाल बेरा, नियाज अहमद, अजीज खान, अ. मतीन हाजी रहमान, मौलाना मेहबूब रिजवी ने इस अवसर पर उपस्थितों को मार्गदर्शन किया।

इधर मिल रही सुविधाएं
बता दें कि हज हाउस में यात्रियों को होने वाली असुविधाओं को लेकर भास्कर डाट काम ने ध्यान आकर्षित किया था। हज हाउस की जिन समस्याओं की ओर ध्यान दिलाया था, उन्हें हल करने के लिए तेजी से काम चल रहे हैं। यात्रियों की सुविधा के लिए  हज हाउस में अमेरिकी कंपनी फाल्को मोटर्स द्वारा निर्मित 3 लाख की कीमत का 14 फीट का पंखा लगाया गया। मुंबई के बाद पहली बार नागपुर में इतना बड़ा पंखा लगाया गया है। 10 लाख की कीमत वाले 10 फीट के और 4 पंखे लगाए जाएंगे।

हज कमेटी ऑफ इंडिया के सदस्य व नागपुर इंबारकेशन सेंटर के मुख्य समन्वयक इब्राहिम भाईजान तथा महाराष्ट्र राज्य हज कमेटी के सीईओ इम्तियाज काजी ने बताया कि हज यात्रा के दौरान यात्रियों को होने वाली परेशानी के मद्देनजर हज हाउस में 13 लाख की लागत से 5 पंखे लगाए जा रहे हैं। सबसे बड़ा 14 फीट का पंखा 3 लाख का है जिसे पुणे से लाया गया। इपॉक कंपनी के इस पंखे से करीब 8 हजार वर्गफीट में हवा फैलेगी। सबसे बड़ी खासियत है कि पंखा 5 एम्पीयर में सिंगल फेज पर चलेगा और स्पीड भी कम होगी। पंखा आकार में बड़ा होने के बावजूद घूमते समय आवाज नहीं आती। पंखे में फारवर्ड और रिवर्स की सुविधा है। रिवर्स करने पर एक्जास्ट का काम करता है। एल्युमीनियम एक्सप्लोजन ब्लेड हवा का ठंडा करती है। 

लिफ्ट और बाथरूम का काम जारी
हज हाउस की बंद लिफ्ट की मरम्मत का काम भी चल रहा है। इसके लिए 1 लाख 45 हजार रुपए की निधि को मंजूरी प्रदान की गई है। हज हाउस के बाथरूम में लीकेज तथा अन्य कार्य नागपुर सुधार प्रन्यास द्वारा किए जा रहे हैं।