दैनिक भास्कर हिंदी: हावड़ा-मुंबई मेल से हो रही थी मानव तस्करी , 35 बच्चों को ले जा रहे थे मुंबई

June 27th, 2019

डिजिटल डेस्क, नागपुर। गुरुवार की सुबह ट्रेन में मानव तस्करी का मामला उजागर हुआ। एक श्ख्स को 35 बच्चों के साथ आरपीएफ ने पकड़ा है। वह श्ख्स बच्चों को हावड़ा से मुंबई ले जा रहा था। शहर पुलिस की मदद से आरपीएफ को इसकी भनक लगने के बाद कार्रवाई की। फिलहाल श्ख्स से पूछताछ जारी  है।  बच्चों को चाइल्ड लाइन भेजा गया। घटना दपूम रेलवे नागपुर मंडल की है। कार्रवाई राजनांदगांव स्टेशन पर शहर पुलिस व आरपीएफ की मदद से की गई है।

जानकारी के अनुसार ट्रेन नंबर 12810 हावड़ा-मुंबई मेल में एक व्यक्ति बच्चों को लेकर सफर कर रहा था। एक ही कोच में इतने सारे नाबालिग देख यात्रियों को इस संदर्भ में संदेह हुआ। किसी ने इसकी जानकारी शहर पुलिस को दे दी। जिसके बाद शहर पुलिस द्वारा यह जानकारी दपूम रेलवे नागपुर आरपीएफ टीम को दी। इस वक्त गाड़ी गोंदिया की ओर आ रही थी। ऐसे में रेलवे कंट्रोल में मैसेज देकर गाड़ी को राजनांदगांव में रोकने के लिए कहा गया।

सुबह 11 बजे शहर पुलिस भी स्टेशन पर पहुंच गई थी। गाड़ी रोकने के बाद टीम ने ट्रेन की छानबीन शुरू कर दी। जिसमें एस-5 बोगी में 35 बच्चें दिखाई दिये। बच्चों से पूछताछ करने पर उन्होंने उस व्यक्ति के साथ मुंबई जाने की बात बताई। तुरंत बच्चों को नीचे उतारा गया।  उस व्यक्ति से मानव तस्करी के आरोप में हिरासत में लेकर पूछताछ जारी की गई। खबर लिखे जाने तक बच्चों को हावड़ा-मुंबई ले जाने की बात सामने आई थी। अनुमानित है, कि बच्चों को मुंबई मायानगरी में छोटे-छोटे हॉटेल्स, शॉपिंग माल आदि में बाल मजदूरी करने ले जा रहा हो। फिलहाल इस बारे में तथ्य सामने आने के हैं।

मानव तस्करी के मामले पहले भी आ चुके हैं सामने

मिलों का सफर तय करनेवाली ट्रेनों में दिन ब दिन मानव तस्करी के मामले बढ़ते जा रहे हैं। मध्य रेलवे नागपुर व दपूम रेलवे नागपुर अंतर्गत गत 6 माह में ऐसे मामलों से कई बार आरपीएफ टीम को निपटना पड़ा है। इसमें इसी तरह नागपुर स्टेशन पर भी कुछ बच्चों को उतारा गया था। जिन्हें काम के लिए ही अपने क्षेत्र से दूसरे क्षेत्र की ओर ले जाया जा रहा था।