दैनिक भास्कर हिंदी: शौचालय में बन रही थी अवैध शराब, 12 क्विंटल महुआ लाहन किया नष्ट

May 5th, 2018

डिजिटल डेस्क छिन्दवाड़ा/परासिया। स्वच्छ भारत अभियान के अंतर्गत बने व्यक्तिगत शौचालयों का उपयोग ग्रामीण क्षेत्रों में किस तरह हो रहा, इसका अनुमान परासिया के गांव बारंगा में पहुंचकर लगाया जा सकता है। आबकारी विभाग की टीम बारंगा गांव पहुंची तो स्तब्ध रह गई, यहां ज्योति डेहरिया नामक महिला के घर पर सरकारी योजना में बने व्यक्तिगत शौचालय का उपयोग महुआ शराब बनाने के लिए हो रहा था। जांच में शौचालय मालिक के घर से बड़ी मात्रा में महुआ शराब भी जब्त हुई।

मुखबिर की सूचना पर आबकारी विभाग ने परासिया के शिवपुरी और झुर्रेमाल क्षेत्र में दबिश देकर महुआ शराब के कई अड्डों को नष्ट किया। इस दौरान 21 प्रकरण बनाए, 40 लीटर महुआ शराब जब्त किया और 12 क्विंटल महुआ लाहन नष्ट किया। महुआ से बनाई गई यह शराब आस पास के क्षेत्र में बेची जा रही थी। आबकारी विभाग को काफी दिनों से इस संबंघ में शिकायतें मिल रहीं  थी। 

दर्जन भर स्थानों पर दी दबिश 
डीईओ दीपम रायचुरा के मार्गदर्शन में आबाकारी विभाग ने लगभग आधा दर्जन विभिन्न स्थानों पर दबिश दी। शिवपुरी के समीप पेंचनदी में प्लास्टिक की बोरियों में महुआ लाहन के साथ पत्थर भरकर नदी में डुबाकर रखा था। स्थानीय गोताखोरों की मदद से 65 प्लास्टिक की बोरियों को निकलवाकर लाहन नष्ट किया गया। फुटेरा और बिछुआ पठार के नाले में स्थित शराब अड्डों में आबकारी अमले ने पहुंचकर बड़ी मात्रा में लाहन जब्त कर नष्ट किया। यहां कुल अज्ञात 15 आरोपियों के खिलाफ प्रकरण दर्ज कर 12 क्विंटल महुआ लाहन नष्ट किया गया। वहीं छह आरोपियों के खिलाफ प्रकरण दर्ज कर 40 लीटर महुआ शराब जब्त की गई। 

इन्होंने दी दबिश
एडीईओ अभिताभ त्रिपाठी, निरीक्षक सीमा कश्यप, एसआई जीत सिंग धुर्वे, वैशाली भगत, प्रधान आरक्षक बीएम शर्मा, बीएस परस्ते, आरक्षक जीपी बामनिया, श्याम शर्मा, करण इवनाती, मोहम्मद अंसारी, सचिन श्रीवास्तव, राजकुमार सैय्याम, अनुरोग गोनेकर इत्यादि शामिल रहे।