comScore

अवैध रेत खनन चरम पर, नदी में बैठे जनपद सदस्य

अवैध रेत खनन चरम पर, नदी में बैठे जनपद सदस्य


 डिजिटल डेस्क छिंदवाड़ा/सौंसर। कन्हान नदी में ग्रामीणों के विरोध के बाद भी अवैध उत्खनन व चोरी थम नहीं रही है। अधिकारियों को सूचना देने के बाद भी रेत माफिया के खिलाफ कार्रवाई नहीं हो रही है। इस बात से आक्रोशित जनपद सदस्य संदीप भकने ने गुरुवार को कन्हान नदी में ग्रामीणों के साथ धरना दिया। भकने जब ग्रामीणों के साथ ग्राम पलासपानी स्थित कन्हान नदी में धरना देने पहुंचे तो उन्हें देख रेत निकाल रही तीन पोकलेन मशीन व १०० डंपर मौके से भाग गए।
जनपद सदस्य संदीप भकने का कहना है कि कन्हान नदी में हो रहे अवैध रेत उत्खनन रोकने की मांग पर प्रशासन के आलाअधिकारियों की निष्क्रियता को देखते हुए आज ग्रामीणों के साथ धरना दिया। अब कार्रवाई नहीं हुई तो एनजीटी के नियमों की उपेक्षा करने वाले अधिकारियों के खिलाफ न्यायालय में जाऊंगा। उन्होंने कहा कि कन्हान नदी में जहां खदान स्वीकृत नहीं है वहां भी माफिया के लोग मशीन लगाकर दिन रात रेत निकाल रह हैं। श्री भकने के साथ निरंजन बागडे, गोमा उईके व ग्रामीण भी धरने पर बैठे थे।
कोरोना संक्रमण का खतरा
जनपद सदस्य श्री भकने ने कहा कि क्षेत्र में कोरोना संक्रमितों की संख्या बढ़ती जा रही हैं, इधर हर दिन नागपुर से लगभग २०० डंपर गांवों में आ रहे हैं। इन वाहनों के ड्राइवर और कंडक्टरों से क्षेत्र में कोरोना संक्रमण का खतरा बढ़ गया है। यदि नागपुर से आने वाले वाहनों को नहीं रोका गया तो हालात बेकाबू हो सकते हैं।
इनका कहना है
कन्हान नदी में पलासपानी में हो रहे उत्खनन की जानकारी मिली है, इसका परीक्षण कराया जा रहा है। शिकायत सही पाए जाने पर दोषियों के खिलाफ वैधानिक कार्रवाई की जाएगी। इसी तरह क्षेत्र के अन्य खदानों का खनिज, राजस्व व पुलिस द्वारा संयुक्त रूप से औचक निरीक्षण कर दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की जा रही है।
-दीपक वैद्य, एसडीएम सौंसर।

कमेंट करें
aNH3E