दैनिक भास्कर हिंदी:  अमानवीयता -महिला को वार्ड से किया बाहर, बेंच पर पड़ी इलाज के लिए तरस रही , दो बच्चे है उसके साथ

June 24th, 2020

डिजिटल डेस्क छिंदवाड़ा। मेडिकल कॉलेज से संबद्ध जिला अस्पताल में एक बार फिर मानवता को शर्मसार कर देने वाला वाक्या सामने आया है। फीमेल मेडिकल वार्ड में इलाज के लिए भर्ती महिला की जांच रिपोर्ट एचआईवी पॉजिटिव आते ही उसके साथ अमानवीय व्यवहार होने लगा। सबसे पहले पति उसे छोड़कर भाग गया और बाद में चिकित्सक व स्टाफ ने उसे वार्ड से बाहर कर दिया है। वार्ड परिसर में बेंच पर पड़ी असहाय महिला इलाज के लिए तड़पती रही। बीमारी की वजह से वह इतनी कमजोर हो चुकी है कि उसे उठा भी नहीं जा रहा था। महिला का लगभग 12 साल का बड़ा बेटा उसके इलाज के लिए चिकित्सकों के चक्कर काट रहा था। महिला के बेटे ने बताया कि मां की रिपोर्ट आने के बाद चिकित्सक व स्टाफ ने यह कहकर वार्ड से बाहर कर दिया कि तुम्हारा इलाज इस वार्ड में नहीं हो सकता।
वार्ड के बाहर बेंच पर पड़ी थी महिला-
चिकित्सक व स्टाफ द्वारा वार्ड से बाहर किए जाने के बाद से महिला परिसर में रखी बेंच पर पड़ी रही। इलाज के लिए तड़प रही महिला की चिकित्सकीय स्टाफ को जरा भी दया नहीं आई। हालात यह थी कि महिला के बेटे ने सीएस को अपनी समस्या बताई, तो उन्होंने महिला की फाइल लाने कहा। लेकिन वार्ड से फाइल नहीं दी जा रही थी।
आसपास के लोगों ने की आर्थिक मदद-
बेंच पर पड़ी महिला पर भले अस्पताल प्रबंधन को दया नहीं आ रही थी, लेकिन वार्ड में भर्ती अन्य मरीजों के परिजनों ने महिला व बच्चों को भोजन आदि के लिए आर्थिक मदद की है। लोगों की मदद से बच्चे अपना गुजारा कर रहे है।
 छोड़ा साथ-
महिला के बेटे ने बताया कि मां की एचआईवी संक्रमित व टीबी की बीमारी सामने आते ही पिता छोड़कर भाग गया। मां के इलाज के लिए परेशान बच्चे पिता का इंतजार कर रहे है।
क्या कहते हैं अधिकारी-
महिला के संबंध में जानकारी मिली है। डॉक्टर ने फीमेल मेडिकल वार्ड से उन्हें टीबी चेस्ट वार्ड में शिफ्ट किया था। महिला को बेहतर इलाज मिले इसकी व्यवस्था बना दी गई है।
- डॉ.श्रीमती पी गोगिया, सीएस