comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

भाजपा नेता युवती को नशीला इंजेक्शन लगाकर तीन दिन तक साथियों के साथ मिलकर करता रहा दुष्कृत्य

February 22nd, 2021 15:36 IST
भाजपा नेता युवती को नशीला इंजेक्शन लगाकर तीन दिन तक साथियों के साथ मिलकर करता रहा दुष्कृत्य



डिजिटल डेस्क शहडोल। युवती को अगवा कर पहले नशे का इंजेक्शन दिया, इसके बाद जबरन शराब पिलाकर तीन दिन तक ज्यादती की गई। इसके बाद उसके घर के सामने फेंक दिया। यह मामला जिले के जैतपुर थाना क्षेत्र में सामने आया है। पीडि़त युवती का मेडिकल जिला चिकित्सालय में कराया गया। मामला सामने आने पर जैतपुर थाने में चार आरोपियों के विरुद्ध प्रकरण दर्ज कर लिया गया है। आरोपियों में भाजपा का एक पदाधिकारी भी बताया जा रहा है।
जानकारी के अनुसार जैतपुर थाना क्षेत्र के एक गांव निवासी 20 वर्षीय युवती 18 फरवरी की शाम करीब 7.30 बजे घर के सामने निकली थी जो गायब हो गई। रात भर तलाश के बाद उसका पता नहीं चलने पर परिजनों ने जैतपुर थाने में सूचना दी। जिस पर गुमशुदगी का मामला दर्ज किया गया। परिजन व पुलिस युवती की तलाश कर ही रहे थे कि 20 फरवरी की रात करीब 9.30 बजे युवती बेहोशी की हालत में घर के सामने मिली। कराहने की आवाज सुनकर परिजन बाहर निकले और उसे उठाकर अंदर ले गए।
मुंह दबाकर कार में बैठा ले गए-
युवती ने बताया कि शाम को जब वह घर के बाहर निकली, उसी समय एक कार पहुंची और उसमें सवार कुछ युवकों ने मुंह दबाकर जबरन कार में बैठा लिया। उसे जैतपुर से करीब 8 किलोमीटर दूर गाड़ाघाट स्थित फार्म हाउस ले जाया गया। युवती को नशे का इंजेक्शन दिया गया और शराब भी पिलाई गई। जहां शासकीय शिक्षक राजेश शुक्ला 39 वर्ष निवासी गाड़ाघाट ने उसके साथ ज्यादती की। बाकी तीन आरोपी विजय त्रिपाठी (भाजपा नेता) निवासी कोठरी, मुन्ना सिंह निवासी बलभद्रपुर व मोनू मिश्रा निवासी बहगढ़ वहीं बैठकर शराब पी रहे थे। युवती की हालत बिगडऩे लगी तो रात के समय चार पहिया वाहन से घर के सामने छोड़कर चले गए। आरोपियों के बारे में उसने बताया कि सभी जान पहचान के थे। परिजनों के साथ थाने में शिकायत दर्ज कराई गई। जिस पर चारों के विरुद्ध धारा 376, 366, 34 के तहत मामला दर्ज किया गया है।
इनका कहना है-
युवती को एक फार्म हाउस ले जाकर दुष्कर्म की शिकायत सामने आई है। चार आरोपियों के विरुद्ध प्रकरण दर्ज कर लिया गया है। आरोपियों में भाजपा पदाधिकारी है अथवा नहीं, इसकी पड़ताल की जा रही है। युवती की हालत ठीक है।
अवधेश गोस्वामी, पुलिस अधीक्षक शहडोल

कमेंट करें
VG4hx
कमेंट पढ़े
Pintu singh February 23rd, 2021 12:06 IST

Main to kahta hoon duskarm karne walo ko phansi me cadha diya jaay

NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।