comScore

चित्रकूट हत्याकांड के विचारधीन कैदी की खुदकुशी के मामले में न्यायिक जांच के आदेश 

चित्रकूट हत्याकांड के विचारधीन कैदी की खुदकुशी के मामले में न्यायिक जांच के आदेश 

डिजिटल डेस्क, सतना। चित्रकूट से 6 साल के जुड़वा भाइयों श्रेयांश और प्रियांश का अपहरण कर निर्मम हत्या करने के 6 आरोपियों में से एक मृत विचाराधीन कैदी रामकेश यादव का पोस्टमार्टम यहां बुधवार को न्यायिक मजिस्ट्रेट (प्रथम श्रेणी) विजय पांडेय की मौजूदगी में 4 डॉक्टरों के पैनल से कराया गया। पैनल में जिला अस्पताल के सीनियर सर्जन डा.प्रमोद पाठक, डा.आलोक खन्ना, अस्थि रोग विशेषज्ञ डा.अतीक खान और ईएनटी स्पेशलिस्ट यूएस ठाकुर को शामिल किया गया था। पीएम की वीडियोग्राफी भी कराई गई। इस दौरान मृतक रामकेश के परिजन भी मौजूद रहे। उल्लेखनीय है, 7 मई को केंद्रीय कारागार की अंडर ट्रायल बैरक नंबर -8 में बंद 26 वर्षीय आरोपी रामकेश यादव तनय रामचरण ने फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली थी। विचाराधीन कैदी की आत्महत्या के मामले की न्यायिक जांच के आदेश दिए गए हैं। 

मुख्य प्रहरी समेत 2 सस्पेंड 
सेंट्रल जेल की अंडर ट्रायल बैरक नंबर -8 में 7 मई को सुबह विचाराधीन कैदी रामकेश यादव द्वारा फांसी लगाकर खुदकुशी करने के मामले में केंद्रीय कारागार प्रशासन ने मुख्य प्रहरी हर्ष वर्धन चतुर्वेदी और प्रहरी हेमंत अवस्थी को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया है। सरसरी तौर पर इस घटना के संबंध में मुख्य प्रहरी और प्रहरी की कर्तव्य के प्रति लापरवाही सामने आई है। 

प्रिजर्व किया गया बिसरा 
पीएम करने वाले डॉक्टरों के हवाले से पुलिस ने बताया कि मृतक के शरीर में चोट के निशान नहीं थे। गले में फंदे का निशान पाया गया है। मृतक के किडनी,लीवर, तिल्ली, लंग्स और हार्ट का बिसरा फोरेंसिक जांच के लिए प्रिजर्व किया गया है। बिसरा जांच के लिए फोरेंसिक लैब भोपाल भेजा जाएगा। 

मृतक का भांजा भी बंद है केंद्रीय कारागार में 
इसी मामले में आईपीसी के सेक्सन 341, 364 ए , 120 बी, 302,364, 344, 347, 328, 368, 201 और 25-27 आर्म्स एक्ट एवं 11-13 एडी एक्ट के तहत मृतक विचाराधीन कैदी रामकेश का भांजा अपूर्व यादव उर्फ पिंटा, मास्टर माइंड पदम शुक्ला, आलोक उर्फ लकी तोमर, विक्रम सिंह और राज द्विवेदी भी न्यायिक अभिरक्षा के तहत इसी सेंट्रल जेल में विचाराधीन कैदी के तौर पर बंद हैं। 

सुबह पहुंचे परिजन 
सेंट्रल जेल में फांसी पर झूले विचाराधीन कैदी रामकेश यादव के परिजन 8 मई को सुबह 6 बजे यहां पहुंचे। इन परिजनों में मृतक के पिता रामचरण यादव, छोटा भाई रामनारायण, बहन रामबाई, श्यामदेवी, नीता ,मामा शिव स्वरुप और मामी राजुल देवी शामिल थीं। मृतक उत्तर प्रदेश के बांदा जिले के कमासिन थाना अंतर्गत जमालपुर का रहने वाला था। परिजनों के पहुंचने पर सुबह साढ़े 10 बजे पोस्टमार्टम कराया गया।

तैनात किया गया था 2 थानों का बल 
विचाराधीन कैदी के पोस्टमार्टम के दौरान एहतियाती तौर पर जिला अस्पताल की मर्चुरी में कोलगवां और कोतवाली का पुलिस बल बड़ी तादाद में तैनात किया गया था। इस दौरान नगर पुलिस अधीक्षक विजय प्रताप सिंह, कोलगवां टीआई आरपी सिंह, सिटी कोतवाल विद्याधर पांडेय और डिप्टी जेलर अखिलेश्वर सिंह भी मौजूद थे।

कमेंट करें
7wFfb