नायब तहसीलदार के बिगड़े बोल: कॉलेज के लिए ज्ञापन देने पहुंचे एनएसयूआई कार्यकर्ताओं से बोले कमलनाथ सरकार थी तब मांग करना था

September 16th, 2021

डिजिटल डेस्क छिंदवाड़ा/परासिया । तहसील मुख्यालय उमरेठ में कृषि महाविद्यालय खोलने की मांग का ज्ञापन देने पहुंचे एनएसयूआई कार्यकर्ताओं से नायब तहसीलदार बोल पड़े कि कमलनाथ सरकार थी तब मांग करना था, अब क्यों कर रहे हो। इस बात पर एनएसयूआई कार्यकर्ता भड़क उठे। बहस के बीच मौके पर ही विरोध जताते हुए जमकर नारेबाजी की। बात बढ़ती इससे पहले मौजूद पुलिस अधिकारियों और कुछ कांग्रेस नेताओं ने स्थिति को संभाला। नायब तहसीलदार कैलाश कोल का कहना है कि साधारण बातचीत एनएसयूआई के नेताओं को अप्रिय लगी। वाकया मंगलवार का है, उमरेठ में एनएसयूआई के जिला पदाधिकारी बैठक लेने पहुंचे थे। परासिया विधायक सोहन वाल्मिकी की उपस्थिति में बैठक हुई। जिसमें छात्र हित के विषयों पर चर्चा के साथ क्षेत्र में कृषि कॉलेज खोलने की मांग उठी। संगठन का विस्तार भी किया गया। वहीं बैठक के बाद एनएसयूआई के पदाधिकारी व कार्यकर्ता मांग पत्र सौंपने तहसील कार्यालय पहुंचे। यहीं तहसीलदार के बिगड़े बोल से माहौल गर्मा गया। तहसीलदार और एनएसयूआई के नेताओं के बीच हुई गहमागहमी का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। ज्ञापन के दौरान एनएसयूआई के जिला अध्यक्ष आशीष साहू, कांग्रेस अध्यक्ष प्रमोद सूर्यवंशी, नवीन बाउसकर, राजू पवार, प्रवीण अडलक, अंकुश जायसवाल, मानक बेलवंशी, इरशाद बेग, सुमित दुबे सहित अन्य नेता व कार्यकर्ता उपस्थित थे।
इनका कहना है...
॥साधारण बातचीत बाहर से आए नेता को अप्रिय लगी। उनके कहने का ऐसा कोई अभिप्राय नहीं था, जिससे किसी की बुरा लगे।
- कैलाश कोल,
नायब तहसीलदार, उमरेठ
॥हम छात्रों की मांग लेकर पहुंचे थे, जिस पर तहसीलदार कहने लगे कि कमलनाथ सरकार थी तब मांग रखना था, अब क्यों मांग कर रहे हो। उनका यह व्यवहार ठीक नहीं है। वरिष्ठों को अवगत कराया है।
- आशीष साहू, अध्यक्ष, जिला एनएसयूआई


 

खबरें और भी हैं...