धमाके से गूंज उठी थी बिल्डिंग : कोर्ट ब्लास्ट में खालिस्तानी समूहों का हाथ! जानिए, क्या कहती है फोरेंसिक रिपोर्ट 

December 25th, 2021

हाईलाइट

  • ब्लास्ट में दो किलों आरडीएक्स का इस्तेमाल हुआ था

डिजिटल डेस्क,लुधियाना। पंजाब के लुधियाना में कोर्ट परिसर के अंदर गुरुवार को एक धमाका हुआ, जिसमें पूरी बिल्डिंग गूंज उठी। इस धमाके को लेकर खुफिया एजेंसियों को कुछ जानकारी मिली है, जिसके अनुसार पाकिस्तान की इंटर-सर्विसेज इंटेलीजेंस समर्थित खालिस्तानी समूह का इस धमाके में हाथ हो सकता है।  

वहीं पंजाब पुलिस ने फोरेंसिक रिपोर्ट के आधार पर कहा कि, ब्लास्ट में दो किलो आरडीएक्स का इस्तेमाल हुआ था और धमाका होने की वजह से पानी की पाइप लाइन फट गई थी। इससे काफी मात्रा में विस्फोटक पदार्थ पानी में बह गया और उसी दिन कोर्ट में हड़ताल भी चल रही थी। नहीं तो यह विस्फोट और भी ज्यादा घातक हो सकता था। 

ब्लास्ट में किसका हाथ?
कोर्ट में हुए ब्लास्ट पर निलंबित हेड कांस्टेबल गगनदीप पर शंका जताई जा रही है। क्योंकि वहीं एक ऐसा व्यक्ति है जो दो साल की सजा काटकर बाहर आया था। वह पंजाब के खन्ना का रहने वाला था और पुलिस हेड कांस्टेबल के पद से बर्खास्त किया गया था। पुलिस के अनुसार गगनदीप ही कोर्ट में बम लगा रहा था उसी समय बम विस्फोट हो गया। जिसमें उसकी मौत हो गई। 5 लोगों को जख्मी बताया जा रहा है। सूत्रों का कहना है कि विस्फोट के समय गगनदीप का मोबाइल भी फट गया था। उसके पास एक डोंगल था उसके जरिए वो इंटरनेट चलाता था। एनआईए की टीम और पंजाब पुलिस ने खन्ना के घर पर छापा मारा शुरुआती जांच में उसके घर से लैब टॉप और मोबाइल मिला अब इनकी जांच की जाएगी।

पाकिस्तान पर शंका
गुरुवार को लुधियाना कोर्ट में ब्लास्ट के हमले के बाद खुफिया एजेंसियों ने दस्तावेजों के हवाले से कहा था कि पाकिस्तान की आईएसआई  ड्रोन के माध्यम से विस्फोटक पदार्थ,हथियार और मादक पदार्थ भेजने की नई रणनीति बना रहा है। नई आंतकी गतिविधियों पर पंजाब पुलिस को अलर्ट रहना चाहिए क्योंकि जून से लेकर अब (शनिवार) तक 43 बार ड्रोन देखे गए हैं। 7 बार पठानकोट सेक्टर में और 36 बार अमृतसर सेक्टर ड्रोन देखे गए।


 

खबरें और भी हैं...