comScore

अंबाझरी में दिखे तेंदुए के पगमार्क, 1 दिसंबर तक पार्क बंद

अंबाझरी में दिखे तेंदुए के पगमार्क, 1 दिसंबर तक पार्क बंद

 डिजिटल डेस्क, नागपुर। पिछले सप्ताह मिहान स्थित इंफोसिस परिसर में बाघ के नजर आने के बाद बाघ की गतिविधियों की दहशत अभी शांत भी नहीं हुई थी कि  अंबाझरी जैव विविधता पार्क में तेंदुए के पैरों के निशान नजर आने की चर्चा है। सुबह करीब 6 बजे टहलने निकले लोगों ने तेंदुए के पैरों के निशान देखकर इसकी सूचना वन विभाग को दी। इसके बाद सावधानी के तौर पर पार्क को एक दिसंबर तक के लिए बंद कर दिया गया है। 

शिकार के निशान नहीं
डॉ. प्रभुनाथ शुक्ला उप वनसरंक्षक, वन विभाग के अनुसार अंबाझरी तालाब से लगे 750 हेक्टेयर क्षेत्र में स्थित सुरक्षित वन क्षेत्र परिसर के अंबाझरी जैव विविधता पार्क के भाग एक कक्ष क्रमांक 797 में गुरुवार सुबह 6 बजे कुछ लोगों ने तेंदुए के पैरों के निशान देखे हैं। वन विभाग के कर्मचारियों ने क्षेत्र में वन्यजीव के पगमार्क की जांच कर बताया कि तेंदुआ या उसके समान किसी जीव के पगमार्क हैं।  हालांकि विभाग की ओर से क्षेत्र में निरीक्षण के दौरान कही भी तेंदुआ या उसके द्वारा शिकार के कोई निशान नजर नहीं आए।  नागपुर के आसपास हैं तेंदुए : पर्यावरणविद जयदीप दास के अनुसार तेंदुए मानव आबादी के आसपास रहने के अभ्यस्त होते हैं। गोरेवाड़ा के अासपास उनकी अच्छी खासी संख्या है। लोगों को अब सर्तक रहने की जरूरत है। काफी कम मामलों में तेंदुए मनुष्यों पर हमला करते हैं।

बढ़ रहा है खतरा
शहर के आसपास वन्यजीवों की लगातार बढ़ती गतिविधियां मानव और वन्यजीव दोनों के लिए संकट का कारण बताते हुए पर्यावरणविद कौस्तव चटर्जी ने कहा िक घटते जंगल वन्यजीवों को शहर की ओर मोड़ रहे हैं। यह स्थिति मानव-वन्यजीव संषर्घ को बढ़ा सकती है। वन्यजीवों को वन और शहर की सीमा का भले ही ठीक से ज्ञान न हो, पर मानव इसे अच्छी तरह से समझते हैं, तो पालन करने की जिम्मेदारी उनकी ज्यादा है।
इंफोसिस परिसर में साफ सफाई : पिछले दिनों मिहान के इंफोसिस परिसर में बाघ नजर आने की घटना के बाद गुरुवार को वन विभाग ने कंपनी के अधिकारियों के साथ बैठक की। विभाग ने बाघ दिखाई दिए क्षेत्रांे की साफ-सफाई और सुरक्षा दीवार बनाए जाने की ताकीद  भी की। विभाग की ओर से अब भी परिसर में गश्त जारी है। 

कमेंट करें
DziGc