दैनिक भास्कर हिंदी: खरीद-फरोख्त से बचने जयपुर के रिसार्ट में रहेंगे महाराष्ट्र के कांग्रेसी विधायक  

November 8th, 2019

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। महाराष्ट्र में जारी सियासी उठापटक के बीच कांग्रेस ने अपने विधायकों को संभावित खरीद-फरोख्त से बचाने के लिए जयपुर भेजने का फैसला किया है। महाराष्ट्र कांग्रेस के अध्यक्ष बालासाहब थाेराट के निर्देश पर पार्टी के 44 विधायकों में से कुछ जयपुर पहुंच गए हैं तो कुछ पहुंचने वाले हैं। राजस्थान में कांग्रेस की सरकार होने के चलते पार्टी जयपुर को अपने विधायकों के लिए ज्यादा सुरक्षित मान रही है।  

जयपुर के रिसॉर्ट में रहेंगे कांग्रेस विधायक!

कांग्रेस के कुछ विधायक मुंबई से सीधे जयपुर पहुंचे हैं तो कुछ विधायक दिल्ली होते हुए जयपुर पहुंच रहे हैं। जानकारी के मुताबिक इन विधायकों को जयपुर के एक रिसॉर्ट में रहने की व्यवस्था की गई है। दरअसल कांग्रेस को यह डर सता रहा है कि शिवसेना के आक्रामक रूख के बाद अलग-थलग पड़ी भाजपा महाराष्ट्र में अपनी सरकार बनाने के लिए कांग्रेस के विधायकों को तोड़ सकती है। दिल्ली से जयपुर निकलने के पहले किसान कांग्रेस के अध्यक्ष व विधायक नाना पटोले ने ‘भास्कर’ से बातचीत में कहा कि जब शिवसेना जैसी पार्टी को अपने विधायकों को बचाने में मुश्किल आ रही है, तब कांग्रेस को आशंकित होना लाजिमी है। निवर्तमान विधानसभा में विपक्ष के नेता विजय वड्डेटिवार और पार्टी के वरिष्ठ विधायक नितीन राउत भी आरोप लगा चुके हैं कि उनके विधायकों को ईमान बदलने के लिए करोड़ों रूपये का प्रलोभन दिया जा रहा है। यही वजह रही कि प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष बालासाहब थोराट ने सभी 44 विधायकों को जयपुर पहुंचने के निर्देश दिए हैं। 

अहमद व वेणुगोपाल से मिले पटोले

हालांकि पटोले ने दावा किया कि भाजपा चाहे लाख कोशिश कर ले, कांग्रेस का एक भी विधायक नहीं टूटेगा। उन्होने बताया कि कांग्रेस विधायकों को जयपुर में ठहराने का निर्देश पार्टी नेतृत्व की ओर से नहीं आया है, बल्कि खुद विधायकों व प्रदेश इकाई ने यह फैसला किया है। इस क्रम में पटोले ने दिल्ली में पार्टी के कोषाध्यक्ष अहमद पटेल और पार्टी के संगठन महासचिव के सी वेणुगोपाल से भेंट की है। बता दें कि महाराष्ट्र में सत्ता बंटवारे को लेकर भाजपा और शिवसेना के बीच ठनी हुई है। महाराष्ट्र विधानसभा का कार्यकाल 9 नवंबर को समाप्त हो रहा है। ऐसे में प्रदेश में सियासी हलचल तेज हो गई है। 288 सदस्यीय महाराष्ट्र विधानसभा में भाजपा को 105 सीटें मिली है तो शिवसेना के खाते में 56 सीटें आई हैं। राकांपा 54 सीटों के साथ तीसरे नंबर पर है तो कांग्रेस 44 सीटों के साथ चौथे पायदान पर है। 


 

खबरें और भी हैं...