दैनिक भास्कर हिंदी: कोरोना टीका खरीदने महाराष्ट्र सरकार ने जारी किया ग्लोबल टेंडर, ड्राईव-इन वैक्सीनेशन सेंटर शुरु

May 19th, 2021

डिजिटल डेस्क, मुंबई। प्रदेश की महाविकास आघाड़ी सरकार ने नागरिकों के कोरोना टीकाकरण के लिए 5 करोड़ टीका खरीदने को लेकर वैश्विक टेंडर जारी किया है। बुधवार को प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने मंत्रालय में यह जानकारी दी। पत्रकारों से बातचीत में टोपे ने कहा कि सरकार विदेश की स्तुपतनिक- वी और फाइजर समेत अन्य टीका खरीदने के लिए तैयार है। टीका खरीदी के लिए 25 मई तक वैश्विक टेंडर मंगाए गए हैं। फिलहाल किसी विदेशी कंपनी ने टीका बेचने को लेकरकोई रुचि नहीं दिखाई है। टोपे ने कहा कि वैश्विक टेंडर के लिए विदेशी कंपनियों को केंद्र सरकार से कुछ मंजूरी की आवश्यकता है। शायद इसीलिए विदेशी कंपनियां मंजूरी का इंतजार कर रही हैं। टोपे ने कहा कि सीरम संस्थान के सीईओअदर पुनावाला लंदन से लौटने के बाद मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे से मुलाकात करेंगे। इसके बाद ही स्पष्ट हो पाएगा कि राज्य को हर महीने कोविशिल्ड का कितना टीका मिल सकेगा। टोपे ने कहा कि राज्य में कोरोना के टीके की दूसरी डोज के लिए कोविशिल्ड का 3 लाख और कोवैक्सीन का 2 लाख टीका उपलब्ध है। 

वर्धा और पालघर में बनेगा म्यूकर माइकोसिस का इंजेक्शन

टोपे ने कहा कि म्यूकर माइकोसिस के मरीजों के उपचार के लिए राज्य सरकार ने 1 लाख 90 हजार एम्फोटेरिसिन- बी इंजेक्शन खरीदने का ऑर्डर दिया है लेकिन केंद्र सरकार का नियंत्रण होने के नाते कंपनियां इंजेक्शन की आपूर्ति नहीं कर पा रही हैं। इसलिए केंद्र सरकार को जल्द से एम्फोटेरिसिन-बीइंजेक्शन का वितरण राज्य सरकार को करना चाहिए। राज्य को लगभग 2 लाख एम्फोटेरिसिन- बीइंजेक्शन की आवश्यकता है। इसके लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से गुरुवार को आग्रह किया जाएगा। 

टोपे ने कहा कि राज्य सरकार साराभाई कंपनी से एम्फोटेरिसिन- बीइंजेक्शन तैयार करने के लिए दो किलो कच्चा माल खरीदने का फैसला किया है। सरकार वर्धा और पालघर के उत्पादकों को कच्चा माल देकर 40 हजार एम्फोटेरिसिन- बीइंजेक्शन तैयार करवाएगी। टोपे ने कहा कि राज्य सरकार ने एम्फोटेरिसिन- बी इंजेक्शन खरीदने के लिए वैश्विक टेंडर जारी किया है। उन्होंने बताया कि राज्य में अब तक म्यूकर माइकोसिस के 1500 मरीज मिले हैं। इसमें से फिलहाल म्यूकरमाइकोसिस बीमारी से ग्रसित लगभग 850 सक्रिय मरीज हैं। जबकि 500 मरीजों ने इस बीमारी पर मात दी है। सरकार ने म्यूकरमाइकोसिस बीमारी के इलाज के लिए डॉक्टरों को दिशानिर्देश जारी किया है। 

राशन कार्ड धारकों का म्यूकर माइकोसिस का मुफ्त में इलाज  

टोपे ने कहा कि राज्य में राशन कार्डधारक सभी नागरिकों कामहात्मा जोतिराव फुले जन स्वास्थ्य योजना के तहत मुफ्त में पंजीकृत अस्पतालों में से इलाज की सुविधाओं के लिए उपयुक्त अस्पतालों की सूची जारी की जा रही है। इसके अलावा सरकारी मेडिकल कॉलेज के अस्पतालों में इलाज की सुविधा मिल सकेगी। मरीजों को दवाइयां भी मुफ्त उपलब्ध कराई जाएंगी। टोपे ने कहा कि महात्मा फुले योजना के तहत इलाज के लिए 1.50 लाख रुपए तक बीमा का लाभ मिलता है। लेकिन इससे अधिक खर्च होने पर उसका वहन सरकार करेगी।  

मरीजों की ठीक होने की दर बढ़ी

टोपे ने बताया कि राज्य में कोरोना के मरीजों का ठीक होने की दर 80 प्रतिशत से बढ़कर 90.69 प्रतिशत हो गई है। राज्य में कोरोना मरीजों की प्रतिदिन की वृद्धि दर 0.5 प्रतिशत है। देश में कोरोना मरीजों के वृद्धि दर के मामले में महाराष्ट्र 34 वें स्थान पर है। राज्य में प्रतिदिन 2.50 लाख कोरोना की जांच हो रही है। टोपे ने कहा कि राज्य में लॉकडाउन जैसी पाबंदियां 31 मई तक लागू हैं। कोरोना के मरीजों की संख्या को ध्यान में रखते हुए समीक्षा के बाद अगला फैसला किया जाएगा। राज्य में स्वास्थ्य विभाग के रिक्त पदों को अगले 20 दिनों में भर लिया जाएगा। 

मुंबई में ड्राईव-इन वैक्सीनेशन सेंटर

महानगर के पूर्वी उपनगर घाटकोपर के पुलिस ग्राउंड में ड्राईव्ह-इन वैक्सीनेशन सेंटर खोल गया है। भाजपा सांसद मनोज कोटक ने बुधवार को इसका उद्घाटन किया। ड्राइव-इन वैक्सीनेशन के तहत लोग अपने वाहन में बैठ कर ही टीका लगवा सकेंगे। इसके लिए उन्हें कार से नीचे उतरने की जरुरत नहीं होगी।  इसका फायदा सिर्फ 60 वर्ष से अधिक उम्र के बुजुर्ग और दिव्यांग ले सकते हैं। सांसद कोटक ने बताया कि, इस वक्त भीड़भाड़ से बचना जरूरी है, खासकर बुजुर्ग लोग, इसलिए ड्राईव्ह-इन वैक्सीनेशन की शुरुआत की है। इससे लोग भीड़ भाड़ से जहां बचेंगे, वहीं चिलचिलाती धूप में कतार लगाने से बच सकेंगे। यह सेंटर बुजुर्गों के लिए मददगार साबित होगा। कोरोना काल में सेवा का सबसे बड़ा माध्यम वैक्सीन की सुविधा मुहैया कराना है।  

 

 

खबरें और भी हैं...