दैनिक भास्कर हिंदी: 1 हजार मेगावाट सौर बिजली खरीदेगी सरकार, दाम में भी सस्ती

January 8th, 2018

डिजिटल डेस्क, मुंबई। विजय सिंह ‘कौशिक’। राज्य में सौर उर्जा उत्पादन को बढ़ाना देने के लिए सरकारी बिजली कंपनी महावितरण एक हजार मेगावाट सौर बिजली खरीदेगी। इसके लिए टेंडर मंगाए गए हैं। फिलहाल पारंपरिक बिजली की अपेक्षा सौर ऊर्जा का उत्पादन बेहद कम है, इसलिए राज्य का ऊर्जा विभाग चाहता है कि सौर ऊर्जा को बढ़ावा दिया जाए। विभाग को उम्मीद है कि इस साल सौर ऊर्जा उत्पादन में उछाल आएगा। उर्जा विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि 1 हजार मेगावाट सौर ऊर्जा वाली बिजली खरीदने के लिए टेंडर मंगाए गए हैं। 3 रुपए प्रति यूनिट की दर से यह बिजली खरीदी जाएगी। जबकि मौजूदा पारंपरिक थर्मल पावर वाली बिजली 5 रुपए प्रति यूनिट की दर से बेची जाती है।

सस्ती होगी बिजली
प्रकृति से मिलने वाली सौर ऊर्जा वाली बिजली की दरों में तेजी से गिरावट आ रही है। जैसे-जैसे सौर ऊर्जा का उत्पादन बढ़ेगा। यह बिजली सस्ती होती जाएगी। 2012-13 में सौर उर्जा वाली बिजली 11 रुपए प्रति यूनिट की दर से बेची जा रही थी। जो अब घट कल 3 से 4 रुपए प्रति यूनिट पर आ गई है। फिलहाल राज्य में सिर्फ 1 हजार मेगावाट सौर ऊर्जा बिजली का उत्पादन हो रहा है, जिसमें से 300 मेगावाट सरकारी बिजली कंपनी महाजेनको करती है। बाकी निजी कंपनियां सौर उर्जा उत्पादित कर रही हैं। सौर ऊर्जा उत्पादन के मामले में फिलहाल महाराष्ट्र राजस्थान, तेलंगाना, तमिलनाडू व आध्रप्रदेश जैसे राज्यों से पीछे हैं।

इस साल 7 हजार सौर उर्जा पंप
साल 2018 में जलाशयों पर फ्लोटिंग सौर पैनल लगा कर सौर ऊर्जा उत्पादन शुरु होने की उम्मीद है। जलसंसाधन विभाग के उजनी (सोलापुर) जलाशय से 1 हजार मेगावाट सौर ऊर्जा उत्पादन का लक्ष्य रखा गया है। पश्चिम महाराष्ट्र के सोलापुर स्थित उजनी बांध पर लगाई जाने वाली फ्लोटिंग यह राज्य की पहली फ्लोटिंग सौर ऊर्जा परियोजना होगी। इसके लिए जल्द ही वैश्विक टेंडर निकाला जाएगा। राज्य में 5500 सौर ऊर्जा कृषि पंपसेट लगाए गए हैं। इस साल 7 हजार और सौर ऊर्जा वाले कृषि पंप लगाने की योजना है। मुख्यमंत्री सौर उर्जा कृषि योजना के तहत ये सौर उर्जा पंप लगाए जाएंगे।