comScore

ऊर्जा उत्सर्जन के प्रबंधन में महाराष्ट्र आगे, केन्द्र ने जारी किया राज्य ऊर्जा दक्षता सूचकांक

ऊर्जा उत्सर्जन के प्रबंधन में महाराष्ट्र आगे, केन्द्र ने जारी किया राज्य ऊर्जा दक्षता सूचकांक

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। केन्द्रीय विद्युत, नवी और नवीकरणीय ऊर्जा एवं कौशल विकास तथा उद्मिता राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) राजकुमार सिंह ने शुक्रवार को राज्यों में ऊर्जा उत्सर्जन के प्रबंधन में होने वाली प्रगति के बारे में राज्य ऊर्जा दक्षता सूचकांक 2019 जारी किया है। इसमें महाराष्ट्र समेत छह राज्यों और दो केन्द्र शासित प्रदेशों को प्रगतिशील राज्यों के रुप में दर्शाया गया है। यहां के प्रवासी भारतीय केन्द्र में केन्द्रीय ऊर्जा, नवी और नवीकरणीय ऊर्जा मंत्रालय द्वारा आयोजित बैठक में ऊर्जा उत्सर्जन के प्रबंधन में हुई प्रगति की समीक्षा की गई। इस दौरान मंत्रालय के विभिन्न 97 महत्वपूर्ण संकेतकों के आधार पर 36 राज्यों और केन्द्र शासित प्रदेशों में ऊर्जा दक्षता (ईई) उपायों के अध्ययन के बाद राज्य ऊर्जा दक्षता सूचकांक की सूची जारी की गई। इसमें महाराष्ट्र समेत हरियाणा, केरल, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड, पुड्‌डुचेरी और चंडीगढ़ ऊर्जा दक्षता के मामले में अग्रसर है।

पहला ऐसा सूचकांक राज्य ऊर्जा दक्षता तैयारी सूचकांक-2018, 1 अगस्त 2018 को जारी किया गया था जो राज्य ऊर्जा दक्षता सूचकांक 2018 से आगे उठाया गया कदम था। इसी दिशा में अब राज्य ऊर्जा दक्षता सूचकांक 2019 जारी किया गया है, जिसमें गुणात्मक, मात्रात्मक और परिणाम आधारित संकेतकों के माध्यम से पांच अलग अगल क्षेत्रों जैसे भवन निर्माण उद्योग, नगर पालिका, परिवहन, कृषि, एमएसएमई  क्लस्टरों और डिस्काम में ऊर्जा दक्षता के पहलों, कार्यक्रमों और परिणामों का आकलन किया जाता है। इस वर्ष नीति और विनियमन, वित्तपोषण तंत्र, संस्थागत क्षमता, ऊर्जा दक्षता उपायों को अपनाने और ऊर्जा बचत के प्रयासों और उपलब्धियों के आधार पर कुल 36 राज्यों और केन्द्र शासित प्रदेशों का आकलन किया गया है। 
 

कमेंट करें
0kUAE