comScore

नागपुर की मालविका बनीं एशियन स्कूल बैडमिंटन चैंपियन, थाई खिलाड़ी को 2-0 से दी शिकस्त

July 12th, 2018 23:57 IST
नागपुर की मालविका बनीं एशियन स्कूल बैडमिंटन चैंपियन, थाई खिलाड़ी को 2-0 से दी शिकस्त

डिजिटल डेस्क, नागपुर। मौजूदा सत्र में अपने श्रेष्ठ प्रदर्शन को जारी रखते हुए नागपुर की मालविका बंसोड़ ने स्कूल एशियन बैडमिंटन चैंपियनशिप के रूप में अपना पहला अंतरराष्ट्रीय खिताब जीत लिया। स्कूल गेम्स फेडरेशन और राज्य के क्रीड़ा व युवक सेवा संचालनालय की संयुक्त मेजबानी में मानकापुर स्थित विभागीय क्रीड़ा संकुल में आयोजित स्पर्धा के बालिका एकल के निर्णायक मुकाबले में मालविका ने थाईलैंड की सोम स्वांग्सरी को लगातार गेम में 2-0 से पराजित कर दिया। मैच का फाइनल स्कोर 21-13, 21-12 रहा। गुरुवार शाम के सत्र में खेले गए फाइनल मैच में इंडिया अंडर-19 नंबर वन मालविका ने थाई खिलाड़ी सोम को किसी प्रकार का मौका नहीं देते हुए बड़ी आसानी से जीत हासिल की। बुधवार देर रात जारी ताजा रैंकिंग ने मालविका के हौसले को और बढ़ा दिया। इसके पूर्व खेले गए सेमीफाइनल मैच में नागपुर की स्टार खिलाड़ी ने इस वर्ग की टॉप सीड खिलाड़ी थाईलैंड की अतित्या पोवानाेन को 21-17, 20-22, 21-12 से हराकर फाइनल में खेलने का अधिकार हासिल कर लिया। वहीं दूसरे सेमीफाइनल मैच में सोम ने भारत की दीपशिखा को 13-21, 21-17, 21-13 से पराजित कर खिताबी भिड़ंत में प्रवेश कर लिया।

भारत के एम तरुण को करना पड़ा हार का सामना

स्पर्धा के बालक वर्ग की खिताबी भिड़ंत में भारत के एम तरुण को कड़े संघर्ष के बाद हार का सामना करना पड़ा। हालांकि फाइनल के पहले गेम को तरुण ने 12-21 से जीत लिया था, लेकिन इसके बाद मलेशियाई खिलाड़ी कॉक जिंग होंग ने शानदार वापसी की और अगले दोनों गेम को 21-17, 21-16 से जीत कर चैंपियनशिप पर कब्जा जमा लिया। मैच के दूसरे गेम में एक समय बी तरुण के पास 17-13 की बढ़त हासिल थी, लेकिन इसके बाद उन्होंने चार बेजा भूलें की, जिसका खामियाजा उन्हें चैंपियनशिप से वंचित होकर भुगतना पड़ा। इसके पूर्व सुबह के सत्र में खेले गए सेमीफाइनल मुकाबले में कॉक जिंग होंग ने थाईलैंड की तेरापत क्लेवान को 21-13, 21-16 से जबकि बी तरुण ने मलेशिया के मुहम्मद शाकीम इमान को 21-18, 21-16 से पराजित कर फाइनल में प्रवेश कर लिया।

युगल वर्ग के खिताबों पर मलेशियाई कब्जा

एकल मुकाबलों के उलट स्पर्धा के युगल वर्ग के मुकाबलों में मलेशियाई जोड़ियों का कब्जा रहा। इसके बालक युगल के निर्णायक मैच में आई झे डार और वॉमैने गोह वाईएप की शीर्ष वरीयता प्राप्त मलेशियाई जोड़ी ने अपने ही देश की ली शुन यांग और ली यी बो की जोड़ी को 21-16, 15-21, 21-19 से हरा दिया, वहीं बालिका युगल वर्ग की चैंपियनशिप भिड़ंत में लॉव यिन यूवान और वालेरी स्लो की द्वितीय वरीय मलेशियाई जोड़ी ने चुई हावरान और ताव यिंग की चीनी जोड़ी को 20-22, 21-16, 21-13 से जबकि मिश्रित युगल के फाइनल मैच में याप रोई किंग और गानजिंग एर की शीर्ष वरीय मलेशियाई जोड़ी ने अपने ही देश के वान मुहम्मद आरिफ और तेहो लुक्सान की जोड़ी को 21-16, 23-21 से पराजित कर खिताब अपने नाम कर लिया।

प्रतिद्वंद्वी खिलाड़ी की कमजोरी का लाभ उठाकर हासिल की जीत

खिताब जीतने के उपरांत प्रतिक्रिया देते हुए मालविका ने कहा कि मैं फाइनल में एक कड़े संघर्ष की उम्मीद कर रही थी, लेकिन मुझे खुशी है कि मैने थाई खिलाड़ी को बड़ी आसानी से हरा दिया। सेमीफाइनल में मिली संघर्षपूर्ण जीत के बाद मालविका का खिताब पर कब्जा लगभग तय हो गया था, लेकिन उन्होंने कहा कि सेमीफाइनल मैच के दूसरे गेम के दौरान अतित्या ने अच्छा खेल दिखाया, लेकिन मेरे कोच किरण माकोड़े ने मुझे दबाव से बाहर आने में काफी मदद की। उनके मार्गदर्शन में ही मैं लगातार अच्छा प्रदर्शन कर रही हूं।

कमेंट करें
3ajlt