शानदार कार्यकाल: नागपुर में श्रीवास्तव के अनेक सराहनीय कार्य, मनपा की नई प्रशासकीय इमारत के लिए की थी पहल

March 1st, 2022

डिजिटल डेस्क, नागपुर. प्रदेश के अतिरिक्त मुख्य सचिव (गृह) मनुकुमार श्रीवास्तव राज्य के नए मुख्य सचिव होंगे। मनुकुमार श्रीवास्तव नागपुर के जिलाधिकारी, मनपा आयुक्त और नासुप्र सभापति रहे हैं। नागपुर में विविध जिम्मेदारियों का निवर्हन कर राज्य की बागडोर संभालने वाले श्रीवास्तव दूसरे मुख्य सचिव हैं। इसके पहले जे.एस. सहारिया को मुख्य सचिव बनाया गया था। वे भी नागपुर में अलग-अलग पदों पर रहे। मनुकुमार श्रीवास्तव 1986 बैच के अधिकारी रहे हैं। वर्ष 1998 से 2005 तक वे नागपुर में रहे। 1998 में जिलाधिकारी के रूप में उन्होंने नागपुर में पदभार संभाला था। जिलाधिकारी, उसके बाद मनपा आयुक्त और नासुप्र सभापति का कार्यभार संभाला। मनपा आयुक्त के रूप में उनका कार्यकाल काफी सराहनीय रहा। मनपा की नई प्रशासकीय इमारत के लिए उनके कार्यकाल में ही पहल हुई, जिस कारण शहर में अलग-अलग जगहों में बिखरी अनेक विभाग एक छत के नीचे आ सके। यही नहीं, शहर में मनपा के जोन कार्यालय बनाने का श्रेय भी उन्हें दिया जाता है। शहर में 547 करोड़ की लागत से 5 शॉपिंग मॉल बनाने का प्रस्ताव भी उनके कार्यकाल में आने की जानकारी है। फुटाला तालाब के सौंदर्यीकरण की पहल भी उनके समय की गई थी। अजनी चौक पर सबसे बड़ी घड़ी लगाने का निर्णय भी उनके कार्यकाल में लिया गया। जिलाधिकारी रहते हुए उन्होंने सात-बारा का डिजिटाइजेशन करने के लिए काफी प्रयास किए थे। सेतु सुविधा केंद्र के निर्माण में भी उनकी पहल मानी जाती है। नागपुर में उनका काफी समय गुजरा। हंसमुख अधिकारी के रूप में उनकी पहचान रही। संगीत में  उनकी काफी दिलचस्पी है। उनकी पत्नी अर्चना श्रीवास्तव भी उम्दा चित्रकार हैं। नागपुर से तबादला होने के बाद वे मुंबई में अतिरिक्त आयुक्त बने थे।