comScore

दो घंटे तक दर्द से तड़पती रही प्रसूता, मौत- नवजात गंभीर, परिजनों ने लगाया लापरवाही का आरोप 

दो घंटे तक दर्द से तड़पती रही प्रसूता, मौत- नवजात गंभीर, परिजनों ने लगाया लापरवाही का आरोप 

 डिजिटल डेस्क शहडोल । जिला चिकित्सालय में फिर एक प्रसूता चिकित्सकीय लापरवाही की भेंट चढ़ गई। प्रसव पीड़ा के बाद मंगलवार देर रात अस्पताल में भर्ती गर्भवती महिला की मौत हो गई। वहीं नवजात की हालत गंभीर बनी हुई है। घटना के बाद बुधवार को परिजनों ने डॉक्टरों और स्टॉफ पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए हंगामा कर दिया। इस बीच हॉस्पिटल में समाज के सैकड़ों लोग एकत्र हो गए। स्थिति को देखते हुए पुलिस बल बुला लिया गया था। समाज के लोग दोषियों पर कार्रवाई होने तक शव उठाने को तैयार नहीं थे। मौके पर पहुंचे एसडीएम सोहागपुर धर्मेंद्र मिश्रा और सीएमएचओ डॉ. राजेश पांडेय ने लोगों से बात की और घटना की मजिस्ट्रीयल जांच का आश्वासन दिया। इसके बाद लोग पीएम कराने को तैयार हुए। जानकारी के अनुसार ग्राम खैरहा निवासी प्रभात गुप्ता की 25 वर्षीय पत्नी सुधा गुप्ता को प्रसव पीड़ा के बाद मंगलवार की रात्रि 11 बजे जिला चिकित्सालय के प्रसूति वार्ड मेंं भर्ती कराया गया था। जहां रात्रि करीब 3 बजे उसकी मौत हो गई। उधर, नवजात को गहन चिकित्सा इकाई में रखा गया है।
भटकते रहे परिजन, कॉल करने के बाद भी नहीं आए डॉक्टर
लिखित शिकायत में परिजनों ने आरोपित किया है कि प्रसूता के भर्ती होने के बाद से लेकर अंतिम समय तक वार्ड में गंभीर लापरवाही बरती गई। असहनीय दर्द होने पर स्टाफ नर्स को बार-बार बुलाया जाता रहा लेकिन नहीं आईं। परिजनों ने कहा कि सीजर कर दें, लेकिन डॉक्टर नार्मल बताते रहे। तीन डॉक्टरों को काल किया गया, पर कोई नहीं आया। बेहोशी के डॉक्टर पहुंचे, दूसरी प्रसूता को बेहोशी का इंजेक्शन लगाकर चले गए। इस बीच सुधा को बच्चा फंस गया, रक्तस्राव होने लगा। इसके बाद भी किसी ने ध्यान नहीं दिया। 
हॉस्पिटल में काफी देर तक होता रहा हंगामा
सुबह होते ही केशरवानी वैश्य महासभा के अध्यक्ष लक्ष्मण गुप्ता, सुमित गुप्ता व बड़ी संख्या में समाज के लोग पहुंच चुके थे। लापरवाही के आरोप लगाते हुए दोषियों पर कार्रवाई की मांग को लेकर शव उठाने से इंकार कर दिया। सूचना मिलते ही कलेक्टर के निर्देश पर एसडीएम सोहागपुर धर्मेंद्र मिश्रा पहुंचे। सीएमएचओ की मौजूदगी में सीएस के चेंबर में काफी देर बातचीत चलती रही। लोगों का गुस्सा था कि अस्पताल में पहले भी इसी तरह की लापरवाहियां सामने आती रही हैं। स्टाफ रात के समय तो बिलकुल मरीजों की नहीं सुनता। एसडीएम ने बताया कि मामले की मजिस्ट्रीयल जांच होगी। इसके बाद लोग माने। व्यापारी संघ के अध्यक्ष लक्ष्मण गुप्ता का कहना है कि जांच के बाद कार्रवाई नहीं हुई तो अस्पताल प्रबंधन के विरुद्ध बड़ा आंदोलन किया जाएगा।
इनका कहना है
 परिजनों की शिकायत के बाद मजिस्ट्रीयल जांच शुरु हो गई है। आज ही कुछ लोगों के बयान हुए हैं। जांच में जो भी दोषी होगा नियमानुसार वैधानिक कार्रवाई की जाएगी।
धर्मेंद्र मिश्रा, एसडीएम सोहागपुर
 प्रसूता की मौत की वजह पीएम रिपोर्ट के बाद स्पष्ट हो पाएगी। शिकायत के बाद प्रशासन स्तर से जांच हो रही है। अपने स्तर से भी पता लगाया जा रहा है। नवजात को एसएनसीयू में रखा गया है।
डॉ. उमेश नामदेव, सिविल सर्जन
 

कमेंट करें
xfMtj