सांसद प्रफुल पटेल का सुझाव : किसानों की समस्या हल कर धान खरीदी करें

November 25th, 2021

डिजिटल डेस्क, गोंदिया। धान खरीदी करते समय किसानों को किसी भी प्रकार की कठिनाई न हो, धान निर्धारित समय में ही खरीदा जाए, इसकी सावधानी यंत्रणा को बरतनी चाहिए। किसानों से धान खरीदी के दौरान आने वाली समस्याओं का निराकरण शासन के दिशा-निर्देशों के अनुसार किए जाने का सुझाव सांसद प्रफुल पटेल ने मुंबई में राज्य के खाद्य एवं नागरी आपूर्ति मंत्री छगन भुजबल की उपस्थिति में आयोजित बैठक में दिए। पूर्व विदर्भ में धान खरीदी करते समय अभिकर्ता संस्था एवं किसानों को अनेक परेशानियों का सामना करना पड़ता है। 

इस समस्या को निपटाने के उद्देश्य से सांसद प्रफुल पटेल के आग्रह पर 24 नवंबर को मंत्रालय में विशेष बैठक का आयोजन किया गया। बैठक में धान खरीदी केंद्रों पर सीसीटीवी कैमरे लगाने के विषय पर चर्चा हुई। जिसमें अधिकारियों का कहना था कि, कैमरे तुरंत लगाने की आवश्यकता नहीं है। बारदाने के अभाव की जानकारी भी अधिकारियों ने दी। जिस पर मंत्री छगन भुजबल ने पर्याप्त मात्रा में बारदाने उपलब्ध कराने के निर्देश दिए। धान खरीदी करते समय बारदाने पर टैग लगाने की प्रक्रिया है। टैग लगाने की आवश्यकता नहीं है। उसी प्रकार मशीन से बारदाना सीने की आवश्यकता नहीं होने की बात कही गई। पिछले वर्ष धान खरीदी केंद्रों पर बड़े पैमाने पर धान की बर्बादी हुई थी। इस संबंध में उपाय योजना कर इस वर्ष धान खरीदी के बाद धान सुरक्षित रखने के संबंध में कार्रवाई करने की सूचना भी सांसद पटेल ने दी। अभिकर्ता संस्थाओं की समस्या तुरंत निपटाने के निर्देश मंत्री भुजबल ने दिए।

सांसद प्रफुल पटेल ने बैठक में नागपुर, भंडारा, गोंदिया, गड़चिरोली, चंद्रपुर आदि जिलों में धान खरीदी समय सीमा में करने, संग्रहण के लिए गोदाम की व्यवस्था करने के साथ ही संस्थाओं एवं किसानों की समस्या सुयोग्य पद्धति से हल कर धान खरीदी करने की सूचना दी। बैठक में खाद्य एवं नागरी आपूर्ति मंत्री छगन भुजबल, सांसद प्रफुल पटेल, विधायक मनोहर चंद्रिकापुरे, विधायक राजू कारेमोरे, खाद्य एवं नागरी आपूर्ति विभाग के सचिव विजय वाघमारे, महाराष्ट्र पणन महासंघ के प्रबंध संचालक सुधाकर तेलंग के साथ ही ऑनलाइन रूप से आदिवासी विकास महामंडल के प्रबंध संचालक दीपक सिंगला, गोंदिया की जिलाधिकारी नयना गुंडे, भंडारा की जिलाधिकारी संदीप कदम, बाजार समितियों के लोमेश वैद्य, प्रवीण बिसेन, रेखलाल टेंभरे एवं चंद्रपुर, गोंदिया, भंडारा, गड़चिरोली के जिला आपूर्ति अधिकारी शामिल हुए।