सबक : महिलाओं की सुरक्षा के लिए मुंबई पुलिस बनाएगी निर्भया दस्ता

September 14th, 2021

डिजिटल डेस्क, मुंबई। साकीनाका दुष्कर्म कांड के बाद हरकत में आई मुंबई पुलिस ने अब सभी पुलिस स्टेशनों में निर्भया दस्ता बनाने का फैसला किया है। महिला अधिकारियों की अगुआई में बनने वाला यह दस्ता लड़कियों, महिलाओं के खिलाफ होने वाले अपराध रोकने और अपराधियों में कानून का डर पैदा करने की कोशिश करेगा। मुंबई पुलिस आयुक्त हेमंत नागराले ने मंगलवार को यह दिशानिर्देश पुलिस स्टेशनों और संबंधित विभागों को जारी किया। 

यौन अपराधों की शिकार हुई महिलाओं के समुपदेशन के लिए भी पुलिस एम पॉवर नाम की संस्था की मदद लेगी। निर्भया दस्ते की अगुआई इलाके की महिला एसीपी या इंस्पेक्टर करेगी। दस्ते में महिला पुलिस उपनिरीक्षक या महिला सहायक पुलिस निरीक्षक के साथ एक महिला व एक पुरुष कांस्टेबल और एक चालक होगा। यह दस्ता इलाके में स्थित स्कूल, कॉलेज, महिला हॉस्टल, मॉल, बागीचा या ऐसी जगहें जहां ज्यादा महिलाएं होतीं हैं वहां गस्त लगाएगा। तैनाती से पहले निर्भया दस्ते में काम करने वाले पुलिसकर्मियों को प्रशिक्षण भी दिया जाएगा।

अगर रात में सफर कर रही किसी महिला ने मदद मांगी तो यह दस्ता उसे सुरक्षित जगहों पर पहुंचने में मदद करेगा। अकेले रहने वाले वरिष्ठ नागरिकों से भी दस्ता नियमित रूप से संपर्क में रहेगा। दस्ता अपनी दैनिक गतिविधियों को शरीर पर लगे कैमरे के जरिए रिकॉर्ड करेगा। इस रिकॉर्डिंग को पुलिस स्टेशनों में सुरक्षित रखा जाएगा। परेशानी की स्थिति में महिलाओं को 103 नंबर डायल करने के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा और जानकारी दी जाएगी। हर स्कूल, कॉलेज और महिला हॉस्टल में निर्भया शिकायत बॉक्स रखा जाएगा जहां महिलाएं अपनी शिकायत लिखकर डाल सकेंगी। पिछले पांच सालों के दौरान महिलाओं के खिलाफ अपराध करने वालों की सूची तैयार कर उन पर नजर रखी जाएगी। 

खबरें और भी हैं...