शहडोल: शहडोल में प्रेमी के साथ मिलकर मूक-बधिर पति की हत्या

January 20th, 2022

डिजिटल डेस्क शहडोल जिले के सिंहपुर थाना क्षेत्रांतर्गत ग्राम बोडऱी में एक महिला ने प्रेमी के साथ मिलकर अपने पति की हत्या कर दी। मूक बधिर युवक की अंधी हत्या का पर्दाफाश करते हुए पुलिस ने चंद घंटों में ही आरोपी महिला व उसके दूर के रिश्तेदार पे्रमी को गिरफ्तार कर लिया है।
ग्राम बोडऱी के डगनिहा टोला स्थित खेत की ओर तालाब की मेढ़ के पास एक व्यक्ति की लाश पड़े होने की सूचना १९ जनवरी की सुबह पुलिस को मिली। शव की शिनाख्तगी महेन्द्र पटेल ३३ वर्ष पिता ननकू पटेल निवासी बोडऱी के रूप में हुई। मृतक की मां सेमवती पटेल 55 वर्ष ने बताया कि उसका लडक़ा महेंद्र 18 जनवरी को प्रात: 8 बजे करीब अपनी पत्नी रामप्यारी के साथ खेत गया था। शाम 5 बजे रामप्यारी वापस घर आ गई। महेन्द्र घर नहीं लौटा तो रात्रि करीब 9 बजे बहू रामप्यारी से पूछा तो उसने बताया कि महेन्द्र अपने ससुराल चला गया है। सुबह गड़ारी तालाब के पास महेन्द्र का शव मिला। गला दबाने का निशान, बाएं कान के नीचे चोट व गाल में सूजन था। 
पति को खेत ले गई, प्रेमी ने घोंटा गला
अज्ञात व्यक्ति द्वारा गला दबाकर एवं मारपीट कर हत्या करने की आशंका पर से हत्या का अपराध पंजीबद्ध कर पुलिस ने विवेचना में लिया। विवेचना के दौरान पुलिस को पता चला कि मृतक महेंद्र पटेल दिमागी रूप से कुछ कमजोर व मूक-बधिर है। उसकी पत्नी रामप्यारी सब्जी कारोबार के लिए शहडोल आना-जाना करती थी। फोन पर अक्सर बातचीत करती रहती थी। चरित्र शंका को लेकर महेंद्र के साथ विवाद भी होता था। यह भी पता चला कि महिला के दूर के रिश्तेदार खन्नाथ निवासी संदीप पटेल २८ वर्ष के साथ उसके संबंध थे। महिला ने बताया कि पति मारपीट करता था। जिससे वह परेशान हो चुकी थी। संदीप के साथ मिलकर प्लानिंग की। १९ जनवरी को उसने फोन पर संदीप को बताया कि वह पति को खेत की ओर ले जा रही है। संदीप वहां पहुंचा और दोनों ने मिलकर पहले महेंद्र को मारापीटा, इसके बाद उसी के गमछे से गला घोंटकर हत्या कर दी। 
पुरस्कृत होगी पुलिस टीम
पुलिस अधीक्षक अवधेश कुमार गोस्वामी के निर्देश पर एएसपी मुकेश वैश्य व डीएसपी सोनाली गुप्ता घटना स्थल का निरीक्षण करने पहुंचे। जिनके मार्गदर्शन में अंधी हत्या का पर्दाफाश करने में थाना प्रभारी सिंहपुर निरीक्षक रामेश्वर उईके, उनि शोभा नामदेव सउनि अरविंद दुबे, विद्यासागर, प्र. आर. विश्वनाथ बंसल, आमेर सिंह, आर. सौरभ मिश्रा, लखन आदि की विशेष भूमिका रही। पुलिस अधीक्षक ने संपूर्ण टीम को पुरस्कृत करने की घोषणा की है।