comScore

नागपुर के मेयो अस्पताल में डॉक्टर ने फांसी लगा कर ली आत्महत्या

नागपुर के मेयो अस्पताल में डॉक्टर ने फांसी लगा कर ली आत्महत्या

डिजिटल डेस्क, नागपुर। इंदिरा गांधी शासकीय चिकित्सा महाविद्यालय और अस्पताल (मेयो) के होस्टल में एक डॉक्टर ने अपने कमरे में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। यह शुक्रवार सुबह 8 से 9 बजे के दौरान की घटना है। मृतक डॉ. मन्नुकुमार वैद्य कर्नाटक का रहनेवाला था। जो मेयो मेडिकल कॉलेज में प्रसूतिशास्त्र के स्नातकोत्तर प्रथम वर्ष का विद्यार्थी रहा। डेढ़ महीने पहले ही उसका एडमिशन हुआ था। निवासी डॉक्टर्स हाेस्टल के कमरा नंबर 33 में रह रहा था। शुक्रवार सुबह उसे अस्पताल जाना था। रोज की तरह उसका दोस्ट लेने के लिए होस्टल पहुंचा। लेकिन वैद्य ने जाने से मना कर दिया। दोस्त के जाने के बाद होस्टल से बाहर चला गया। थोड़ी देर बाद वापस कमरे में पहुंचा और फांसी लगा उसने आत्महत्या कर ली। काफी समय बाद जो वो अस्पताल नहीं पहुंचा तो साथी होस्टल पहुंचा। उसने देखा कमरे का दरवाजा अंदर से बंद था। आवाज लगाकर बुलाने लगा। कमरे से कोई प्रतिसाद नहीं मिला तो खिड़की से झांक कर देखा। तब उसे डॉ. वैद्य फांसी के फंदे पर लटकता हुआ दिखाई दिया। दोस्त ने सबसे पहले होस्टल के गार्ड को यह बात बताई। गार्ड ने अस्पताल प्रशासन को इसकी सूचना दी। अस्पताल प्रशासन की ओर से सूचना मिलने पर पुलिस घटना स्थल पहुंची। फांसी लगाने से पहले उसने कमरे में सुसाइड नोट लिखकर रखा था, जो पुलिस के हाथ लगने की जानकारी मिली है। आत्महत्या का कारण मानसिक तनाव बताया गया। हालांकि तनाव किस बात का था, इसका खुलासा नहीं हुआ है। पुलिस ने पंचनामा कर शव परिजनों को सौंपने की प्रक्रिया शुरु कर दी।

पहले बड़े भाई को फोन किया, बाद में लगाई फांसी

सूत्रों से पता चला है कि फांसी लगाने से पहले उसने अपने बड़े भाई को फोन किया था। भाई को बताया कि वह आत्महत्या कर रहा है। भाई ने उसे आत्मघाती कदम उठाने से रोकने का प्रयास किया, लेकिन वो बात मानने के लिए तैयार नहीं था। यह देख भाई ने अधिष्ठाता को फोन पर सूचना देकर उसे रोकने का आग्रह किया। अधिष्ठाता से सूचना मिलने पर अस्पताल से कुछ लोग उसे बचाने होस्टल पहुंचे, तब तक देर हो चुकी थी। इस संबंध में अधिष्ठाता डॉ. अजय केवलिया ने कुछ भी कहने से इंकार कर दिया।

कमेंट करें
b6tQp