दैनिक भास्कर हिंदी: नागपुर विभाग में 11 लाख बीपी के व 3 लाख शुगर से पीड़ित, फ्री में दवा देने की तैयारी

August 27th, 2019

डिजिटल डेस्क, नागपुर। नागपुर विभाग में 11 लाख लोग ब्लड प्रेशर व 3 लाख लोग शुगर से पीड़ित है। 30 साल से ज्यादा आयु वर्ग के लोगों में 25 फीसदी को बीपी व 7 फीसदी लोगों को शुगर है। देश में तेजी से फैल रहे बीपी, शुगर की रोकथाम के लिए सरकार की तरफ से पीड़ित लोगों को नि: शुल्क दवा दी जाएगी। विभागीय आयुक्त डा. संजीवकुमार ने कहा कि नियमित इलाज करने से बीपी व शुगर से होनेवाली अन्य बीमारियों पर 50 फीसदी तक काबू पाया जा सकता है।   

विभागीय आयुक्तालय में पत्रकारों से चर्चा के दौरान डा. संजीवकुमार ने बताया कि बीपी व शुगर के कारण हार्ट अटैक, पक्षाघात, किडनी, रेटीना जैसी बीमारी बढ़ने का खतरा बढ़ जाता है। बहुत से लोग नियमित रूप से इलाज नहीं करने के कारण बीपी, शुगर काबू में नहीं आ पाता। नियमितरूप से इलाज व दवा ली गई तो इन रोगों पर काबू पाया जा सकता है। कई पीड़ित लोग बीच में इलाज करना छोड़ देते है। सर्वे में यह सामने आया है कि 30 साल से ज्यादा आयु के लोगों में 25 फीसदी लोग बीपी व 7 फीसदी लोग शुगर से पीड़ित है। नियमित इलाज व दवा लेने से बीपी, शुगर व इससे होनेवाली अन्य बीमारियों पर काबू पाया जा सकता है।

बीपी, शुगर के रोगी को गुणवत्तापूर्ण इलाज व नियमित दवा मिलनी चाहिए। केंद्र व राज्य सरकार की और से भारतीय उच्च रक्तदाब नियंत्रण कार्यक्रम नवंबर 2018 से भंडारा व वर्धा में चलाया जा रहा है। इसी तरह कैंसर, शुगर, हृदयरोग, पक्षाघात नियंत्रण कार्यक्रम भंडारा व वर्धा में अप्रैल 2018 से चलाया जा रहा है। अब बीपी व शुगर के नियंत्रण के लिए एएनएम व आशा वर्कर घर-घर जाएंगी। संबंधित लोगों का इलाज किया जाएगा। सरकार की तरफ से इन्हें नि: शुल्क दवा दी जाएगी। उन्होंने कहा कि नागपुर समेत हर जिले में सेंटर व सब सेंटर बनेंगे। यहां डाक्टर रोगियों का इलाज करेंगे। जिला, तहसील व ग्रामीण स्तर पर प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों में इलाज की विशेष व्यवस्था होगी। सर्वे में सामने आए पीड़ितों के इलाज की व्यवस्था होगी। आयुष्मान भारत योजना के माध्यम से रोगियों को लाभ दिया जाएगा। प्रेजेंटेशन के माध्यम से भी बीपी व शुगर के आंकडों को पेश किया गया।  इस अवसर पर जिला परिषद के सीईआे संजय यादवा व स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी उपस्थित थे। 

खबरें और भी हैं...