comScore

नागपुर : रेल पर कोहरे की मार, 6 दिन में 1 करोड़ 26 लाख की टिकट हुई कैंसिल

नागपुर : रेल पर कोहरे की मार, 6 दिन में 1 करोड़ 26 लाख की टिकट हुई कैंसिल

डिजिटल डेस्क, नागपुर। कोहरे कारण दिसंबर के आखिर से ट्रेनों की रफ्तार धीमी हो गई है। जिसका सीधा असर रेलवे के खजाने पर पड़ा है। आंकड़ों के अनुसार जनवरी के मात्र 6 दिनों में एक करोड़ 26 लाख रुपए से ज्यादा के टिकट कैन्सिल हुए हैं। इसमें ज्यादातर गाड़ियों की लेटलतीफी वजह मानी जा रही है। कड़ाके की ठंड और बीच-बीच में होनेवाली बारिश के कारण पहाड़ी इलाकों में कोहरा छाया रहा। मीलों दौड़नेवाली ट्रेनों के आगे कोहरा आने से सुरक्षा की दृष्टी से रेल कॉशन पर चलाई जाती है। ताकि आपातकालीन स्थिति में सुरक्षा का ध्यान रखा जाता है, लेकिन 110 की रफ्तार पर चलनेवाली गाड़ियों को एकाकी 60 और 40 की रफ्तार पर चलाने से गंतव्य तक पहुंचने में देरी होती है। दिल्ली लाइन की गाड़ियां लगातार 11-11 घंटों तक देरी से आ रही हैं। जिसमें देहरादून-मधुराई एक्सप्रेस, निजामुद्दीन-रायगढ़ एक्सप्रेस, दिल्ली-हैद्राबाद एक्सप्रेस, निजामुद्दीन-बंगलुरू एक्सप्रेस, तेलंगाना-नई दिल्ली एक्सप्रेस, जीटी एक्सप्रेस, दक्षिण एक्सप्रेस आदि ट्रेनें शामिल हैं। 

यात्रियों को लंबा इंतजार भारी पड़ रहा है। यही कारण है कई यात्रियों ने टिकटें कैन्सिल कर दी है। 1 जनवरी से 6 जनवरी की बात करें तो नागपुर विभाग में 21 हजार 8 सौ 74 यात्रियों ने टिकट वापस कर 1 करोड़ 62 लाख 23 हजार 8 सौ 17 रुपए का रीफंड लिया है। इसमें केवल संतरा नगरी के रेलवे स्टेशन की बात करें, तो 15 हजार 9 सौ 52 यात्रियों ने टिकटें रद्द की है। कुछ ने निजी और एसटी बसों का रूख किया। जिससे भारी परेशानी का सामना भी करना पड़ा।
:
रेलवे की उपाययोजना बेकार

इस बार कोहरे पर वार का तर्क देकर रेलवे ने ट्रेनें लेट नहीं होने का विश्वास भी दिलाया था। इसके लिए तकनीक का इस्तमाल भी किया था, लेकिन लगातार देरी से पहुंचनेवाली ट्रेनों ने दावों की पोल खोल दी। दिसंबर में भी कई टिकटों के कैन्सिलेशन हुए, हालांकि क्रिसमस के कारण ट्रेनें खचाखच होने के चलते भी कई यात्रियों ने सफर न करना ही मुनासिब समझा।

 

कमेंट करें
uMqre