बड़ा लक्ष्य: 780 करोड़ रुपए में नागपुर बनेगा लॉजिस्टिक कैपिटल

February 11th, 2022

डिजिटल डेस्क, नागपुर. देश के मध्य भाग स्थित नागपुर को लॉजिस्टिक कैपिटल बनाने की केंद्र सरकार की योजना है। 780 करोड़ की लागत से वर्धा के सिंदी नगरपालिका परिषद अंतर्गत 230 एकड़ जमीन पर मल्टी मॉडल लॉजिस्टिक पार्क विकसित किया जाएगा। इसके लिए फरवरी में निविदा प्रक्रिया पूरी की जाएगी। इसके साकार होने के बाद यहां से धातु, रसायन, सीमेंट, कपास, कृषि उपज खाद्य तेल, चमड़ा, रबर, प्लास्टिक, मशीनरी, कागज, लकड़ी और लकड़ी के उत्पाद देश-विदेश में आयात-निर्यात किए जा सकेंगे। इसका मुख्य सेंटर नागपुर होगा।  केंद्र सरकार द्वारा करीब 2 लाख करोड़ की लागत से देश भर में कुल 35 मल्टी मॉडल लॉजिस्टिक पार्क तैयार करने की योजना है, जिनमें से एक लॉजिस्टिक पार्क सिंदी में तैयार किया जाएगा। 

लागत 8 से 10 फीसदी करने का लक्ष्य

देश के विविध इलाकों  में बनाए जाने वाले 35 लॉजिस्टिक पार्क की लागत 14 फीसदी से घटाकर 8 से 10 फीसदी तक करने की योजना है। गुवाहाटी के जोगीगोपा में 1 व चेन्नई में 1 मल्टी मॉडल लॉजिस्टिक पार्क निर्माणाधीन है। देश के मध्य भाग सिंदी में तीसरा पार्क तैयार किया जा रहा है। यहां 50 हजार युवाओं को रोजगार उपलब्ध कराया जाएगा। सिंदी में मल्टी मॉडल लॉजिस्टिक पार्क विकसित करने के लिए अब तक केवल एमओयू पर हस्ताक्षर हुए हैं। जवाहरलाल नेहरू पोर्ट ट्रस्ट की ओर से संजय सेठी व नेशनल हाईवे लॉजिस्टिक्स मैनेजमेंट लि. की ओर से प्रकाश गौर द्वारा एमओयू पर हस्ताक्षर की प्रक्रिया पूर्ण की गई है। 

आयात-निर्यात का केंद्र बनेगा नागपुर

नागपुर में 125 सॉ-मिल हैं, जहां से फर्नीचर निर्यात किए जा सकते हैं। यहां महिंद्रा ट्रैक्टर कंपनी, मारुति-सुजुकी मोटर्स की यूनिट हैं तथा लॉजिस्टिक पार्क तैयार होने पर देश की नामी-गिरामी कंपनियों की इकाइयां भी स्थापित होने की संभावना है। इसका लाभ देश को मिलेगा। नागपुर से बांग्लादेश को संतरे का निर्यात किया जा सकेगा। इसके अलावा विदेश में अन्य उत्पाद निर्यात के लिए बांग्लादेश के एक बंदरगाह का उपयोग करने की योजना है। मुंबई जैसे बंदरगाह के रूप में सिंदी ड्रायपोर्ट को विकसित करने के लिए 780 करोड़ रुपए का प्रावधान किया गया है। इसमें से 127 करोड़ रुपए भू-संपादन व रेलवे कनेक्टिविटी पर खर्च किए जाएंगे। नागपुर को लॉजिस्टिक कैपिटल के रूप में विकसित करने के लिए विविध स्तर पर प्रयास शुरू हैं, जिसमें नागपुर से हैदराबाद एक्सप्रेस हाईवे, ड्रायपोर्ट से रेलवे की कनेक्टिविटी आदि काम शुरू किए जाने हैं। 

शीघ्र निविदा प्रक्रिया पूरी होगी

अभिजीत जिचकार, प्रकल्प अधिकारी, भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण के मुताबिक लॉजिस्टिक पार्क के लिए निविदा जारी की जानी थी, जो किन्हीं कारणों से निरस्त हो गई। फरवरी के अंत तक इसके लिए निविदा की प्रक्रिया पूर्ण की जाएगी। उसके बाद निर्माण कार्य शुरू किया जाएगा।