comScore

नागपुर यूनिवर्सिटी : एलआईटी में 25 शिक्षकों की नियुक्ति की तैयारी 

नागपुर यूनिवर्सिटी : एलआईटी में 25 शिक्षकों की नियुक्ति की तैयारी 

डिजिटल डेस्क, नागपुर।  शहर के लक्ष्मीनारायण इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (एलआईटी) को ऑटोनॉमी दिलाने की कवायद फिर शुरू हो गई है। राष्ट्रसंत तुकड़ोजी महाराज नागपुर विश्वविद्यालय द्वारा संचालित इस संस्थान में 25 शिक्षकों के पद भरने की तैयारी शुरू की गई है। हाल ही में इस संबंध में विवि कुलगुरु डॉ. सिद्धार्थविनायक काणे और प्रभारी प्र-कुलगुरु डॉ. विनायक देशपांडे ने मुंबई में उच्च व तकनीकी शिक्षा विभाग प्रधान सचिव सौरभ विजय से मुलाकात की और पदभर्ती की जरूरत बताई। ऐसे में अब विभाग की ओर से उत्तर आने के बाद विश्वविद्यालय इस दिशा में प्रस्ताव भेजने वाला है। गौरतलब है कि इस पूरे मामले पर हाईकोर्ट अपनी नजर रखे हुए है। हाईकोर्ट के आदेश के बाद ही मुंबई मंे उच्च अधिकारियों की यह बैठक संपन्न हुई। जिसकी रिपोर्ट भी जल्द ही कोर्ट में प्रस्तुत की जानी है। 

एनबीए मूल्यांकन दिलाना जरूरी
डॉ. विनायक देशपांडे के अनुसार एलआईटी को ऑटोनॉमी दिलाने के उद्देश्य से संस्थान को एनबीए मूल्यांकन दिलाना जरूरी है। एनबीए का मूल्यांकन तब ही संभव है जब संस्थान में पर्याप्त शिक्षकों की नियुक्तियां हों। पिछले वर्ष ही संस्थान में 16 शिक्षकों की नियुक्ति की गई थीं। अब और 25 शिक्षकों की नियुक्ति की तैयारी की जा रही है। लेकिन यह प्रक्रिया उच्च व तकनीकी शिक्षा विभाग के निर्देशों के अधीन रहेगी। उल्लेखनीय है कि एलआईटी पूर्व छात्र संगठन सदस्य प्रसन्ना सोहडे ने संस्थान के विकास के मुद्दे पर हाईकोर्ट में जनहित याचिका दायर की है। एलआईटी में टेक्नोलॉजी की 6, एम.टेक की 4 और केमिकल की 7 शाखाएं हैं। संस्थान में 680 विद्यार्थियों की प्रवेश क्षमता है, लेकिन वर्तमान में संस्था में बड़ी संख्या मंे पद रिक्त होने का बुरा प्रभाव संस्थान की शैक्षणिक और प्रशासनिक कार्यप्रणाली पर पड़ रहा था।पूर्व में इसी याचिका के आधार पर हाईकोर्ट ने संस्थान में पदभर्ती का आदेश जारी किया था।
 

कमेंट करें
92mDC