दैनिक भास्कर हिंदी: नवोदय बैंक घोटाला : एक और संचालक गिरफ्तार, आरोपियों की संख्या 40 से अधिक

September 18th, 2019

डिजिटल डेस्क, नागपुर। नवोदय बैंक घोटाला प्रकरण में आर्थिक अपराध शाखा पुलिस ने एक और संचालक को गिरफ्तार किया है। आरोपी का नाम विजय रामभाऊ बाभरे (59), सिरसपेठ निवासी है। पुलिस ने बताया कि, यह आरोपी भी बैंक का संचालक है। आरोपी को पुलिस ने न्यायालय के समक्ष पेश किया। न्यायालय ने आरोपी विजय बाभरे को 21 सितंबर तक पुलिस रिमांड में भेज दिया है।

कर्ज देने के बाद नहीं की वसूली

पुलिस सूत्रों के अनुसार वर्ष 2010 से 2015 के दरमियान उक्त बैंक के तत्कालीन संचालक मंडल, पदाधिकारियों ने बैंक के कुछ निर्धारित कर्जदारांे काे बिना कारण ही कर्ज दे दिया। उसी तरह कुछ कर्जदारों पर बकाया रकम होने के बाद भी उन्हें अनापत्ति प्रमाण-पत्र देकर उनकी गिरवी रखी संपत्ति को बैंक ने वापस कर दिया। कुछ विवादित संपत्ति को गिरवी रखकर बैंक के संचालक मंडल और पदाधिकारियों ने कर्ज मंजूर कर दिया। संचालक व पदाधिकारियों ने बैंक से कर्ज देने के बाद वसूली नहीं की। उसी तरह रिजर्व बैंक द्वारा अार्थिक लेन-देन पर रोक लगाने के बाद भी बैंक के पदधिकारियों ने बैंक से आर्थिक व्यवहार शुरू रखा। इस तरह आरोपियों ने करीब 38 करोड़ 75 लाख 20 हजार 641 रुपए की अफरा-तफरी की। यह बात तब सामने आने पर सहकारी संस्था के जिला विशेष लेखा परीक्षक श्रीकांत सुपे ने धंतोली थाने में बैंक के संचालकों और पदाधिकारियों के खिलाफ धोखाधड़ी का मामला दर्ज कराया। इस प्रकरण की जांच आर्थिक अपराध शाखा पुलिस कर रही है। इस प्रकरण में पूर्व विधायक अशोक धवड़ सहित 40 से अधिक आरोपी शामिल हैं। इसमें से 7 आरोपियों की गिरफ्तारी पहले हो चुकी है। 

हेमंत झाम और उसके साथी हैं रिमांड पर

इस प्रकरण में झाम बिल्डर्स कंपनी का मालिक  हेमंत झाम और उसके साथी यौवन गंभीर को दो दिन पहले पुलिस ने गिरफ्तार किया है। यह दोनों आरोपी 19 सितंबर तक पुलिस रिमांड पर हैं। इस प्रकरण में मंगलवार को विजय  बाभरे को गिरफ्तार किया गया। पुलिस का कहना है िक, बैंक सेे कर्ज मंजूर करने वाली उप-समिति में आरोपी बाभरे भी सदस्य था। कर्जदारों के दिवालिया होने की जानकारी होने के बाद भी उन्हें करोड़ों रुपए का कर्ज दे दिया गया। इसलिए विजय को इस प्रकरण में आरोपी बनाया गया है। 

खबरें और भी हैं...