comScore

मुखबिरी के संदेह में नक्सलियों ने दो की ले ली जान, फिर मचाने लगे हैं आतंक

December 03rd, 2019 15:40 IST
मुखबिरी के संदेह में नक्सलियों ने दो की ले ली जान, फिर मचाने लगे हैं आतंक

डिजिटल डेस्क, गड़चिरोली। नक्सलियों का पीपल्स लिबरेशन गुरिल्ला आर्मी (पीएलजीए) सप्ताह शुरू है  सप्ताह के पहले ही दिन नक्सलियों ने पुलिस मुखबिरी  के संदेह में दो लोगों की गोली मारकर निर्ममतापूर्वक हत्या कर दी गई। मृतकों के नाम एटापल्ली तहसील के ग्राम पुरसलगोंदी निवासी मासो ढेबला पुंगाटी(55) और ऋषि लालू मेश्राम(52) है। इस घटना से समूचे जिले में हड़कंप मच गया है। बता दें कि,  नक्सलियों ने पीएलजीए सप्ताह के पूर्व जिले के विभिन्न स्थानों पर पर्चे फेंका और जगह-जगह बैनर लगाए। लेकिन दुर्गम क्षेत्र में ग्रामीणों द्वारा नक्सली बैनर जलाकर नक्सल सप्ताह का विरोध जताया गया। जिसके कारण नक्सली पूरी तरह बौखलाए हुए हैं। इसी बीच रविवार रात को नक्सलियों ने तहसील के पुरसलगोंदी गांव में प्रवेश किया।  दोनों   को नींद से जगाकर गांव के बाहर ले गए और दोनों पर पुलिस मुखबिरी का आरोप लगाते हुए उन पर अंधाधुन गोली मारी, जिसमे दोनों की मौके पर ही मौत हो गई। बता दें कि, पिछले 25 दिनों में नक्सलियों ने जिले में कुल चार लोगों की निर्मम हत्या की है। इससे पहले कोरची तहसील के ग्राम भिमनखोजी निवासी 17 वर्षीय नाबालिग की गोली मारकर हत्या की थी। वहीं इसी तहसील में अन्य एक व्यक्ति की हत्या की गयी थी।

पुंगाटी पुलिस पटेल नहीं, नक्सल समर्थक
इस संदर्भ में पुलिस विभाग द्वारा जारी एक प्रेस विज्ञप्ति में कहा गया है कि, नक्सलियों के हाथों मारा गया मासो पुंगाटी यह पुलिस पटेल न होकर नक्सल समर्थक था। उसके एआरडी/जीआरडी सदस्य होने की बात कही जा रही  है। मृतक दोनों व्यक्ति सुरजागढ़ परियोजना में काम पर जाने से नक्सलियों ने उनकी हत्या की, ऐसी बात पुलिस विभाग ने साझा की है। 

लगातार मिल रही शिकस्त से बौखला गये हैं नक्सली 
पिछले कुछ दिनों से हर मोड़ पर नक्सलियों को शिकस्त मिल रही है। बड़े कैडर के नक्सलियों का समर्पण हो या मुठभेड़ के दौरान नक्सलियों को मिल रही हार। हर मोड़ पर पुलिस नक्सलियों पर हावी हो रही है। लगातार बैकफुट पर जा रहे नक्सली अब बौखला गये है। इसी कारण वे पर्यटन स्थलों का विरोध जताकर लोगों में दहशत निर्माण करने का प्रयास कर रहे हैं। नक्सलियों को इसका जवाब जरूर दिया जाएगा।  - शैलेश बलकवडे, पुलिस अधीक्षक, गड़चिरोली

कमेंट करें
kiVIU