दैनिक भास्कर हिंदी: नक्सलियों ने पुलिया के नीचे लगा रखी थी विस्फोटक, पुलिस ने बड़ी संख्या में जब्त की सामग्री

June 3rd, 2019

डिजिटल डेस्क, गोंदिया। सालेकसा तहसील अंतर्गत आने वाले टेकाटोला से मुरकुडोह क्रमांक तीन की ओर जाने वाले मार्ग पर  पुलिया के नीचे भूमिगत सुरंग बनाकर बड़ी घटना को नक्सलियों द्वारा अंजाम देने के लिए 10  किलो विस्फोटक लगाया था। जिसे पुलिस द्वारा रिफ्यूज किया गया। यहां से बड़ी मात्रा में विस्फोटक सामग्री बरामद की गई। पुलिस अधीक्षक विनिता साहू ने पत्र परिषद में  यह जानकारी दी। 

गौरतलब  है कि गोंदिया जिले में नक्सलियों  द्वारा फिर से बड़ी घटना को अंजाम देने की तैयारियां की जा रही है। जिसे पुलिस की सतर्कता से नाकाम कर दिया गया है। जिले के सालेकसा तहसील छत्तीसगढ़ की सीमा से लगी हुई है। यहां घने जंगलों में स्थित ग्राम टेकाटोला से मुरकुडोह क्र. 3 की ओर जाने वाले मार्ग में एक पुलिया के नीचे नक्सलियों द्वारा विस्फोट कर बड़ी घटना को अंजाम देने के उद्देश्य से 10  किलो विस्फोटक लगाया गया  था। जिसकी गुप्त जानकारी प्राप्त होने पर 1 जून को पुलिस द्वारा विस्फोटक जब्त किया  गया। जिसमें एक बड़े डिब्बे में 10  किलो के करीब सिल्वर रंग का दानेदार विस्फोटक पदार्थ, 1 जिलेटिन, सुपर पॉवर 90 सोलर 125 ग्राम,1 इलेक्ट्रिक डिटोनेटर, काले रंग का फ्लैकजिबल, इलेक्ट्रिक वायर 135 फीट तथा हरे रंग का 175  फुट वायर जब्त किया है।

विशेष यह है कि गत मई माह में गड़चिरोली में नक्सलियों द्वारा बड़ी घटना को अंजाम दिया था। जिसमें 16  जवान शहीद हो गए थे। जिसके पश्चात अब जिले में भी इसी प्रकार की घटना को अंजाम देने की तैयारी नक्सलियों द्वारा की जा रही थी। उपरोक्त मामले में पुलिस अधीक्षक विनीता शाहू के नेतृत्व में आमगांव के उपविभागीय पुलिस अधिकारी जालीदंर नालकुल के मार्गदर्शन में सी-60  पथक व बम स्कॉड द्वारा सर्च ऑपरेशन कर यह कार्रवाई की गई। इसके पश्चात सालेकसा पुलिस थाने में नक्सलियों द्वारा पुलिस पथक पर हमला करने के उद्देश्य से विस्फोटक सामग्री लगाने के मामले में प्रतिबंधित माओवादी संगठन के सीसीएम मिलिंद उर्फ दिलीप तेलतुबडे व अन्य 29  साथियों के खिलाफ भादंवि की धारा 307, 120 (ब) सहायक धारा 4,भारतीय हथियार कानून सहकलम 16 , 20 , 23  के तहत मामला दर्ज कर आगे की जांच उपविभागीय पुलिस अधिकारी आमगांव द्वारा की जा रही है।

गौरतलब है कि सालेकसा क्षेत्र तथा जिले में पुलिस सूत्रों के अनुसार वर्तमान में तीन नक्सली दलम कार्यरत है। जिसमें तांडा दलम, मलाजखंड दलम व दरेकसा दलम शामिल  है। जिसमें गत माह दरेकसा दलम की कमांडर रानू उर्फ रामा येशु नरेटे की गड़चिरोली पुलिस द्वारा मुठभेड़ में मौत हो गई थी। इसके अलावा पुलिस अधीक्षक ने जानकारी देते हुए बताया कि विभाग द्वारा जिले के आदिवासी दुर्गम क्षेत्र के नागरिकों के लिए, नक्सलियों द्वारा फैलाए गए भ्रम को दूर करने, समय-समय पर चिकित्सा शिविर, पुलिस भर्ती पूर्व प्रशिक्षण, समर कैंप, जूड़ो-कराटे स्पर्धा, स्पर्धा परीक्षा मार्गदर्शन, वाचनालय चलाए जा रहे है। महिलाओं, किसानों के लिए विभिन्न योजनाएं व कार्यक्रमों के माध्यम से उन्हें शासन के समीप लाने का एक बड़ा प्रयास किया जा रहा है। जिससे ग्रामीणों द्वारा अब नक्सलियों का विरोध किया जा रहा है। साथ ही जिले में करीब 250  विद्यार्थी यशवंतराव चव्हाण मुक्त विद्यापीठ के माध्यम से शिक्षा ग्रहण कर रहे है।  पत्र परिषद में पुलिस अधीक्षक विनीता शाहू, उपविभागीय पुलिस अधिकारी जालीदंर नालकुल, प्रशांत ढोले, सालेकसा के निरीक्षक राजकुमार डुनगे उपस्थित थे।